घूमने के साथ बच्चों को बनाना है स्मार्ट तो इन जगहों पर करें यात्रा!

Tripoto
Photo of घूमने के साथ बच्चों को बनाना है स्मार्ट तो इन जगहों पर करें यात्रा! 1/6 by लफंगा परिंदा

बच्चे जो देखते हैं, वही सीखते हैं।

इसलिए अगर अपने बच्चों के साथ घूम रहे हैं तो काफी सोच समझ कर ही जगह चुनें।

हो सके तो ऐसी जगह चुनें जहाँ आपका बच्चा अपने समाज और देश की कला, सभ्यता, संस्कृति, और वन्यजीवों के बारे में जान सके।

आपकी सहूलियत के लिए चार ऐसी जगहें चुन कर लाये हैं, जहाँ मौज-मस्ती के अलावा खूब सारा ज्ञान भी है। अबकी बार छुट्टियों में बच्चे आपके फैन होने वाले हैं:

1. आसाम

पशु पक्षियों और पर्यावरण के लिए दया और प्यार की भावना अगर कहीं देखने को मिलती है तो वो है आसाम में काज़ीरंगा नैशनल पार्क में। यूनेस्को ने इस नैशनल पार्क को वर्ल्ड हेरिटेज साईट घोषित किया हुआ है।

सन 1902 में इस पार्क में एक सींग वाले गेंड़ों की संख्या सिर्फ 200 थी, मगर आज यहाँ लगभग 2400 गेंडे निडर होकर घूमते दिखते हैं। गेंडों के अलावा यहाँ एशियाई भैंस और बारहसिंगा भी पाए जाते हैं। अगर यहाँ जाने का प्लान बने तो आई.ओ.आर.ए - द रिट्रीट में ठहरिये। या चाहें तो पास ही में डिफ्लू रिवर लॉज में भी रुक सकते हैं, जहाँ भारत घूमने आये कैम्ब्रिज के ड्यूक प्रिंस विलियम और डचेस केट मिड्लटन भी रुके थे।

बरसात में ये पार्क बंद कर दिया जाता है, इसलिए यहाँ घूमने का प्लान पहले ही बना लें।

पार्क के अलावा आसाम में एक और बेहद नायाब घूमने की जगह है। यहाँ ब्रह्मपुत्र नदी में दुनिया का सबसे बड़ा द्वीप है, जिसका नाम है माजुली। पिछले कुछ दशकों में आयी बाढ़ के चलते माजुली का एक तिहाई हिस्सा पानी में डूब गया है। इससे पहले की ये महान द्वीप पानी में पूरा समा जाए, एक बार परिवार और बच्चों को माजुली घुमाने ले जाइये।

2. गुजरात

5000 वर्ग कि.मी. में फैला कच्छ का रेगिस्तान जहाँ मीलों तक नमक की सफ़ेद रेत बिखरी है। ऐसी अनोखी जगह पर अगर परिवार के साथ जीप में सवार होकर इस रेगिस्तान में बने अभयारण्य की सैर करें तो ज़िन्दगी भर के लिए यादें साथ लेकर जायेंगे। घूमते हुए कई जंगली जानवर और पक्षी भी दिख जायेंगे, जैसे गुलाबी फ्लेमिंगो, लोमड़ी और जंगली गधा।

ठहरने के लिए आपको यहाँ दसाड़ा में रण राइडर्स नाम से एक ईको -फ्रेंडली लॉज मिल जायेगा , जिसे गाँव की तर्ज़ पर बनाया गया है। यहाँ आपको कच्ची झोपड़ियों से लेकर गाँव की हस्तकला, खान-पान और रहन-सहन के बारे में पता चलेगा। रण राइडर्स में जीप सफारी, ऊँट-घोड़े की सवारी जैसे मनोरंजन के कई साधन हैं।

Photo of घूमने के साथ बच्चों को बनाना है स्मार्ट तो इन जगहों पर करें यात्रा! 3/6 by लफंगा परिंदा
जंगली गधे

अगर बच्चों को इतिहास लुभाता है तो उन्हें धोलावीरा ले जाओ, जहाँ 4500 साल पुरानी सिंधु-घाटी सभ्यता के अवशेष देखने को मिलेंगे। हड़प्पन सभ्यता के समय के कुँए, और बर्तन देख कर बच्चे इतिहास के बारे में अपने स्कूल के दोस्तों से ज़्यादा गहरी जानकारी काफी करीब से ले पाएँगे। कच्छ जाने का प्लान बनाओ तो साथ में मांडवी बीच भी ज़रूर घूमना। मांडवी बीच पर रात को ठहरने के लिए विजय विलास पैलेस एस्टेट चुनें, जहाँ आपको अपना एक प्राइवेट बीच भी दिया जाएगा ।

Photo of घूमने के साथ बच्चों को बनाना है स्मार्ट तो इन जगहों पर करें यात्रा! 4/6 by लफंगा परिंदा
धोलावीरा में होती खुदाई

3. कूर्ग

नगरहोल नैशनल पार्क

यहाँ आपको सफारी के दौरान तो बाघ और हाथी देखने को मिलेंगे ही, लेकिन अगर हाथियों के साथ थोड़ा करीब से जानना है तो दुबारे एलिफेंट कैम्प जाइये। यहाँ आप हाथियों के साथ खेल सकते हैं और उन्हें नहला भी सकते हैं।

ठहरने के लिए द सराय नाम का लक्ज़री कॉटेज है, जहाँ पास ही बहती जलधारा के नज़दीक परिवार के साथ पिकनिक मनाई जा सकती है।

इसके अलावा कूर्ग में कॉफी के बागानों में घूमिये, ट्रेकिंग कीजिये, गाँव की सैर करिये, गोल्फ का मज़ा लीजिये। कूर्ग के ऑरेंज काउंटी में लिली पूल बंगलो नाम की ठहरने की जगह है, जहाँ आपके बच्चों को प्राइवेट पूल और आँगन भी मिलेगा। रिज़ॉर्ट में ही कॉफी लॉन्ज, लाइब्रेरी, स्पा, और रेस्टोरेंट भी हैं। कूर्ग का मौसम इतना अच्छा है, कि आप साल भर कभी भी यहाँ घूमने आ सकते हो।

4. पुणे

पहली बात तो पुणे में इमेजिका थीम पार्क है। यहाँ बच्चे अलग-अलग तरह की मस्ती-भरी राइड्स पर जा सकते हैं। पार्क में ही नोवोटेल नाम का होटल है, जहाँ आप ठहर सकते हैं।

फिर हम आते हैं ABC फार्म्स पर, जहाँ आपको कई प्रकार की 'चीज़' चखने का मौका मिलेगा। बच्चे थोड़े बड़े हैं तो आपके साथ नाशिक में सोमा वाइनरी जा सकते हैं , जहाँ आप लोग कई तरह की वाइन्स चख सकते हैं। अगर बच्चे छोटे हैं तो यहाँ के रेड रूम में उन्हें कई तरह के गेम्स मिल जायेंगे, साईकिल चलाते हुए अंगूर के बगीचों की सैर कर सकते हैं, पूल में स्विमिंग कर सकते हैं।

उत्तर भारत में घूमने लायक पारिवारिक जगहें :

शिमला से 25 कि.मी. दूर इस रिज़ॉर्ट में इनडोर गेम्स और डांस क्लासेज तो हैं ही, साथ में आप बच्चों को लेकर गाँव की सैर करने भी जा सकते हैं।

ट्रीहाउस होटल्स

अपने पर्सनल ट्रीहाउस नेस्ट में रहो, जहाँ आपको मिलेगा वाई-फाई , टीवी, खुली बालकनी, और बाथटब।

ट्रवेलियर बाय ट्रीहाउस

दिल्ली के पास ही बने इस रिज़ॉर्ट में आप परिवार के साथ पिकनिक मनाने जा सकते हो। इनका 'पिकनिक बास्केट' नाम से एक ख़ास पॅकेज भी है, जिसमें आपका परिवार रैपलिंग, ज़िप लाइनिंग, तीरंदाज़ी और पेंटबॉल जैसे गेम्स के मज़े ले सकता है।

तो अपने बच्चों को छुट्टियों पर घूमाने ले जाने के साथ उनकी ज़िंदगी में एक यादगार सीख भी जोड़ें। 

यात्रा से जुड़ी सारी जानकारी और मज़ेदार किस्से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Tripoto हिंदी फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Be the first one to comment

Further Reads