गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा

Tripoto

हमारे देश का पश्चिमी छोर, गुजरात, मंदिरों और उद्यानों की भूमि है।महात्मा गांधी और नरेंद्र मोदी, ढोकला और खाखरा, समुद्र तट और रेगिस्तान की यह भूमि हज़ारों पर्यटकों को आकर्षित करती है ।भारत की पहली ड्राई स्टेट होने के लिए बदनाम, इस राज्य में अनेक अद्भुत चीजें हैं।

द्वारका धाम - गुजरात का एक बहुत लोकप्रिय पर्यटक स्थल है। हिंदू परंपरा के अनुसार, हमारे देश में 4 धार्मिक स्थान हैं जो सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं - उत्तर में बद्रीनाथ (उत्तराखंड), दक्षिण में रामेश्वरम (तमिलनाडु), पश्चिम में द्वारका (गुजरात) और पूर्व में जगन्नाथ पुरी (ओडिशा) । हमारे देश में 12 ज्योतिर्लिंग हैं। जिनमें से दो गुजरात में हैं - शिव के बारह लिंगों में से पहला ज्योतिर्लिंग ‘श्री सोमनाथ’और बारहवाँ ज्योतिर्लिंग ‘श्री नागेश्वर’ तथा द्वारका में भगवान कृष्ण का मंदिर।यह सभी तीर्थस्थान हर साल लाखों हिंदु श्रद्धालुओं और शिव भक्तों को आकर्षित करते है। ।

थोड़े ही समय पहले मैं कुछ वरिष्ठ नागरिकों के एक बड़े समूह के साथ, गुजरात के इन धार्मिक स्थलों पर गयी थी, जो आश्चर्यजनक रूप से एक अद्भुत यात्रा रही ।

सोमनाथ

यह यात्रा, दिल्ली से अहमदाबाद के लिए सुबह की उड़ान और अहमदाबाद से सोमनाथ तक 8 घंटे की लंबी सड़क यात्रा के साथ शुरू हुई। हम शाम को 5 बजे सोमनाथ पहुँचे और फैसला किया कि शीघ्र स्नान करके और एक-दो कप चाय पीने के बाद हम मंदिर जाएँगे।

श्री सोमनाथ मंदिर की छटा ही निराली है। इस अद्भुत और भव्य मंदिर के चारों ओर एक विशाल परिसर है। इसका प्रचंड इतिहास इस बात का गवाह है कि इस मंदिर पर आक्रमणकारियों ने बार बार आक्रमण किया किन्तु इसका पुनर्निर्माण होता रहा ।अरब सागर के तट पर स्थित, सभी का स्वागत करते हुए अपना सीना तान कर खड़ा यह मंदिर गर्भगृह, सभा मंडप और नृत्य मंडप - तीन प्रमुख भागों में विभाजित है। इसका 150 फुट ऊँचा शिखर है जिस पर स्थित कलश का भार 10 टन है और ध्वजा 27 फुट ऊँची है। गर्भगृह, जिसमें शिवलिंग हैं, वास्तव में सोने का बना हुआ है। शेष संरचना को 15 मीटर लम्बे केंद्रीय शिखर के साथ सोने के रंग में चित्रित किया गया है।मंदिर के एक तरफ विशाल समुद्र तट है और दूसरी तरफ एक छोटा सा बाजार है।

तट से सूर्यास्त का दृश्य बहुत मनोरम दिखाई देता है। हमने तीन दिन सोमनाथ में बिताए और सूर्योदय, सूर्यास्त और दोपहर, तीनों अलग अलग समय पर जब मंदिर के दर्शन किये तो हर बार का नज़ारा अलग और अनोखा था।

Photo of गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा 1/5 by Manju Dahiya
सोमनाथ मंदिर के पीछे समुद्र तट पर सूर्यास्त
Photo of गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा 2/5 by Manju Dahiya
शाम को सोमनाथ मंदिर और आसपास का परिसर

गिर नेशनल पार्क

सोमनाथ में तीसरे दिन हमने गिर नेशनल पार्क की यात्रा करने का फैसला किया जो एशिया में सिंहों का एकमात्र निवास स्थान है। गिर, सोमनाथ से 80 कि मी दूर स्थित है और हमने शेरों को देखने के लिए एक दिन की शीघ्र यात्रा का फैसला किया।सच बताएँ तो जब हम सोमनाथ से चले तो हमें लग रहा था कि शायद हमें शेरों को देखने का मौका नहीं मिलेगा। लेकिन वहाँ पहुँचकर हमें सुखद आश्चर्य हुआ। न केवल हमने एक शेर देखा,बल्कि उसके पूरे झुण्ड को देखा - एक शेर और तीन शेरनी। यह मेरे जीवन का अद्भुत क्षण था जब हमने उन्हें एक पेड़ की छाया में सोते हुए देखा। शेर को इतने करीब से देखने की मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी।

Photo of गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा 3/5 by Manju Dahiya
गिर नेशनल पार्क में सोते हुए शेर

द्वारका

चौथी सुबह हमने 5 घंटे में 250 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए द्वारका धाम के लिए प्रस्थान किया। जब हम द्वारका पहुँचे तो हमने सोमनाथ जैसी ही दिनचर्या का पालन किया। हमने स्नान किया, एक कप चाय पी और मंदिर के लिए रवाना हुए। द्वारका भारत के सात सबसे प्राचीन शहरों में से एक है।यह मंदिर हमारे होटल से डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर स्थित था और वहाँ तक पैदल जाते हुए एक तरफ समुद्र और दूसरी तरफ बाजारों की हलचल अच्छी लग रही दी।

द्वारका का मंदिर भी सोमनाथ मंदिर के समान बनाया गया है, जिसके चारों ओर एक विशाल परिसर है। भगवान कृष्ण को समर्पित इस मंदिर का नाम "द्वारकाधीश” है, जिसका अर्थ है "द्वारका के राजा का मंदिर"।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था, उन्होंने अपना बचपन वृंदावन में बिताया, किशोरावस्था मथुरा में और उनका संपूर्ण वयस्क जीवन द्वारका में बीता जहाँ उन्होंने अपना शासन स्थापित किया। यह श्री कृष्ण की कर्मभूमि है और भक्त इस मंदिर में निवास करने वाले कृष्ण को "राजाओं का राजा" कहते हैं।मंदिर में सजी हुई कृष्ण प्रतिमा सभी को समान रूप से आकर्षित करती है।दर्शन करने के बाद हमने वहाँ से प्रस्थान किया।

Photo of गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा 4/5 by Manju Dahiya
द्वारका मंदिर के पीछे समुद्र तट पर सूर्यास्त

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

बेट द्वारका तथा नागेश्वर मंदिर

अगली सुबह हमने अपनी यात्रा के शेष दो धार्मिक स्थलों का भ्रमण किया - बेट-द्वारका या भेंट - द्वारका तथा नागेश्वर। पौराणिक कथाओं के अनुसार, बेट द्वारका, वह स्थान है जहाँ कृष्ण ने अपने सबसे प्रिय दोस्त सुदामा से लंबे समय के बाद मुलाकात की थी।

यह एक द्वीप के बीच में स्थित है जहाँ केवल एक नौका या एक मछुआरे की नाव से पहुंचा जा सकता है। हम नाव से 20 मिनट में वहाँ पहुँच गए। उस 20 मिनट की सवारी के दौरान सीगल पक्षियों का एक विशाल समूह हमारे साथ साथ चलता रहा।यह सुंदर दृश्य मुझे एनिमेटेड फिल्म निमो की याद दिला रहा था।वे पूरे रास्ते हमारी नाव के साथ उड़ते रहे।

इस तीर्थ पर हमारा अंतिम पड़ाव नागेश्वर मंदिर था।इसके परिसर में भगवान् शिव की विशालकाय प्रतिमा पद्मासन मुद्रा में विराजमान है जो 125 फुट ऊँची और 25 फुट चौड़ी है।मंदिर के तल घर में नागेश्वर ज्योतिर्लिंग हैं। इस पिंड को नागेश्वर महादेव भी कहा जाता है। हमारे चारों ओर शिव मन्त्रों के जाप गूँज रहे थे जिनसे वहां की पवित्र ऊर्जा में एक अलग ही शांति का अनुभव हो रहा था।

मैंने अपनी इस यात्रा को तीर्थयात्रा इसलिए कहा क्योंकि यूँ तो गुजरात में घूमने और देखने की बहुत सारी चीज़ें हैं पर हमने केवल मंदिरों के दर्शन किए और लोगों की भक्ति का अनुभव किया। गिर नेशनल पार्क देखने का उद्देश्य केवल मन के युवा बच्चे को कुछ अलग अनुभव देना था।

Photo of गुजरात - सोमनाथ और द्वारका की तीर्थयात्रा 5/5 by Manju Dahiya
बेट द्वारका के रास्ते में सीगल

कुछ ख़ास बातें :

1. उत्तरी भारत के कई मंदिरों की अपेक्षा, सोमनाथ, द्वारकाधीश और नागेश्वर तीनों मंदिर बिल्कुल साफ थे।दान की व्यवस्था बहुत व्यवस्थित थी और मंदिरों के अंदर कोई पुजारी नहीं थे, जो आपको विशेष दर्शनों का वादा देते या कुछ राशि दान करने को बाध्य करते।मेरा मानना है कि इसका श्रेय गुजरात सरकार और इन मंदिरों का अनुरक्षण करने वाली ट्रस्टों को जाता है।

2. ये सभी मंदिर गुजरात के छोर और समुद्री तटों पर स्थित हैं।यही कारण है कि सभी मंदिरों में शाम के समय देर तक बहने वाली एक सुखद समुद्री हवा का अनोखा अनुभव होता है।

3. गुजरात एक पश्चिमी राज्य है और इन तीनों तीर्थ स्थलों से सूर्यास्त का दृश्य बहुत ही अद्भुत दिखाई देता है, जिसे आपको अवश्य ही देखना चाहिए।

4. आपको इन स्थानों पर जाने के लिए धार्मिक या हिंदू धर्म का अनुयायी होने की आवश्यकता नहीं है। केवल आपने सर झुकाना है और मन में धर्म और तीर्थयात्रियों की भक्ति के प्रति सम्मान होना चाहिए। सभी आपको गर्मजोशी और प्यार से स्वीकार करते हैं ।

5. विशेष दर्शनों की पेशकश करने वाले पंडितों की न सुनें। यह मंदिर इस तरह से बनाए गए हैं कि कोई भी तीर्थयात्री, अमीर या गरीब, आसानी से और बिना किसी अतिरिक्त उपाय के भगवान के सुलभ दर्शन कर सकता हैं।

मैं 27 साल की एक युवा महिला हूँ और मैंने कभी भी अपने आप से ऐसी तीर्थयात्रा पर जाने की उम्मीद नहीं की थी, लेकिन यह यात्रा बहुत मजेदार और शिक्षाप्रद रही जिसे शायद मैं फिर से करना चाहूँगी !

यात्रा का विवरण:

दिल्ली से अहमदाबाद फ्लाइट - रु 12,000 वापसी सहित

अहमदाबाद से सोमनाथ - 400 किलोमीटर

सोमनाथ से द्वारका - 250 किलोमीटर

द्वारका से अहमदाबाद - 450 किलोमीटर

हमने अहमदाबाद से अहमदाबाद ( राउंड ट्रिप ) के लिए 11 रुपये प्रति कि मी की दर से तथा 6 दिनों में 1800 कि मी की अधिकतम दूरी के हिसाब से टैक्सियाँ किराए पर लीं।गुजरात के राजमार्ग बहुत शानदार हैं, जहाँ ड्राइविंग का अनुभव बहुत ही मज़ेदार होता है।

ठहरने के लिए

सोमनाथ में होटल: द फ़र्न रेसिडेंसी

द्वारका में होटल: द मानेक ओशन व्यू

Be the first one to comment