लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां

Tripoto
11th Jun 2021
Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

लाहौल स्पिति ( हिमाचल प्रदेश)

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां 1/2 by Walia Sachin
लाहौल स्पिति के लिए जाने वाला संकरा मार्ग
Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां 2/2 by Walia Sachin
पहाड़ों मे पैदल यात्रा के लिए बनीं पगडण्डियाँ लाहौल स्पिति
Day 1

फ़िलहाल किसी तरह की गैर जरूरी यात्रा ना करें।
#stayhomestaysafe

महत्वपूर्ण जानकारी
मनाली से लाहौल स्पिति की मात्र दूरी 46 किलोमीटर की है लेकिन मनाली से लाहौल स्पिति पहुँचने के लिए आपको कई घुमावदार और संकरे रास्ते से होकर गुजरना पड़ेगा। रास्ते मे आपको आते समय अनेकों ताल और छोटी नदियां भी मिलेंगी। हालांकि बीच बीच रास्ते में छोटी छोटी चाय के स्टाल और ढाबे जरूर देखने को मिल जाएंगे।

लाहौल स्पिति का इतिहास

लहौल और स्पीति जिले की दो इकाइयों में अलग ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है। लाहौल दूर के दिनों में लद्दाख और कुल्लू के शासकों के बीच हाथ बदल रहा था। 17 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में लद्दाख साम्राज्य के विघटन के साथ, लाहौल कुल्लू प्रमुख के हाथों में हो गया। 1840 में, महाराजा रणजीत सिंह ने लाहौल को कल्लू के साथ ले लिया और 1846 तक इस पर शासन किया जब यह क्षेत्र अंग्रेजों के प्रभाव में आया तो 1846 से 1 9 40 तक, लाहौल कांगड़ा जिले के कुल्लू उप-विभाजन का हिस्सा बन गया था। यहां आज भी बौद्ध मठों में कई बौद्ध भिक्षुओं को उनके गुरुओं द्बारा दीक्षा दी जाती है।

घुमपा मठ के बाहरी लकड़ी की नक्काशी का एक दृश्य लाहौल स्पिति

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

घुमपा मठ लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश)

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

घुमपा मठ और उनके बौद्ध गुरुओं की जीवित योग शक्ति

मनाली से लाहोल स्पिति तक पहुंचते हुए आपको कई बौद्धिक धार्मिक स्थल मिल जाएंगे। इनमें से प्रसिद्ध और देखने लायक कलाकृतियां आपको बौद्ध धर्म के घुमपा मठ से मिलेंगी। ज्यादातर घुमपा मठ लकड़ी की आकर्षक बनावट के लिए प्रसिद्ध है।

लाहौल स्पिति की प्रसिद्ध खेती आलू और मटर की है। लाहौल मे लाहौल स्पिति के बाहर से लोग आकर आस पास के लोगों से खेती किराये पर ले कर आलू मटर की खेती करके उन्हें सब्जी मंडियों मे बेच कर खूब मुनाफा कमाते हैं क्योंकि लाहोल स्पिति की ऋतु आलू मटर की खेती के लिए बहुत उपयोगी है। और दूर दूर तक विख्यात है।

आस पास के लोगों की माने तो ये बौद्ध धर्म के भिक्षु अपने गुरुओं से कई चमत्कारिक विद्याऐं सीखते है जैसे कि ज्यादा देर तक साँस को रोके रखना और जैसे योग करते समय ध्यान की मुद्रा में हवा में काफी देर तक अपने आप को बनाये रखना। ये सभी बौद्ध गुरुओं की अपने भिक्षुओं को दी जाने वाली विद्याओं में शुमार है।

रास्ते के साथ साथ बहने वाले झरने लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश)

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

दीपक ताल लाहौल स्पिति

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

ताल झरने और लाहौल की सुन्दरता

ताल और रास्ते के साथ साथ बहने बाले झरने लाहौल स्पिति की सुन्दरता को और बढ़ा देते है। दीपक ताल पूरे दिन मे सूर्य की किरनों से कई प्रकार के रंग बदलता है यहि खूबी उसकी ओर तालों से अलग बनाती है। दीपक ताल बाकी और तालों मे से बहुत ही खूबसूरत है इस सुंदरता को प्राप्त करने के लिए आपको अप्रैल के माह के बाद आना चाहिए। नवंबर माह से मार्च तक आवाजाही बर्फ ( स्नोफाल) के कारण बंद होती है।

(BRO) बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ही रोड खोलती है

मनाली टेक्सी पार्किंग में आप अपनी गाड़ी को पार्क करके रेंटल वाली गाड़ी या बाइक से जाना उचित रहेगा। रेंटल बाइक और गाड़ियां आपको आसानी से उचित दाम में(गाड़ी के हिसाब से) मिल जाएंगी।

त्रिलोकीनाथ मन्दिर का भीतरी मूर्ति दर्शन

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

त्रिलोकीनाथ मन्दिर का बाहरी दर्शन

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

त्रिलोकीनाथ मन्दिर के अचभिंत कर देने वाले तथ्य

यह मन्दिर बहुत ही पहाड़ी ऊचाईयों मे बना है। हालांकि इस मन्दिर तक पहुंचना इतना कठिन नहीं है क्योंकि लाहौल स्पिति से त्रिलोकीनाथ मन्दिर के लिए अच्छा मार्ग बना हुआ है जिससे आसानी कोई भी वाहन इस मन्दिर तक पहुंचाया जा सकता है।

त्रिलोकीनाथ मन्दिर बनने के पीछे बहुत ही अचंभित रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी देने जा रहा हूं। क्या आपको पता है कि त्रिलोकीनाथ मन्दिर मे पांडवों के समय से अभी तक बौद्ध धर्म के लोग ही इस मन्दिर की देख रेख करते आ रहे हैं। और इस मन्दिर मे शुरू से ही कोई हिन्दू धर्म का पंडित नहीं अपितु बौद्ध भिक्षु ही बैठते आ रहे है और पंडित की भांति पूजा अर्चना करते आ रहे हैं। हिंदुओं में त्रिलोकनाथ देवता को भगवान शिव का रूप माना जाता है, जबकि बौद्ध इनकी पूजा आर्य अवलोकीतश्वर के रूप में करते हैं। हिंदू मानते हैं कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों ने किया था। बौद्धों के विश्वास के अनुसार पद्मसंभव 8वीं शताब्दी में यहां पर आए थे

शाम का सूर्य अस्त का नज़ारा लाहौल घाटी (हिमाचल प्रदेश)

Photo of लाहौल स्पिति (हिमाचल प्रदेश) के बौद्ध मठ और मन्दिरों की रोचक रहस्यमयी जानकारियां by Walia Sachin

मोह लेने वाला शाम का नज़ारा

मोह लेने वाला शाम का नज़ारा शाम के समय पहाड़ों के ऊपर पड़ने वाली सूर्य की सुनहरी किरणें पहाड़ों की खूबसूरती पर चार चांद लगा देती हैं। शाम का नज़ारा देखने लायक ही बनता है।

आप आइए और इन्ही प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ उठाईए। और सैलानियों को भी प्रेरित करिए। आशा करता हूं कि मेरा आज का ब्लोग आपको अच्छा लगा हो। मेरे साथ बने रहने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया। मेरा अगला ब्लॉग जल्द ही आने वाला है कृप्या मेरा होंसला ऐसे ही बनाये रखें। तब तक के लिए धन्यवाद।

जय भारत

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।