अरुणचाल प्रदेश का दिल है ये कस्बा, जहाँ मिलेंगे दिलकश और लुभावने नजारे

Tripoto
Photo of अरुणचाल प्रदेश का दिल है ये कस्बा, जहाँ मिलेंगे दिलकश और लुभावने नजारे by Musafir Rishabh

पहाड़ों में घूमने की बात होती है तो यकायक हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड का जिक्र ही आता है। इन दोनों राज्यों के अलावा कई प्रदेशों में बेहद खूबसूरत पहाड़ हैं। उन्हीं में से एक राज्या है, अरुणाचाल प्रदेश। पहाड़ों में किसी भी मौसम में जाओ वो खूबसूरत ही लगते हैं लेकिन अनछुई जगहों पर जाने की बात ही अलग है। ऑफबीट जगहें आपको एक पक्का घुमक्कड़ बनाने का काम करती है। अरुणाचाल प्रदेश में ऐसा ही एक कस्बा है, सेप्पा।

Photo of अरुणचाल प्रदेश का दिल है ये कस्बा, जहाँ मिलेंगे दिलकश और लुभावने नजारे by Musafir Rishabh

सेप्पा को अरुणाचाल प्रदेश का दिल भी कहा जाता है। सेप्पा अरुणाचाल के पूर्वी कमेंग का एक छोटा-सा कस्बा है। सेप्पा एक जिला मुख्यालय भी है और इसे पहले सलपा के नाम से जाना जाता था। कमेंग नदी किनारे बसा सेप्पा ईंटानगर से 160 किमी. और तेजपुर से 213 किमी. की दूरी पर स्थित है। यहाँ की खूबसूरती देखकर आप मंत्रमुग्ध हो जाएंगे। कुदरत की ये खूबसूरत संरचना को आप कभी नहीं भूल पाओगे।

इतिहास

इस जगह को घूमने से पहले इस जगह के इतिहास के बारे में भी जान लो। सेप्पा पहले मोन राजवंश का हिस्सा हुआ करता था। बाद में तिब्बत और भूटान के शासकों का इस पर राज रहा। बाद में असम के अहोम राजवंश के शासकों ने इस पर कब्जा कर लिया और 17वीं शताब्दी तक राज करते रहे। 18वीं शताब्दी में ये अंग्रेजों के अधीन आ गया। आजादी के बाद कई सारे तिब्बती रिफ्यूजी यहाँ आए और बस गये। इंडो-चाइना के युद्ध में कई सारे ऐतहासिक स्थल बर्बाद हो गए। इस जगह पर हर घूमने वाले को एक बार जरूर आना चाहिए।

1- सेप्पा लिबर्टी और म्यूजियम

मेरा हमेशा से मानना है कि किसी जगह को अच्छे से जानना है तो उस जगह पर स्थित म्यूजियम की सैर कर लेनी चाहिए। संग्रहालय आपको उस जगह के इतिहास, कला और विकास के बारे में जानने का मौका देते हैं। सेप्पा में आप म्यूजियम से अपने घूमने की शुरुआत कर सकते हैं। यहाँ पर आपको कई प्राचीन आदिवासी कलाओं का कलेक्शन मिल जाएगा। इसके अलावा उस समय के हथियार, मूर्तियों और किताबें भी देखने को मिलेंगी।

2- पप्पू वैली

पप्पू वैली अरुणाचाल प्रदेश की एक बेहद खूबसूरत घाटी है। यहाँ से आपको हिमालय की शानदार पर्वतमाला देखने को मिलेगी। इस घाटी में चावल का बहुत ज्यादा उत्पादन होता है। इस वजह से इसे अरुणाचाल प्रदेश की बैकबोन भी कहा जाता है। पप्पू वैली में चावल के खेतों के साथ खूबसूरत नजारों का आप लुत्फ उठा सकते हैं। दूर-दूर तक आपको हरियाली ही हरियाली नजर आएगी। आपको एक बार इस घाटी की सैर जरूर करनी चाहिए।

3- पंपोली हॉर्टीकल्चर गार्डन

सेप्पा के पास में ही एक खूबसूरत गाँव है, पंपोली। इसी गाँव में पंपोली हॉर्टीकल्चर गार्डन है। इस गार्डन में आप क्रिएटिव तरीके से पौधों की प्लांटिंग देख सकते हैं। इसके अलावा फलों के बागान और अलग-अलग प्रकार की सब्जियों की खेती देख पाएंगे। इस शांत गाँव का भ्रमण करके आपको जरूर अच्छा लगेगा। आप पंपोली गाँव के लोगों से बात कर सकते हैं और इस जगह को और अच्छे से जान पाएंगे।

4- कमेंग नदी

Photo of अरुणचाल प्रदेश का दिल है ये कस्बा, जहाँ मिलेंगे दिलकश और लुभावने नजारे by Musafir Rishabh

सेप्पा को देखने के बाद आप पास से गुजरती कमेंग नदी को देखने के लिए जा सकते हैं। कमेंग नदी में आप मछली भी पकड़ सकते हैं। आपको कई सारे स्थानीय लोग मछली पकड़ते हुए मिल जाएंगे। अगर आपको राफ्टिंग का शौक है तो कमेंग नदी में रिवर राफ्टिंग भी होती है। भीड़भाड़ से दूर इस शांत जगह पर रिवर राफ्टिंग करने में आपको वाकई मजा आएगा।

5- ट्रेकिंग

अगर आपको रोमांच का वाकई में शौकीन है तो सेप्पा में आप ट्रेकिंग का अनुभव ले सकते हैं। यहाँ पर ट्रेकिंग करने के लिए कई सारे रास्ते हैं। स्थानीय लोगों से बात करने पर आपको उन रास्तों के बारे में पता चल जाएगा। आप अपने साथ गाइड जरूर ले जाएं। ऊंचाई से आपको ये जगह भी खूबसूरत लगेगी और हिमालय रेंज के सुंदर नजारों को भी देख पाएंगे।

6- शॉपिंग

सेप्पा में कई सारें लोकल मार्केट है जहाँ पर आपको आदिवासियों के हैंडीक्राफ्ट मिल जाएंगे। आप सेप्पा को यादगार बनाने के लिए इन दुकानों से कुछ न कुछ जरूर लें। यहाँ पर शॉपिंग करने से आप आदिवासी लोगों की मदद करेंगे इसलिए सेप्पा आएं तो कुछ न कुछ लोकल जरूर खरीदें।

कब जाएं?

सेप्पा कस्बा अरुणाचाल प्रदेश के अदरूनी इलाकों में से एक है। जहाँ सर्दियों में मौसम बहुत ज्यादा ठंडा हो जाता है। उस समय आप इस जगह को अच्छे से नहीं घूम पाएंगे। सेप्पा को एक्सप्लोर करने के लिए गर्मियों का मौसम बेस्ट है। इस मौसम में आप सेप्पा को अच्छे से निखार पाएंगे। गर्मियों में आप सेप्पा मार्च से जून तक के बीच में जा सकते हैं।

कैसे पहुँचे?

ट्रेन से: यदि आप ट्रेन से सेप्पा जाने का प्लान बना रहे हैं तो सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन नाहरलागुन जंक्शन। नाहरलागुन से सेप्पा 205 किमी. है। इसके लिए आपको पहले गुवाहटी पहुँचना होगा और फिर गुवाहटी से नाहरलागुन के लिए ट्रेन पकड़िए।

फ्लाइट से: अगर आप फ्लाइट से सेप्पा जाने का सोच रहे हैं तो सबसे नजदीकी एयरपोर्ट गुवाहटी में है। गुवाहटी एयरपोर्ट से सेप्पा 300 किमी. की दूरी पर है। आप टैक्सी बुक करके अपने गंतव्य तक पहुँच सकते हैं।

वाया रोड: गुवाहटी से आपको सेप्पा के लिए बसें मिल जाएंगी। इसके अलावा आप कार भी बुक कर सकते हैं। अगर आपके पास खुद की गाड़ी है तो सेप्पा की यात्रा आपके लिए शानदार रहेगी।

क्या आपने अरुणाचाल प्रदेश के सेप्पा की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।