SHAURYA SMARAK -- The Pride of India

Tripoto

VAN VIHAR & SHAURYA SAMARAK TOUR.... नमस्कार दोस्तो,पिछली पोस्ट में आपने भोपाल आगमन और VAN VIHAR भ्रमण का पढ़ा होगा अगर नहीं पढ़ा है तो शुरुआती अक्षर पिछली पोस्ट में Click करके आप पढ़ सकते हैं।VAN VIHAR में पूर्णतः आनंदित होकर हम शौर्य स्मारक आए। यह पहला ही मौका था जब मैं यहां आप आई वरना शौर्य स्मारक के बारे में पढ़ा सुना तो बहुत था पर यहां आने का मौका नहीं मिल पाया।

जब देश में सेना और सैनिकों की बात होती है तब से सबसे पहले उनकी शहादत और कुर्बानी को ही याद किया जाता है और जब शहीदों को याद करते हैं तो केवल India Gate ही याद आता है जिसे First World War के समय अंग्रेजों द्वारा बनवाया गया था किंतु जब स्वतंत्र भारत का इतिहास देखते हैं तो हमें किसी भी प्रकार ऐसा स्थान नहीं मिलता है जहां सभी शहीदों को एक साथ स्थान प्राप्त हो।

इसी के मद्देनजर मध्य प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा राजधानी भोपाल में शौर्य स्मारक का निर्माण कराया वाकई सराहनीय है। भोपाल के अरेरा हिल्स में लगभग 12.6 एकड़ भूमि में शौर्य स्मारक का निर्माण किया गया है, जहां देश के सभी वीरों और शहीदों को उचित व सम्मानीय स्थान दिया गया है।

इसका उद्घाटन 14 अक्टूबर 2016 को माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया है इसके साथ ही यह एक ऐसी कोशिश है जिसके द्वारा देश के नागरिकों को सैनिकों और शहीदों से रूबरू कराया जा सके। शौर्य स्मारक बाहर से जितना Simple और सौम्य था अंदर से उतना ही आकर्षक और मनमोहक। Sourya smarak के Entry Gate से हम finally अंदर आ गए। हम यहां 15 अक्टूबर 2017 को आए थे अर्थात लगभग पहली वर्षगांठ पर, वाकई हम सही समय पर आए थे। इस समय यहां Entry Fee नहीं लग रही थी केवल कैमरे का ही charge देना था। खैर जैसे ही हम अंदर आये शानदार गीत प्रस्तुति से ही हमारा स्वागत हो रहा था एक तो इतनी राष्ट्रीयता से परिपूर्ण परिवेश ऊपर से राष्ट्र को समर्पित गीतों की अद्भुत बेला... वाकई यह तो अविस्मरणीय हो गया। अंदर एकदम अलग ही नजारा था जहां बाहर की तरह शहर की मुख्य सड़कें थी वहीं अंदर खूबसूरत प्राकृतिक वातावरण..... वाकई में शहर की लंबी चौड़ी सड़कें और गांव के लंबे लंबे पेड़ दोनों को मिश्रण देखने को भोपाल में ही मिलता है जो शहर के शोरगुल वाले माहौल में मन को एक अपार शांति प्रदान करता है। हम अब वापस शौर्य स्मारक में आ जाते हैं। शौर्य स्मारक की परिकल्पना और इसका निर्माण अद्भुत है।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 1/38 by Ankita Sahu

मुख्य द्वार से जब हम अंदर आते हैं तो एक तरफ खुला हुआ रंग मंच (ऑडिटोरियम) बना हुआ है वहीं सामने शानदार सा गार्डन है कुछ समय रंगमंच में हो रहे गीतों का आनंद लेकर हम आगे बढ़े।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 2/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 3/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 4/38 by Ankita Sahu

आगे तीन सेनाओं से संबंधित एक संग्रहालय का निर्माण किया गया है संग्रहालय वाकई बहुत अचंभित करने वाला था अगर आप अपने अंदर के देश प्रेम और भारतीय सेना के इतिहास को जानने के इच्छुक हैं तो आपको यहां एक बार अवश्य आना चाहिए।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 5/38 by Ankita Sahu

संग्रहालय की प्रवेश वीधिका में विभिन्न चित्र और तस्वीरों के माध्यम से प्राचीन से लेकर आधुनिक इतिहास का सविस्तार चित्रण किया गया है।

इसके पश्चात भारत के समस्त राष्ट्रपतियों के चित्रों को प्रदर्शित किया गया है जो कि भारत की लोकतांत्रिकता के प्रतीक स्वरूप लग रहे थे।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 6/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 7/38 by Ankita Sahu

इसके साथ ही यहां पर अब तक के सभी थल सेना, जल सेना और वायु सेना प्रमुखों के चित्रों को भी प्रदर्शित किया गया है

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 8/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 9/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 10/38 by Ankita Sahu

इसके पश्चात भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन युद्धों के चित्रों को भी इसमें प्रदर्शित किया गया था। इसके पश्चात 1999 में हुए कारगिल युद्धों को भी यहाँ सम्मिलित किया गया था।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 11/38 by Ankita Sahu

इसके पश्चात यहां से आगे इसके पश्चात यहां सियाचिन ग्लेशियर का भी निर्माण किया गया था यहां बिल्कुल सियाचिन की तरह ठंड थी। साथ ही बर्फ की चादर भी हमें स्वयं की उपस्थिति सियाचिन में महसूस करा रही थी।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 12/38 by Ankita Sahu

यहां आकर यहां की ठंड को महसूस करके ही समझ आया भारतीय सैनिक कितने कष्टो को सहकर देश की रक्षा के लिए तत्पर रहते हैं।

और आगे बढ़ने पर हमें हमारे सैनिकों को उनके द्वारा किए गए कार्य हेतु मिले पदको की बेला मिली अर्थात यहां परमवीर चक्र प्राप्त सभी सैनिकों की तस्वीरें प्रदर्शित थीं जिसे देख कर मन प्रफुल्लित तो हुआ पर मन में उनकी यादें नमी भी ला गई।

आखिर आज इन के कारण ही तो हम इसे सुरक्षित और बेफिक्र जीवन जी रहे हैं

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 13/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 14/38 by Ankita Sahu

इसके बाद आगे बढ़ने पर हमें भारतीय थल सेना के टैंक, मिसाइल, नौसेना के युद्धपोत, विमान वाहक पोत, पनडुब्बियों के साथ वायु सेना के युद्धक विमान आदि के मॉडल दिखाई दिए जो भारतीय सेना की सफलता को बयां कर रहे थे।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 15/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 16/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 17/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 18/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 19/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 20/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 21/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 22/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 23/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 24/38 by Ankita Sahu

इसके पश्चात हम युद्ध के रंगमंच नामक खुले मैदान में आते हैं यहां द्वार में एक दीप भी प्रचलित है यही भारतीय सैनिकों के सम्मान का सूचक है

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 25/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 26/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 27/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 28/38 by Ankita Sahu

इसके पश्चात हम संग्रहालय परिधि से बाहर आ गए यहां तीनों सेनाओं के सैनिकों की याद और सम्मान में एक स्मारक बनाया गया है जिसमें डिजिटल ज्योति प्रज्ज्वलित है

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 29/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 30/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 31/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 32/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 33/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 34/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 35/38 by Ankita Sahu

इसके अलावा शहीदों को सम्मान और श्रद्धांजलि देने के लिए बूट और बंदूक के चिन्ह भी इस परिसर में उपस्थित हैं

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 36/38 by Ankita Sahu

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 37/38 by Ankita Sahu

इसके बाद इसके बाद हम लाल रंग के एक स्मारक की तरफ आए जो शायद नमस्कार का प्रतिरूप था या फिर A Drop of Blood का प्रतिरूप, खैर जो भी है यह बहुत अच्छा और खूबसूरत था।

Photo of SHAURYA SMARAK -- The Pride of India 38/38 by Ankita Sahu

इस शौर्य स्मारक में देशभक्ति से ओतप्रोत होकर घूमते घूमते कब शाम हो गई पता ही नहीं चला। वाकई शौर्य स्मारक में आकर यहां का संग्रह, शहीदों की कुर्बानी का स्मारक देख कर मन को जितनी खुशी और गर्व महसूस हुआ उसे सारे शब्दों में बयां कर पाना थोड़ा मुश्किल है, पर वाकई आज भारतीय होने पर इतना गर्व महसूस हुआ क्योंकि मैं एेसे देश की नागरिक हूं जहां के नागरिकों की रक्षा का दायित्व एक ऐसी सेना के हाथों में है जो देश की खातिर कुछ भी करने को तत्पर हैं।

इस प्रकार यह यात्रा यहीं समाप्त होती है परंतु यहां यात्राओं का सफर जारी रहेगा। आशा करती हूं आपको यह POST अवश्य पसंद आया होगा अगर आप किसी भी तरह का सुझाव देना चाहते हैं तो आपके सुझाव सादर आमंत्रित है

Be the first one to comment