ट्रेकिंग के दीवानों के लिए: पुराने ट्रेक्स की बजाय इन 5 नए अडवेंचरस ट्रेक्स पर जाएँ

Tripoto
Photo of ट्रेकिंग के दीवानों के लिए: पुराने ट्रेक्स की बजाय इन 5 नए अडवेंचरस ट्रेक्स पर जाएँ by Prateek Dham

हिमालय पृथ्वी पर सबसे खूबसूरत ट्रेकों का खजाना है। आप कोई भी ट्रेक चुनें, आप रोमांच का अनुभव करेंगे और सुन्दर नज़ारों के बीच से गुज़रेंगे, लेकिन सभी ट्रेक्स पर ट्रेक ऑपरेटरों के बराबर ध्यान नहीं देते हैं। इनमें से कुछ ट्रेकों को विशेष इक्विपमेंट रखने की आवश्यकता होती है जो हर ट्रेकिंग आयोजक नहीं करता है। या इनमें से कुछ मार्ग इतने चुनौतीपूर्ण हैं कि ये जनता को अपील नहीं करते है।

ऐसे कुछ मार्ग हैं जिनके बारे में लोगों ने भी नहीं सुना है। इसका मतलब यह नहीं है कि ये ट्रेक मौजूद नहीं हैं। न केवल इन ट्रेक्स पर आपको कम भीड़ मिलेगी, बल्कि जंगल के बीच प्रकृति में होने की सच्ची भावना होगी।

यदि, मेरे जैसे, आप लोकप्रिय ट्रेक की वही पुरानी सूची से भी तंग आ चुके हैं, तो यहाँ आपके विकल्प हैं जो प्रसिद्ध लोगों की तुलना में न ही बेहतर हैं बल्कि आपको जंगलों में ट्रेकिंग का असली अनुभव भी देते हैं। इन्हें देखने के बाद आप मुझे इन ऑफबीट विकल्पों का सुझाव देने के लिए धन्यवाद दे सकते हैं:

1. रूपकंड के स्थान पर केदार ताल ट्रेक

खैर मैं रूपकंड ट्रेक की भीड़ के बारे में और नहीं कह सकता। हर कोई ट्रेक के लिए लगी कतारों को जानता है लेकिन यह पहले स्थान पर इतना क्यों पसंद है? यह ट्रेक हरियाली से भरा है, एक उच्च ऊँचाई पर झील, मध्यम ग्रेड की चढ़ाई, और शीर्ष से मिलने वाला लगभग 360 डिग्री दृश्य इसको लोकप्रिय बनाता है। पर अगर मैं आपको बता दूँ कि केदार ताल नामक एक जगह है जो उत्तरकाशी क्षेत्र के इलाकों में इंतजार कर रहा है जो आपको एक उच्च ऊँचाई झील प्रदान करता है, दुनिया में कुछ सबसे प्रशंसनीय चोटियों के सबसे बड़े विचारों में, ग्लेशियरों को रास्ते में शामिल करता है दुनिया के सबसे घने बिर्च जंगलों में से! साथ ही यहाँ एक स्पाइडर वाल है जो केदार ताल को एडवेंचर और रोमांच का बेहतरीन विकल्प बनाती है।

महत्वपूर्ण आँकड़े:

अधिकतम ऊँचाई: 4,800 मीटर

यहाँ से दिखती चोटियाँ: माउंट थाले सागर (6,904 मीटर), माउंट मेरु (6,672 मीटर), और माउंट भृगुपंथ (6,772 मीटर)

2. रुपिन पास की जगह बाली पास ट्रेक

जबकि रुपिन पास पहले से ही एक लोकप्रिय पसंद है, बाली पास अभी भी एक रोमांचक और सुंदर अनछुई ट्रेक है। ट्रेक के हमेशा बदलते दृश्य और ट्रेल्स आपको मदहोश कर देंगे। मानसून तक यहाँ बहुत बर्फ होती है जिसके लिए पास पर चढ़ने के लिए तकनीकी उपकरण की आवश्यकता होती है। बाली पास अनुभवी ट्रेककेरस को भी थर्रा दे सकता है। और आप करीब से स्वर्गोहिनी और बन्दरपूँछ को भी देख सकते हैं। ट्रेल्स वनस्पतियों-जीवों और पौराणिक कथाओं में समृद्ध हैं।

महत्वपूर्ण आँकड़े:

अधिकतम ऊँचाई: 4,949 मीटर

यहाँ से दिखती चोटियाँ: स्वर्गोहिनी 1 और 2, बन्दरपूँछ, धूमदार कंडी, व्हाइट पीक, और काला नाग |

3. कुँवारी पास के साथ पंगारचुल्ला पीक ट्रेक

मैं 'साथ' क्यों कहता हूँ क्योंकि पंगारचुल्ला पीक कुँवारी पास के साथ ट्रेल्स साझा करता है। और यदि आप अप्रैल और मई में ट्रेक कर रहे हैं तो आपको चोटी पर चढ़ने के लिए कुछ तकनीकी उपकरणों की भी आवश्यकता हो सकती है। यदि आपने पहले कभी चोटी पर चढ़ाई नहीं की है, तो इसे अपनी पहली ट्रेक बना सकते हैं। पंगारचुल्ला पीक एक मध्यम शिखर चढ़ाई अनुभव की तलाश में ट्रेकर्स के लिए एक शानदार अवसर प्रदान करता है।

महत्वपूर्ण आँकड़े:

अधिकतम ऊँचाई: 4,480 मीटर

यहाँ से दिखती चोटियाँ: नंदा देवी, नीलकंठ, चौखंबा मासीफ, हाथी गोधा, द्रोणागिरी, त्रिशूल, कामेट और माना |

4. हम्पटा पास के स्थान पर देव टिब्बा बेस शिविर

हिमाचल प्रदेश के उसी क्षेत्र में स्थित, देव टिब्बा बेस शिविर हम्प्टा के स्टैंडर्ड्स से मेल खाने के अलावा और ज़्यादा रोमांचक है। इस ट्रेक पर अद्भुत क्या है माउंट के बर्फ़ीले दृश्य। देव टिब्बा, इंद्रसन पीक, और इंद्रकीला। देव टिब्बा पर्वत शिखर का बेस शिविर यह दिखाता है कि यहाँ देखने के लिए कितने मनोरंजक स्थान है। जब आपके पास इतने पास से एक भव्य चोटी है, तो आप सफलता महसूस करते हैं! कम शब्दन में कहें तो यह एक आश्चर्यजनक नज़ारा है। और यदि आप चंद्रताल झील को न देख पाने के बारे में चिंतित हैं, तो देव टिब्बा पर भी मिनी चंद्रताल है।

महत्वपूर्ण आँकड़े:

अधिकतम ऊँचाई: 4,480 मीटर

यहाँ से दिखती चोटियाँ: माउंट। देव तिब्बा, इंद्रसन पीक, और इंद्रकीला

5. केदारकंठ के स्थान पर पंवाली कंठ ट्रेक

लोगों के ध्यान से दूर पंवाली कंठ ट्रेक आपको यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ पर्वत शिखर की पूरी श्रृंखला के दुर्लभ दृश्य देता है, जो कि केदारकंठ आपको नहीं देता। और यहाँ पर सात बर्फ से भरे हुए मैदान भी आप को मिलेंगे। यह अपने शानदार सनसेट्स और ब्लू हिमालयी बकरी के लिए भी लोकप्रिय है जो दुर्लभ दृष्टि है।

महत्वपूर्ण आँकड़े:

अधिकतम ऊँचाई: 3,500 मीटर

यहाँ से दिखती चोटियाँ: यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ, बद्रीनाथ पर्वत शिखर, थाले सागर, मेरु, कीर्ति स्तम्भ, चौखमभा, और नीलकंठ

तो आप इसके बारे में क्या सोच रहे हैं? क्या आप ट्रेकिंग को अगले लेवल पर ले जाना चाहेंगे?

यदि आप पहले से ही एक शानदार ट्रेक पर गए हैं, तो Tripoto पर अपना अनुभव बाँटें और ट्रेक पर जाने के लिए 25 मिलियन अन्य यात्रियों को प्रेरित करें।

Be the first one to comment