कच्छ के ईतिहास को जानने के लिए जरूर देंखे भुज शहर का कच्छ मयुजियिम

Tripoto
10th Aug 2021
Day 1

#मेरी_कच्छ_भुज_यात्रा
#कच्छ_मयुजियिम
  स्वामीनारायण मंदिर से सीधे आधा किलोमीटर  पैदल चलने के बाद मैं कच्छ संग्रहालय के द्वार पर पहुंचा।  किसी भी स्थान के भूगोल, इतिहास, समाज को समझने के लिए वहां के संग्रहालय को अवश्य देखना चाहिए।  मैं अक्सर भारत के किसी भी राज्य का दौरा करता हूं या वहां एक संग्रहालय का दौरा करता हूं, जो आपके ज्ञान को बढ़ाता है और उस क्षेत्र के इतिहास और भूगोल को भी प्रकट करता है।  इस बार किसमत साथ नहीं थी, कच्छ संग्रहालय कोरोना के कारण बंद था, संग्रहालय के बाहर खड़े सुरक्षा गार्ड ने कहा कि संग्रहालय खोलने का आदेश अभी नहीं आया है, संग्रहालय अगले आदेश तक बंद है।  मैं 2014 में भुज की यात्रा के दौरान अपने परिवार के साथ कच्छ संग्रहालय गया था, जिसके बारे में मैं थोड़ी जानकारी लिखूंगा।  कच्छ संग्रहालय गुजरात का सबसे पुराना संग्रहालय है।  इसमें कच्छ के भूगोल और इतिहास के बारे में बहुत सारी जानकारी है।  यहीं पर मैंने पढ़ा, कच्छ भूकंपों की भूमि है।  हर पचास या सौ साल में एक बड़ा भूकंप आता है, जो क्षेत्र में सब कुछ नष्ट कर देता है।  यह सिलसिला सदियों से चला आ रहा है।आखिरी भूकंप का उदाहरण 2001 है।  कच्छ में ही, धोलावीरा सिंधु घाटी सभ्यता का केंद्र था जो शायद भूकंप से नष्ट हो गया था।  अठारहवीं शताब्दी में आए भूकंपों ने सिंधु को पश्चिम की ओर पाकिस्तान में बहने का कारण बना दिया, जो एक बार कच्छ में बहती थी, जिसका एक उदाहरण लखपत का पुराना बंदरगाह था जहां से गुरु नानक मक्का के लिए रवाना हुए थे।  कच्छ में सरस्वती नदी भी बहती थी जो नारायण सरोवर के पास समुद्र में गिरती थी।  कच्छ के राजाओं का इतिहास, कच्छ साम्राज्य के हथियार, कच्छ के गहने, कच्छ की जनजाति, कच्छ का भूगोल, कच्छ के संग्रहालय में उत्कृष्ट मानचित्रों के माध्यम से दिखाया  गया है।  भुज के कच्छ संग्रहालय को कच्छ में घूमते समय अवश्य देखना चाहिए
सड़क के दूसरी ओर, संग्रहालय के ठीक सामने, हमीरसर झील नामक एक सुंदर तालाब है।  तालाब का नाम कच्छ के राजा हमीर के नाम पर रखा गया है।  यह झील काफी बड़ी है, संभवत: कच्छ के राजाओं के शासनकाल के दौरान पूरे भुज में पानी की आपूर्ति करती थी।  मैंने इस हमीरसर झील की कुछ तस्वीरें भी लीं जबकि झील में पानी अब कम था।  झील के ऊंचे तटों पर कई मेवाड़ प्रेम आइसक्रीम विक्रेता और अन्य खाने-पीने के ठेले लगे हुए थे।  भुज में उस दोपहर बहुत गर्मी थी।  मेरा मन भी कुछ ठंडा पीने को कर  रहा था।  आइसक्रीम पार्लर के पीछे कुर्सी पर बैठकर हमीरसर झील के खूबसूरत नजारे का आनंद लेते हुए 30 रुपये में एक गिलास चॉकलेट शेक पी लिया।   चॉकलेट शेक पीने के बाद मैं पराग  महल की ओर चल पड़ा।

कच्छ मयुजियिम भुज

Photo of Kutch Museum Road by Dr. Yadwinder Singh

कच्छ मयुजियिम भुज

Photo of Kutch Museum Road by Dr. Yadwinder Singh

हमीरसर झील भुज

Photo of Kutch Museum Road by Dr. Yadwinder Singh

हमीरसर झील

Photo of Kutch Museum Road by Dr. Yadwinder Singh

More By This Author

Further Reads