इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी।

Tripoto
29th Jun 2021
Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin
Day 1

यूं तो भारत भर में माता के कई सिद्ध पीठ हैं और सभी का अपना विशेष महत्व है। धार्मिक स्‍थलों का गढ़ कहे जाने वाले हिमाचल प्रदेश में भी एक ऐसा ही शक्तिपीठ है जिसे भलेई माता का मंदिर के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इस मंदिर में जो भी मांगा जाता है वो अवश्य पूरा होता है। यही नहीं मां की प्रतिमा भक्तों की मन्नत पूरी होने या न होने का संकेत भी तुरंत देती है। आइए जानते हैं।

Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin
Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin

चंबा से 40 किलोमीटर दूर है भलेई माता का मंदिर देवभूमि हिमाचल प्रदेश में चंबा जिले से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर शक्तिपीठ भलेई माता का मंदिर स्थित है। कहा जाता है कि यह मंदिर सैकड़ों साल पुराना है। माता रानी को यहांँ पर भलेई को जागती ज्योत के नाम से भी पुकारते हैं। यहांँ पर पूरे साल ही भक्‍तों का आना जाना लगा रहता है।

Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin
Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin

भलेई माता के मंदिर की स्थापना से जुड़ी है। यह कहानी इस मंदिर के स्‍थापना के बारे में कहा जाता है कि भ्राण नामक स्थान पर एक बावड़ी में यह माता प्रकट हुई थीं। उस समय उन्‍होंने चंबा के राजा प्रताप सिंह को सपने में दर्शन देकर उन्‍हें चंबा में स्‍थापित करने का आदेश दिया था। राजा जब मां की प्रतिमा को लेकर जा रहे थे तो उन्‍हें भलेई का स्‍थान पसंद आ गया। इस पर माता ने पुन: राजा को स्‍वप्‍न में वहीं भलेई में स्‍थापित करने को कहा।

Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin
Photo of इस रहस्यमयी मंदिर में माता की प्रतिमा को आए पसीना तो समझो श्रध्दालुओं की मन्नत जरूर पूरी होगी। by Walia Sachin

मां की इच्छानुसार राजा ने बनवाया मंदिर स्वप्न में मां द्वारा दी गई आज्ञा के अनुसार राजा ने मां की वहीं पर एक मंदिर बनवाकर देवी प्रतिमा को स्थापित करवा दिया। शुरु में कुछ समय महिलाओं का प्रवेश वर्जित रखा गया लेकिन समय के साथ यह परंपरा खत्म हो गई और वर्तमान में सभी लोग बिना किसी तरह के भेदभाव के मंदिर में दर्शन करते हैं। अपने दर्शनों के लिए आने भक्तों की मां इच्छा अवश्य पूरी करती है। नवरात्रों के अवसर पर यहां लाखों की संख्या में भक्त आते हैं।

भलेई माता इस तरह देती है मन्नत पूरी होने का संकेत
स्थानीय मान्यता है कि अगर मन्नत मांगते समय मां की मूर्ति पर पसीना आ जाए तो भक्‍तों की मुराद अवश्य पूरी होती है। ऐसे में भक्त यहीं पर बैठकर मां की मूर्ति पर पसीना आने का घंटों इंतजार किया करते हैं क्‍योंकि पसीने के समय जितने भक्‍त मौजूद होते हैं उन सबकी मुराद पूरी हो जाती है।