कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी

Tripoto
9th Jan 2022
Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav
Day 1

भारत में मंदिरों की संख्या अनगिनत है, ये आपको पहाड़ी इलाकों से लेकर हिमालय तक, लद्दाख के पहाड़ों से लेकर तमिलनाडु के गांवों तक, महाराष्ट्र की गुफाओं और राजस्थान के रेगिस्तानों तक हर जगह देखने को मिल जाएंगे। लेकिन हर एक मंदिर की अपनी-अपनी कहानी और मान्यताएं हैं, जिनके बारे में केवल जानने के लिए लोगों की भारी संख्या में भीड़ देखी जाती है। इस आर्टिकल के जरिए आप भी जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी।

एक आम के पेड़ की चार किस्में

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

कांचीपुरम में प्रसिद्ध एकंबरेश्वर शिव मंदिर के अंदर एक आम का पेड़ है जो 3500 साल से अधिक पुराना माना जाता है, जिसमें आज तक 4 प्रकार के आम (एक आम के पेड़ से 4 किस्में) पैदा होती आई हैं। ये 4 आम 4 वेदों को दर्शाते हैं। इस मंदिर के पीठासीन देवता को एकम्बरेश्वर के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है आम के पेड़ (एक-अमर-नाथ) का भगवान आपको बता दें, पांच तत्वों में से एकंबरेश्वर मंदिर पृथ्वी का प्रतिनिधित्व करता है।

इस मंदिर में खाती हैं चील मीठी खिचड़ी

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

वेदगिरिश्वरर मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो तिरुकलुकुंड्रम (जिसे थिरुकाझुकुंद्रम के नाम से भी जाना जाता है), तमिलनाडु, भारत में स्थित है। इसका नाम पवित्र ईगल्स के नाम पर रखा गया है, जो हर दोपहर पहाड़ी मंदिर में आते हैं, जिन्हें पाक्षी तीर्थम और दक्षिण भारत के कैलाश कहा जाता है। आज भी दो चील रोजाना मंदिर में चढ़ाए गए मीठे चावल को खाने लिए आती हैं और उसके बाद अपनी चोंच से पानी पीने के बाद उड़ जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि ये दो चील हैं जो शिव की पूजा करने और उनके श्राप से मुक्ति पाने के लिए प्राचीन काल से रोजाना तिरुकाझुकुंद्रम जाते हैं। कहा जाता है कि सुबह गंगा में स्नान करने के बाद वे दोपहर में भोजन के लिए यहां आते हैं, शाम को दर्शन के लिए रामेश्वरम पहुंचते हैं और रात के लिए चिदंबरम लौट जाते हैं।

इस मंदिर में घी बदल जाता है मक्खन में

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

गवी गंगाधरेश्वर मंदिर, जिसे गविपुरम गुफा मंदिर के रूप में भी जाना जाता है, हिंदू देवता, भगवान शिव को समर्पित है और यह एक प्रसिद्ध प्राचीन गुफा मंदिर है जो हुलिमावु, बन्नेरघट्टा रोड, बैंगलोर, कर्नाटक, भारत में स्थित है। मंदिर एक महत्वपूर्ण और लगभग जादुई घटना के कारण प्रसिद्ध है, यदि कोई इस मंदिर में घी चढ़ाता है और पुजारी शिवलिंग पर घी लगाते हैं और उस पर रगड़ते हैं, तो घी चमत्कारिक रूप से मक्खन में बदल जाता है। बल्कि लोगों ने यहाँ घी को मंदिर में ले जाने के बाद उसे मक्खन में बदलते हुए अच्छे से देखा है।

इस मंदिर में भगवान को नहीं चढ़ता नमक

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

इस मंदिर में मंदिर के अंदर नमक ले जाने की अनुमति नहीं है और न ही इसका उपयोग किसी भी भोजन की तैयारी में किया जाता है, क्योंकि भगवान ने वादा किया था कि वह इस स्थल में बिना नमक के भोजन करेंगे। पेरुमल मंदिर को तिरुपति बालाजी का अन्नान (बड़ा भाई) माना जाता है, अगर आप तिरुपति के दर्शन करने में असमर्थ हैं, तो इस मंदिर में जाकर दर्शन करना तिरुपति के दर्शन के समान माना जाता है। यह मंदिर विष्णु के 108 दिव्य देशम मंदिरों में से एक है।

सफेद दूध हो जाता है नीला

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

राहु सांपों के राजा हैं और वह तिरुनागेश्वरम मंदिर में अपनी पत्नी नागा वल्ली और नागा कन्नी के साथ स्थापित हैं। चूंकि भगवान राहु ने यहाँ भगवान शिव की पूजा की थी, इसलिए इस स्थान का नाम थिरुनागेश्वरम रखा गया। राहु / रघु पूजा के लिए रविवार बहुत शुभ होते हैं और भक्त राहु का दूध से अभिषेक करते हैं। यहाँ मौजूद अनूठी विशेषता यह है कि अभिषेकम के दौरान मूर्ति पर दूध डालने पर उसका रंग सफेद से नीला हो जाता है और जब यह मूर्ति के माध्यम से बहता है तो फिर से सफेद हो जाता है।

ब्रह्मा, विष्णु और शिव एक ही मूर्ती में हैं विलीन

Photo of कहीं सफेद दूध हो जाता है नीला तो कही कुछ, जानिए कुछ मशहूर मंदिरों के पीछे की अनसुनी अनकही कहानी by Smita Yadav

सुचिन्द्रम मंदिर इस तथ्य के संबंध में पूरे भारत में अद्वितीय है कि यहां स्थापित मूर्ती को ब्रह्मा, विष्णु और शिव, त्रिमूर्ति के रूप में गर्भगृह में एक छवि या लिंग द्वारा दिखाया गया है, जिसे थानुमलयन कहा जाता है। लिंग तीन भागों में है। शीर्ष शिव के "स्थानु" नाम, विष्णु के मध्य "मल" नाम और ब्रह्मा के आधार "अया" नाम का प्रतिनिधित्व करता है।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।

More By This Author

Further Reads