लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट

Tripoto
Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट by Neha Gupta

भारत के उत्तर में हिमालय की वादियों में स्थित लद्दाख बहुत ही सुन्दर राज्य है। लद्दाख में दो जिले है, इन जिलों का नाम लेह और कारगिल है। लेह बहुत ही खूबसूरत स्थान है। यहाँ हर साल बहुत बड़ी संख्या में लोग देश विदेश से घूमने के लिए आते है। इठलाती ,बलखाती ,ठहाके लगाती सिंधु नदी इसी क्षेत्र से गुजरती हैं । यहाँ के निर्जन क्षेत्र के सौन्दर्य में चार चाँद भी लगाते हैं यहाँ की झील और झरने ।

खार दुंग ला दर्रा

खार दुंग ला दर्रा को खड़जोंग दर्रा भी कहा जाता है। नुब्रा और श्योक घाटियों में प्रवेश करने वाले रास्ते को खार दुंग ला दर्रा कहा जाता है। पर्यटक इस स्थान पर आकर खुद को बहुत ज्यादा हल्का और ताज़ा महसूस करते है।खार दुंग ला पास की प्राकृतिक सुंदरता ,वहाँ की हवा यह महसूस करवाती हैं जैसे की आप दुनिया के सबसे ऊंचे स्थान पे हो । साथ मे आप काराकोरम रेंज और हिमालय के सुरमय दृश्य को देख सकते हैं । साहसिक ,उत्साही ,शांति और माउंटेन बाइकिंग के लिए ये स्थान बेस्ट हैं ।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 1/11 by Neha Gupta

हेमिस मठ

हेमिस मठ का इतिहास 11 वी शताब्दी के करीब का है। यह मठ सुंदर प्राकृतिक परिवेश और प्राचीन आध्यात्मिक संस्कृति से युक्त है। यहां बौद्ध आध्यात्मिक अनुयायियों की आमद है। इस मठ की सुंदर वास्तुकला सबसे पहले आपको बता दें कि हेमिस मठ का निर्माण 1630 में स्टैगसांग रास्पा नवांग ग्यात्सो द्वारा किया गया था और एक बार इस मठ के क्षतिग्रस्त हो जाने के बाद 1672 में लद्दाखी राजा सेंगगे नामग्याल द्वारा फिर से बनाया गया था। तिब्बती शैली की शानदार वास्तुकला में देखा जा सकता है, जो कई रंगों से सजी है और बहुत ही आकर्षक है। हेमिस मठ को दो मुख्य भागों में विभाजित किया गया है, पहला भाग सभा भवन है जिसे 'दुखंग' के नाम से जाना जाता है और दूसरा मुख्य भाग 'शोंगखांग' के नाम से जाना जाने वाला मंदिर है। मुख्य भवन परिसर में प्रवेश एक बड़े द्वार के माध्यम से होता है जो आयताकार आंगन की ओर जाता है और इसकी दीवारों पर सफेद रंग होता है। हेमिस मठ की सबसे खूबसूरत बात यह है कि इसकी दीवारों को धार्मिक आकृतियों के सुंदर चित्रों से सजाया गया है। स्तूपों के साथ भगवान बुद्ध की मूर्ति इसका प्रमुख आकर्षण है। इस मठ के परिसर में तिब्बती धार्मिक पुस्तकों का एक पुस्तकालय भी स्थित है।भगवान पद्म संभव के को समर्पित हर साल उत्सव आयोजित किया जाता है। जिसको देखने के लिए दुनिया के कोने कोने से लोग आते है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 2/11 by Neha Gupta

पांगोंग झील

पैंगोंग झील जिसे पैंगोंग त्सो के नाम से भी जाना जाता है, हिमालय में स्थित एक सुंदर एंडोरेइक झील है और 134 किमी लंबी है, जो भारत से चीन तक फैली हुई है। पैंगोंग झील 4350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और देश के सबसे बड़े पर्यटक आकर्षणों में से एक है। इस झील को इतना लोकप्रिय बनाने वाली एक बात यह है कि यह रंग बदलती रहती है। हिमालय पर्वतमाला में स्थित यह जम्मू और कश्मीर में लेह से लगभग 140 किमी दूर है। पैंगोंग झील का नाम तिब्बती शब्द बांगगोंग को से लिया गया है जिसका अर्थ है एक संकरी और मंत्रमुग्ध झील। और अब आप जानते हैं कि झील को इसका नाम सही मिला है। यह आपको तब पता चलेगा जब आप पैंगोंग की खूबसूरत झील की सैर करेंगे। आप आकर्षण से मुग्ध होने के लिए निश्चित हैं।

इस झील की सुंदरता और आकर्षण ने देश-विदेश के लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया है। दूर दूर तक बर्फ से ढके पहाड़, झील का पानी, ठंडी ठंडी हवा के झोंके हर एक पर्यटक को अपनी तरफ खींचने का काम करते है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 3/11 by Neha Gupta
Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 4/11 by Neha Gupta

मैग्नेटिक हिल

लेह-लद्दाख की अपनी यात्रा में, आप आकर्षक स्थलों को देखेंगे जो आपकी उत्सुकता को समाप्त नहीं करेंगे। ऐसा ही एक आकर्षण है मैग्नेटिक हिल, वह जगह जहां गुरुत्वाकर्षण पीछे हट जाता है। लेह से लगभग 30 किमी की दूरी पर स्थित मैग्नेटिक हिल को एक पीले रंग के साइनबोर्ड द्वारा चिह्नित किया गया है, जिस पर लिखा है "द फेनोमेनन दैट डिफ्स ग्रेविटी"। यह आपको अपने वाहनों को सड़क पर एक सफेद बिंदु के साथ चिह्नित बॉक्स में पार्क करने का भी निर्देश देता है, जिसे चुंबकीय सड़क के रूप में जाना जाता है। निर्धारित स्थान पर खड़े होने पर वाहन लगभग 20 किमी / घंटा की गति से आगे बढ़ने लगते हैं।

चुंबकीय पहाड़ी ट्रांस-हिमालयी क्षेत्र में लेह-कारगिल-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है। चुंबकीय पहाड़ी के पूर्व में सिंधु नदी बहती है, जिससे आसपास का वातावरण फोटोग्राफर को खूब आनंदित कर देता है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 5/11 by Neha Gupta

लेह महल

17 वीं शताब्दी में राजा सेंगगे नामग्याल ने अपने लिए बहुत ही सुन्दर महलबनवाया था। लेह शहर की सुंदरता को यह महल चार चाँद लगता नज़र आता है।यदि महलों में एक आत्मा होती, तो इस स्थान ने लेह के कायापलट में एक स्पष्ट परिवर्तन देखा होगा, जो तिब्बत के निकट एक कट-ऑफ क्षेत्र से लेकर एक हलचल भरे शहर तक, अंततः दुनिया भर के यात्रियों की पसंद को आकर्षित करता है, और फिर समाप्त होता है। एक प्रतिष्ठा के साथ जो अब 3 इडियट्स की प्रसिद्धि से जुड़ी हुई है।

तो यह लेह पैलेस है जो अधिक प्रसिद्ध पोटाला के लिए एक मॉडल के रूप में खड़ा था। एक नौ मंजिला संरचना, जो ज्यादातर मिट्टी, चट्टानों और लकड़ी से बनी है, जो तीव्र भूकंपीय गतिविधि के क्षेत्र में खड़ी है, कोई साधारण उपलब्धि नहीं है। उल्लेख नहीं है कि 16 वीं शताब्दी में, सभी निर्माण सामग्री को घोड़ों पर या हाथ से इस खड़ी और उबड़-खाबड़ पहाड़ी की चोटी तक ले जाना पड़ता था। यह राजा सेंगगे नामग्याल के लिए शाही क्वाटर था और अभी भी लगभग जीवित प्रार्थना कक्ष है। भव्य लेह पैलेस बौद्ध धर्म के साथ-साथ संस्कृति का एक महत्वपूर्ण केंद्र है। महल में एक मठ भी शामिल है जिसमें भगवान बुद्ध की एक मूर्ति है। महल के प्रदर्शनी हॉल में, पुराने चित्रों और चित्रों पर एक नज़र डालें, तिब्बती थांगका के साथ कुछ महान कलात्मक कार्य। यहां की कुछ पेंटिंग 450 साल पुरानी हैं और उन रंगों का उपयोग करके बनाई गई हैं जो पाउडर रत्नों और पत्थरों से बनाए गए थे। वे देखने वालों को बिलकुल नए जैसे लगते हैं। लेह पैलेस में, आप शाही गहनों, औपचारिक पोशाकों और मुकुटों का एक अद्भुत संग्रह भी देख सकते हैं।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 6/11 by Neha Gupta

चादर ट्रैक

लोकप्रिय रूप से चादर रिवर ट्रेक या ज़ांस्कर ट्रेक के रूप में जाना जाता है । यह पूरी दुनिया में अपनी तरह का एकमात्र है। "चादर" शब्द का अर्थ "कंबल" है और यह बर्फ के आवरण की चादर का प्रतिनिधि है जो सर्दियों के अंत में जमी हुई ज़ांस्कर नदी के ऊपर बनता है। ट्रेक पर आपको एहसास होगा कि इसका बेहतर वर्णन नहीं किया जा सकता है। चादर फ्रोजन रिवर ट्रेक लद्दाख जिसे आज भी जाना जाता है, सर्दियों के दौरान ज़ांस्कर नदी के किनारे के गांवों को जोड़ने वाला एक पैदल मार्ग है। सदियों से, इस जमी हुई नदी-तल का उपयोग स्थानीय लोगों द्वारा व्यापार और परिवहन के लिए किया जाता रहा है। यह मार्ग जनवरी या फरवरी के महीने में सबसे विश्वसनीय होता है जब बर्फ की चादर सबसे अधिक स्थिर और मोटी होती है।

जांस्कर नदी साल भर बड़ी और तेजी से बहने वाली नदी है। यह एक खड़ी घाटी के माध्यम से बहती है, अधिकांश भाग के लिए, चिलिंग और ज़ांस्कर घाटी के बीच ट्रेक अद्वितीय है, यह उच्च ऊंचाई पर है और यह बर्फ की जमी हुई चादर पर है। चिलिंग से ज़ांस्कर घाटी तक के इस लद्दाख ट्रेक में एक सप्ताह से अधिक समय लगता है। हम अधिकतर सैर दिन के उजाले में किया जाता हैं । यह देखने बहुत ही खूबसूरत दृश्य दिखाई देता है। चादर ट्रैक पर चलना बहुत ही जोखिम भरा होता है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 7/11 by Neha Gupta
Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 8/11 by Neha Gupta

फुगताल मठ

जिन लोगों की आध्यात्मिक विचारो में रुचि है, उन के लिए फुगताल मठ बहुत अच्छा स्थान है। इतिहासकारों के हिसाब से फुगताल मठ 2250 साल पुराना है। फुगताल मठ में आध्यात्मिक विचारो वाले लोग रहते है। इस स्थान पर पैदल चलकर आना पड़ता है। ट्रैकिंग के लिए यह बहुत ही बढ़िया स्थान है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 9/11 by Neha Gupta

पथर साहिब गुरुदवारा साहिब

पथर साहिब गुरुदवारा साहिब लोगों के आकर्षण का केंद्र है। लेह आने वाले पर्यटकइस स्थान पर जरूर आते है। पथर साहिब गुरुदवारा साहिब गुरु नानक देव को समर्पित है। सेना और ट्रैक ड्राइवर लोगों के लिए स्थान बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 10/11 by Neha Gupta

शांति स्तूप

शांति स्तूप का निर्माण जापान के एक बौद्ध भिक्षु ने किया था। बौद्ध भिक्षु का नाम ग्योम्यो नाकामुरा और 14 वे दलाई लामा थे। शांति स्तूप सफ़ेद रंग का गुंबद है। बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग पूजा करने के लिए आते है। यहाँ आने वाले पर्यटक को बहुत ज्यादा शांति महसूस होती है। लेह शहर से 500 सीढ़ियों का एक रास्ता है, जिस पर चलकर पर्यटक यहाँ पर पहुंच सकते है।

Photo of लद्दाख की अनजानी गलियों की खोज: घुमक्कड़ और फोटोग्राफर के लिए बेस्ट 11/11 by Neha Gupta

यात्रा सभी के लियें हैं।

Pic :- Source

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।