केरल की इस खूबसूरत घाटी में शांति ही शांति है, पता है क्यों?

Tripoto
Photo of केरल की इस खूबसूरत घाटी में शांति ही शांति है, पता है क्यों? by Musafir Rishabh

केरल वाकई में भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से है। यहाँ के बैकवॉटर्स को देखने केवल देश ही नहीं बल्कि दुनिया के हर कोने से लोग आते हैं। केरल आकर हर नेचर लवर को सुकून मिलता है। राज्य का हरा-भरा लैंडस्केप और समृद्ध बायोडाईवर्सिटी देखने लायक हैं। यदि आप केरल में कुछ समय बिताना चाहते हैं तो आपको साइलेंट वैली आना चाहिए। ये जगह अपने आप में पूरी दुनिया है। प्रकृति प्रेमियों को साइलेंट वैली खूब पसंद आती है। यदि आप भी किसी वेकेशन पर जाने का मन बना रहे हैं जिसमें आपको नेचर के बीच रिलैक्स करने का मौका मिल सके तो साइलेंट वैली आपके लिए बढ़िया ऑप्शन है।

साइलेंट वैली

साइलेंट वैली केरल के पल्लकड़ जिले में स्थित है। साइलेंट वैली केरल में बचे आखिरी रेनफॉरेस्ट का घर भी है। ये घाटी अपने आप में इतनी खूबसूरत है कि यहाँ आने वाला हर व्यक्ति इसकी सुंदरता में खो जाता है। केरल की साइलेंट वैली इस इलाके के जंगलों को संरक्षित करने के लिए उठाया गया सबसे महत्त्वपूर्ण कदम है। साइलेंट वैली को 1984 में साइलेंट वैली नेशनल पार्क घोषित कर दिया गया था जिसके बाद इसको पर्यटकों के लिए 1985 में आधिकारिक तौर पर खोल दिया गया था। इस घाटी में आपको वो सबकुच देखने के लिए मिलेगा जो एक प्राकृति प्रेमी को खुश कर देगा। यदि आप वेस्टर्न घाट पर स्थित सबसे खूबसूरत और हैरान कर देने वाले नजारे देखना चाहते हैं तो आपको बिना ज्यादा सोचे तुरंत साइलेंट वैली की ओर बढ़ जाना चाहिए।

टाइमिंग और एंट्री फीस

अगर आप साइलेंट वैली घूमने जाना चाहते हैं तो कुछ चीजें हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होना बेहद आवश्यक हो जाता है। साइलेंट वैली में सुबह 8 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक पर्यटकों को आने की अनुमति दी जाती है। हालांकि यदि आप नेशनल पार्क में हैं तो आप 5 बजे तक वापस आने की छूट दी जाती है। वहीं यदि आप घाटी के जंगलों में जाना चाहते हैं तो आप सुबह 6.45 बजे से दोपहर 2.45 तक जा सकते हैं। साइलेंट वैली में एंट्री करने के लिए आपकी एंट्री फेस के तौर पर 50 रुपए प्रति व्यक्ति देने होते हैं। यदि आप अपनी गाड़ी से जाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको 1,600 रुपए प्रति व्यक्ति देने होंगे। वहीं यदि आप गाइड लेना चाहते हैं तो आपको 150 रुपए चार्ज देना होता है। साइलेंट वैली में कैमरा ले जाने के लिए भी आपको पैसे देने होते हैं। यदि आप केवल फोटोग्राफी करना चाहते हैं तो उसके लिए 25 रुपए और यदि आप वीडियो भी बनाना चाहते हैं तो उसके लिए 200 रुपए देने होते हैं।

क्या करें?

साइलेंट वैली तरह के जीव-जंतुओं और वनस्पतियों से भरी हुई है। यदि आपको वन्य जीवों और पेड़-पौधों में रुचि है तो ये जगह आपको जरूर पसंद आएगी।

1. वाइल्डलाइफ सफारी

साइलेंट वैली में सबसे पहले आपको वाइल्डलाइफ सफारी का मजा उठाना चाहिए। साइलेंट वैली में आप तरह तरह के जानवर देख सकते हैं। साइलेंट वैली प्राकृतिक सुन्दरता से भरी हुई है जिसका श्रेय यहाँ मिलने वाले पेड़ पौधों को जाता है। अकेले साइलेंट वैली में लगभग 70 से 80 प्रकार के पेड़ पाए जाते हैं जिसमें ऑर्किड जैसे फूलों वाले पौधों के साथ साथ काली मिर्च और इलायची जैसे पौधे भी शामिल हैं। साइलेंट वैली में जानवरों की भी अच्छी वैरायटी देखने के लिए मिलती है जिसमें गिलहरी, लंगूर, पैंथर, चीता, भालू शामिल हैं।

2. वॉचटावर से नजारे देखें

सफारी के दौरान घाटी के सबसे मोहक नजारों के लिए आपको वॉचटावर पर जरूर रुकना चाहिए। साइलेंट घाटी का विशाल क्षेत्रफल पूरी तरह से पेड़ों की घनी चादर से ढका हुआ है। वॉचटावर से देखने पर ये नजारा किसी सुन्दर कैनोपी की तरह लगता है जो आपको जरूर पसंद आएगा। वॉचटावर से आपको बर्ड वाचिंग करने में भी मदद मिलेगी। टावर के ऊपर रुककर आप साइलेंट वैली के सभी खूबसूरत दृश्यों का आनंद ले सकते हैं।

3. कुंती नदी ट्रेक

साइलेंट वैली कुंती नदी के किनारे पर बसी हुई है। वॉचटावर से आकर्षक नजारे देखने के बाद आपको अगले चरण में ट्रेकिंग करनी होगी। ये ट्रेक वॉचटावर के तुरंत बाद शुरू होती है और कुंती नदी तक जाती है। घाटी के हरे-भरे जंगलों से होते हुए ये छोटी सी ट्रेक आपको अंत में कुंती नदी के किनारे पर खड़ा करती है जहाँ आपको बोटिंग की सुविधा भी दी गई है। कुंती रिवर ट्रेक साइलेंट वैली का सबसे शानदार और रोमांचक हिस्सा है। आड़े तिरछे रास्तों और घने जंगलों से होते हुए कुंती नदी तक आना यकीनन मजेदार होता है।

कहाँ ठहरें?

साइलेंट वैली में ठहरने के लिए सबसे नजदीकी ऑप्शन्स पलक्कड़ में हैं। पलक्कड़ में आपको होटल और गेस्ट हाउस से लेकर आलीशान रिजॉर्ट्स भी मिल जाएंगे जहाँ आप ठहर सकते हैं। प्लांटर्स रिट्रीट, साइलेंट वैली रिजॉर्ट और ट्री टॉप रिजॉर्ट जैसी शानदार प्रॉपर्टीज को आप अपना ठिकाना बना सकते हैं। यदि आप रिजॉर्ट से ठहरना चाहते हैं तो आपको 5,000 से लेकर 10,000 रुपए में कमरा मिल जाएगा। रहने के लिए आप होटल और गेस्ट हाउस का भी चुनाव कर सकते हैं जहाँ आपको कम कीमतों में कमरा मिल जाएगा।

कब जाएँ?

साइलेंट वैली केरल की ऐसी जगह है जहाँ आप साल के किसी भी समय आ सकते हैं। लेकिन यदि आप सबसे सही समय आना चाहते हैं तो आपको दिसंबर से अप्रैल के बीच घूमने आने का प्लान बनाना चाहिए। साल के इस समय केरल का मौसम सुहाना बना रहता है और आपकी चिपचिपी गर्मी से निजात मिल जाएगा। हालांकि ध्यान देने वाली बात ये है कि साल के अलग अलग समय पर आपको साइलेंट वैली का अलग प्रकार का रूप देखने के लिए मिलेगा। गर्मियों के समय साइलेंट वैली के नजारे मानसून और सर्दियों से एकदम अलग होते हैं। इसलिए आप जब भी साइलेंट वैली देखने आएँ, मौसम को देखते हुए प्लान बनाएँ।

कैसे पहुँचें?

आप फ्लाइट, ट्रेन और वाया रोड किसी भी रास्ते साइलेंट वैली आ सकते हैं।

फ्लाइट: यदि आप फ्लाइट से साइलेंट वैली आना चाहते हैं तो आपको कोयंबटूर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए फ्लाइट बुक करनी होगी जो घाटी से लगभग 117 किमी. की दूरी पर है। कोयंबटूर एयरपोर्ट देश के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है और आपकी आसानी से फ्लाइट मिल जाएगी। एयरपोर्ट से आप कैब लेकर या सरकारी बसों का इस्तेमाल करके साइलेंट वैली आ सकते हैं।

ट्रेन: केरल का पलक्कड़ जंक्शन साइलेंट वैली से सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन है जो महज 45 किमी. की दूरी पर स्थित है। कोयंबटूर एयरपोर्ट की तरह पलक्कड़ भी अन्य बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है और आपकी आसानी से ट्रेन मिल जाएंगी। पलक्कड़ पहुँचकर आप कैब या बस लेकर साइलेंट वैली पहुँच सकते हैं।

वाया रोड: अगर आप वाया रोड साइलेंट वैली आना चाहते हैं तो उसमें भी आपको कोई परेशानी नहीं आएगी। साइलेंट वैली आने के लिए आप अपनी गाड़ी और कैब के साथ साथ सरकारी और प्राइवेट बसों की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है जिससे आप आसानी से साइलेंट वैली पहुँच सकते हैं।

इन बातों का रखें ध्यान:

1. बरसात के मौसम में साइलेंट वैली जाने से बचना चाहिए। साल के इस समय भरी बारिश के चलते घाटी में कीचड़ जैसे हालात हो जाते हैं जिसके कारण आपको घूमने में परेशानी हो सकती है।

2. साइलेंट वैली शुक्रवार को बंद रहती है। इसलिए आने से पहले अपना कैलेंडर जरूर चेक कर लें।

3. घाटी के कुछ इलाकों में प्रवेश वर्जित है। हालांकि यदि आप इन हिस्सों में जाना चाहते हैं तो आपको खास परमिशन लेने होती है।

4. सफारी के दौरान आपको तय स्टॉप्स के अलावा और किसी भी जगह पर उतरने की अनुमति नहीं दी जाती है।

5. साइलेंट वैली मार्च से मई बंद रहती है और इस समय पार्क के अंदर किसी को भी आने की इजाजत नहीं दी जाती है।

क्या आपने साइलेंट वैली की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें