शिलांग

Tripoto
15th Jan 2019
Photo of शिलांग by shub
Day 1

शिलांग पर्यटन स्थल मेघालय की राजधानी हैं। यह देश का ऐसा पहला ऐसा हिल स्टेशन हैं जहां चारों तरफ से जा सकते हैं। शिलांग का नाम एक शक्तिशाली देवता U-Shyllong के नाम पर रखा गया हैं। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई लगभग 1,491 मीटर और गुवाहाटी से शिलांग की दूरी लगभग 100 किलोमीटर हैं। शिलांग हिल स्टेशन को बादलो का निवास स्थान भी कहां जाता है। अपनी रमणीय पहाड़ियों के कारण इसे “पूर्व का स्कॉटलेंड” भी कहां जाता हैं। इसका सबसे उच्तम बिंदु 6,449 फीट उंचा हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार शिलांग भारत में सबसे अधिक आबादी वाला 330 वां शहर था। यदि आप शिलांग के पर्यटन स्थल घूमने की ख्वाइश रखते हैं और इसके बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े

शिलांग के प्रमुख पर्यटन स्थल-

शिलांग शहर कई पर्यटन स्थलों से सुसज्जित हैं। शिलांग घूमने आने वाले पर्यटकों की संख्या बहुत अधिक होती हैं। तो क्यों न आप भी एक बार इस प्राकृतिक प्रदेश की यात्रा निकले और इसकी सुन्दरता का लुत्फ़ उठाएं। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको शिलांग के पर्यटन स्थलों की जानकारी देते हैं।

शिलांग में घूमने की जगह उमियम झील

शिलांग में घूमने वाली जगह में उमियम झील एक मानव निर्मित झील है। यह झील भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य मेघालय कि राजधानी शिलांग से 15 किलोमीटर कि दूरी पर उत्तर दिशा में स्थित हैं। यह झील उन लोगो के लिए स्वर्ग कि तरह हैं जो प्रकृति कि खूबसूरती में दिलचस्पी रखते हैं। यह एक शानदार पिकनिक स्पॉट हैं।

शिलांग में पर्यटन स्थल शिलांग पीक
शिलांग के पर्यटन स्थल में शामिल शिलांग पीक समुद्र तल से 6449 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं और यह शिलांग का सबसे उच्चतम बिंदु हैं। इस झरने के साथ-साथ मेघालय राज्य पर्यटकों को शानदार और मनोरम दृश्य को प्रस्तुत करता हैं। सैलानिया दूरबीन के माध्यम से पक्षियों का आकर्षित दृश्य देख सकते हैं। यह स्थान कोहरे से घिरा हुआ रहता हैं।

शिलांग में मस्ती करने के लिए हाथी झरना –
शिलांग के पर्यटन स्थलों में हाथी फाल्स एक प्रमुख स्थल है और यह उत्तर पूर्व राज्य में सबसे लोकप्रिय फॉल्स में से एक हैं। हाथी का झरना पर्यटकों के लिए एक स्वर्ग के सामान है। अंग्रेजों ने इस जलाशय को हाथी के आकार के कारण हाथी झरना या एलीफैंट फाल्स नाम दिया था। हलाकि 1897 में आएं भूकंप के चलते यह पत्थर क्षतिग्रस्त हो गया है।

पर्यटन में घूमने वाली जगहें मावलिननांग गांव
शिलांग में देखने के लिए यहां का मावलिननांग गांव पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन हुआ हैं। मेघालय राज्य के मावलिननांग गांव को ‘गॉड्स ओन गार्डन’ के रूप में भी जाना जाता है। वर्ष 2003 में इस गांव ने एशिया के सबसे स्वच्छ गांव होने का दर्जा प्राप्त किया हैं। वर्ष 2014 के सर्वेक्षण के अनुसार इस गांव में लगभग 95 मकान, कृषि पर निर्भर लोगो के बीच साक्षरता दर 100% और मुख्य कृषि सुपारी थी। शिलांग का मावलिननांग गांव क्लीनेस्ट विलेज इन इंडिया के रूप में भी जाना जाता हैं।

शिलांग में करने के लिए डेविड स्कॉट ट्रेल
डेविड स्कॉट ट्रेल मेघालय राज्य में सबसे लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्ग हैं। इस मार्ग का नाम 1800 के दशक में एक ब्रिटिश अधिकारी डेविड स्कॉट द्वारा रखा गया था। इस मार्ग का उपयोग बांग्लादेश और असम के बीच किया जाता हैं। इस स्थान पर ट्रैक के लिए अक्टूबर और नवम्बर महिना सबसे अच्छा रहता हैं।

शिलांग के दर्शनीय स्थल वार्ड की झील
शिलांग शहर के मध्य में स्थित वार्ड की झील हैं शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है और शिलांग यात्रा पर आने वाले पर्यटकों के लिए यह झील बहुत खास हैं। यह हरे-भरे बगीचे से घिरी हुई एक कृत्रिम झील हैं। इस झील को पोलक की झील के नाम से भी जाना जाता हैं और यह एक शानदार पिकनिक स्पॉट हैं।

शिलांग में घूमने लायक जगह मौसिनराम
मौसिनराम दुनिया के सबसे शानदार पर्यटन स्थलों में से एक हैं। बारिश का लुत्फ़ उठाने वाले और प्रकृति प्रमियों के लिए स्थान एक स्वर्ग के सामान हैं। मासिनराम और चेरापूंजी एक दूसरे के नजदीक हैं। मासिनराम का अर्थ “माव” खासी शब्द से लिया गया हैं जिसका अर्थ पत्थर है। इस गांव का आकार शिवलिंगम की भाती हैं और यह गांव स्टैलाग्माइट को एकत्रित करने के लिए जाना जाता हैं।

शिलांग यात्रा में देखने के लिए डॉन बॉस्को संग्रहालय
शिलांग में घूमने के लिए डॉन बॉस्को संग्रहालय पूरे उत्तर पूर्वी भारत के बारे में सामूहिक जानकारी को एक स्थान पर एकत्रित करके रखने वाला स्थान हैं। इसमें एक थीम संग्रहालय, पोशाक, हस्तशिल्प, संग्रहालय में क्षेत्रीय कलाकृति, अलंकरण, तस्वीरों और हथियारों को एकत्रित करके रखा गया हैं। यह संग्रहालय एक सात मंजिला ईमारत हैं।

शिलांग में आकर्षण स्थान लेडी हैदरी पार्क
शिलांग के पर्यटन स्थल लेडी हैदरी पार्क यहां आने वाले प्रत्येक टूरिस्ट की पसंदीदा जगह हैं। इस पार्क प्रांत की पहली महिला “लेडी हैदरी” को समर्पित किया गया है। इस विशाल पार्क एक को एक सुंदर मिनी चिड़ियाघर के रूप में भी जाना जाता है। लेडी हैदरी पार्क में 73 पक्षियों की प्रजाति और 100 से अधिक सरीसृपों को एक साथ देखा जा सकता हैं।

शिलांग टूरिज्म में घूमे स्वीट फॉल्स
शिलांग घूमने वाली जगहों में स्वीट फाल्स देश के सबसे विशाल और सबसे शानदार झरनों में से एक हैं। हैप्पी वैली से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह आकर्षित स्वीट फाल्स पर्यटकों के बीच लौकप्रिय पिकनिक स्पॉट हैं। स्वीट फाल्स कि ऊंचाई 96 मीटर हैं। इस झरने का सफर थोडा मुस्किलो से भरा हुआ होता हैं।

शिलांग की फेमस टूरिस्ट प्लेस नोहसिंगिथियांग फॉल्स
शिलांग के पर्यटन स्थलो नोहसिंगिथियांग फॉल्स चेरापूंजी से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। यह झरना चेरापूंजी के प्रमुख पर्यटन स्थलों शामिल हैं। यह झरना भारत के सबसे उंचे झरनों में से एक हैं और लगभग 1033 फीट ऊंचाई से गिरता हैं। नोहसिंगिथियांग फॉल्स मेघालय के मव्समाई गांव में स्थित हैं।

शिलांग में घूमने का स्थान स्प्रेड ईगल फॉल्स
शिलांग में घूमने वाली जगहों में यहां का स्प्रेड ईगल फॉल्स एक शानदार पर्यटन स्थल है। स्प्रेड ईगल झरना शिलांग के खासी जिले में छावनी से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं यह झरना शिलांग के सबसे चौड़े झरनों में से एक माना जाता हैं। शिलांग यात्रा के दौरान सती जलप्रपात या उर्कलियार के नाम से फेमस इस झरने को घूमने जरूर जाएं।

शिलांग में देखने लायक जगह मावफलांग

शिलांग के प्रमुख पर्यटक स्थलों में घूमने वाली जगहों में यहां का मावफलांग गांव एक प्रमुख स्थान हैं। यह भारत के उत्तर-पूर्व  राज्य मेघालय की राजधानी शिलांग से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। यह स्थान पवित्र वन के बीच में स्थित हैं। पवित्र वन क्या हैं यदि यह जानना हैं इस स्थान का दौरा करना चाहिए।

शिलांग शहर में वॉटरफॉल जकार्म फाल्स
शिलांग में घूमने की जगह जकार्म सल्फर का एक प्रसिद्ध गर्म पानी का झरना है। शिलांग शहर से लगभग 64 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह स्थान यहां के स्थानीय लोगों के बीच हॉट स्प्रिंग्स के रूप में लोकप्रिय है।

शिल्लोंग में स्थित मेघालय राज्य संग्रहालय
मेघालय राज्य संग्रहालय सैलानियों के लिए एक आकर्षण पर्यटन स्थल है। जिसमे आदिवासी के समय की कलाकृतियों और प्राचीन शास्त्रों का संग्रह करके रखा गया हैं। यह खूबसूरत संग्रहालय स्टेट सेंट्रल लाइब्रेरी परिसर में लाइचुमियर में स्थित है और इसका रखरखाव मेघालय राज्य सरकार द्वारा किया जाता हैं।

शिलांग पर्यटन स्थलों के भ्रमण में खासी हिल्स
शिलांग के पर्यटन स्थलों में शामिल खासी हिल्स मेघालय की खासी जनजाति के नाम पर बनाई गई हैं। खासी पहाड़ी गारो-खासी रेंज का एक हिस्सा हैं और बड़ी पटकाई पहाड़ी की श्रृंखला के एक हिस्से के रूप में जाना जाती हैं। जोकि उत्तर-पूर्व क्षेत्र में भारत और म्यांमार की सीमा पर पहाड़ी की एक श्रंखला हैं। एशिया का दूसरा सबसे बड़ा नदी द्वीप “नोंगखुम द्वीप” भी इस आकर्षित स्थान पर हैं।

शिलांग टूरिज्म में देखने वाली जगह संग्रहालय
शिलांग में घूमने के लिए असंख्य संग्रहालय हैं। वानखर एंटोमोलॉजी संग्रहालय, बटरफ्लाई संग्रहालय, अरुणाचल राज्य संग्रहालय, मेघालय राज्य संग्रहालय और राइनो संग्रहालय शिलांग यात्रा के दौरान आप देख सकते हैं।

शिलांग का आकर्षण स्थल सोहपेटबिनेंग
शिलांग के पर्यटन स्थलों में शामिल सोहपेटबिनेंग समुद्र तल से 1343 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक प्राकृतिक स्थान हैं। सोहपेटबिनेंग शब्द का स्थानीय भाषा में अर्थ ‘स्वर्ग की नाभि’ और वास्तव में स्वर्ग होता है।

शिलांग में टूरिस्ट स्पॉट कैलांग रॉक
शिलांग के आकर्षित पर्यटन स्थलों में से एक कैलांग रॉक लाल ग्रेनाइट से बनी एक खूबसूरत और अनोखी विशालकाय चट्टान हैं। जोकि मेघालय राज्य के पश्चिम खासी हिल्स में रखा गया एक विशाल गुंबद है। समुद्र तल से इस चट्टान की ऊंचाई  लगभग 5400 फीट है और इसकी चौड़ाई लगभग 1000 फीट है। ग्रेनाइट का यह विशाल खंड लौक कथाओं का हिस्सा भी माना जाता हैं।

शिलांग में पिकनिक की जगह डेंगी पीक
शिलांग का पर्यटन स्थल डेंगी चोटी शिलांग के पश्चिमी किनारे पर स्थित हैं। 6200 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह पीक शिलांग की सबसे ऊंची चोटी शिलांग से सिर्फ 200 फीट छोटी है। इस चोटी की लगभग 1000 ऊंचाई बहुत अधिक सीधी (खड़ी ) हैं। यहां होने वाले साहसिक खेलों में रॉक क्लाइंबिंग और रैपलिंग शामिल हैं।

इन सभी स्थानों पर घूमने के अलावा भी आप कुछ अन्य स्थानों पर भी घूमने जा सकते हैं। जैसे –

जयंतिया हिल्स

मज्जिमुबिन गुफा

लेटलम कैन्यनस

गारो हिल्स

ऑल सेंट्स चर्च

पुलिस बाजार

वायु सेना संग्रहालय

तितली संग्रहालय, शिलांग

राइनो हेरिटेज म्यूजियम

शिलांग की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय
शिलांग घूमने जाने के लिए अप्रैल से जून (ग्रीष्मकाल) सबसे अच्छा समय माना जाता है। इस समय के दौरान यहां का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस और 15 डिग्री सेल्सियस के बीच रिकॉर्ड किया गया हैं।

शिलांग के मशहूर स्थानीय भोजन

शिलांग पर्यटन स्थल अपने यहां अति स्वादिष्ट भोजन की पेशकश करता हैं। यदि आप शिलांग की यात्रा पर आएं हुए हैं तो यहां के भोजन का आनंद लेना न भूले। शिलांग में मिलने वाले लोकल फूड में मोमोज, जलेबी, तुंगरीम्बाई, जादो, डोनिंग, चाउमीन, पाइनएप्पल, स्मोक्ड मीट, दोह खलीह, पुखलीन, चिल्ली पोर्क आदि के अलावा भी आपको कई आइटम आपके मूह का टेस्ट सुधारने और पेट की भूख शांत करने के लिए मिल जाएंगे।

शिलांग में कहां रुके इन हिंदी –

शिलांग और इसके प्रमुख पर्यटक स्थल घूमने के बाद यदि आप रुकना चाहते हैं। तो आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि शिलांग में लो-बजट से लेकर हाई-बजट तक के आवास स्थान आपको मिल जाएंगे। जोकि आप अपनी सुविधानुसार ले सकते हैं। to आइए हम आपको कुछ होटल के बारे में बताते है।

होटल पोलो टावर्स

होटल बारबेरेक इन

हॉली लॉज गेस्ट हाउस

होमस्टेड बी एंड बी

केजुन बेड और नाश्ता

शिलांग कैसे पहुंचे –
शिलांग यात्रा पर जाने के लिए आप हवाई मार्ग, ट्रेन और बस में से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं। शिलांग सभी तरह के यातायात साधनो से संपन्न हैं।

फ्लाइट से शिलांग कैसे पहुंचे –
शिलांग शहर के पास अपना कोई एअरपोर्ट नही हैं लेकिन सबसे करीबी एअरपोर्ट 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बारापानी के पास उमरोई हवाई अड्डा है। अन्य शहरों के साथ इस एअरपोर्ट की सीमित कनेक्टिविटी है। भारत के सभी प्रमुख शहरो से अच्छी तरह से कनेक्टिविटी के लिए गुवाहाटी हवाई अड्डा सबसे अच्छा विकल्प हैं (शिलांग भारत जाने के लिए फ़्लाइट)। गुवाहाटी से शिलांग की दूरी लगभग 100 किलोमीटर हैं।

ट्रेन से शिलांग कैसे पहुंचे –
शिलांग के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन गुवाहाटी में है। गुवाहाटी से शिलांग की दूरी लगभग 100 किलोमीटर है। स्टेशन से शिलांग जाने के लिए आप टैक्सी ले सकते हैं। गुवाहाटी न्यू दिल्ली और देश के प्रमुख रेलवे स्टेशनों से बहुत एकचित तरह से जुड़ा हुआ हैं।

रोड मार्ग से शिलांग कैसे पहुंचे –
शिलांग सडक मार्ग के जरिए राज्य के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ हैं। गुवाहाटी से भी आप शिलांग के लिए बस ले सकते हैं लेकिन टैक्सी किराए पर लेना भी एक अच्छा बिचार है। सडक मार्ग के जरिए आप आसानी से शिलांग की यात्रा पर जा सकते हैं।

Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Photo of शिलांग by shub
Be the first one to comment