गोवा से भी सुंदर और साफ बीच, वो भी बजट में! चलों करें उड़ीसा के इन 6 समुद्रतटों का सफर 

Tripoto

सबसे किस्मत वाले देशों के पास भी वो सम्पदा नहीं है जो हमारे प्यारे देश भारत के पास है। तीन तरफ़ से समुद्र से घिरा हुआ है भारत और उसमें बने हुए हैं एक से एक शानदार सुन्दर समुद्रतट। इसलिए हम ट्रैवलर्स को घूमने के लिए ज़्यादा सोचना नहीं पड़ता, बस बैग पैक करो और निकल लो।

आज हम बात करेंगे उड़ीसा के सबसे प्रसिद्ध समुद्रतटों की। 450 कि.मी. की विशाल समुद्रतटीय रेखा वाला उड़ीसा, जहाँ पर घूमना दिलक़श भी है और किफ़ायती भी। तो आइए चलते हैं एक रोमांचक सफ़र पर।

1. पुरी समुद्रतट

श्रेय : विकिपीडिया

Photo of पुरी, Odisha, India by Manglam Bhaarat

पुरी का समुद्रतट उड़ीसा का सबसे प्रसिद्ध समुद्रतट है। बंगाल की खाड़ी से सटा यह समुद्रतट प्रसिद्ध सूर्य मंदिर से 35 कि.मी. दूर है। हिन्दुओं की चारधाम यात्रा का एक मन्दिर जगन्नाथपुरी भी यहाँ से नज़दीक है। शाम के वक़्त लोगों का अड्डा बन जाता है ये बीच। यहीं पर रेत से आर्ट बनाने वाले सुदर्शन पटनायक आपको मिल जाएँगे।

घोड़े और ऊँट की सवारी भी इस बीच पर कर सकते हैं आप। लोग यहाँ पर स्कूबा डाइव, तैराकी का भी आनंद लेते हैं। उड़ीसा के पुरी बीच पर परिवार के साथ एक अच्छा क्वालिटी टाइम बिताने के लिए आप यहाँ आ सकते हैं।

कहाँ रुकें?

चूँकि जगह जगन्नाथपुरी के नज़दीक है इसलिए रुकने के लिए कम दाम में धर्मशाला मिल जाएँगी। थोड़ा ज़्यादा खर्चा करेंगे तो आपको होटल शक्ति इंटरनेशनल, होटल जीवन संध्या, होटल नरेन पैलेस में भी रह सकते हैं।

कैसे पहुँचें?

सड़क मार्ग- भुवनेश्वर से पुरी के बीच की दूरी क़रीब 62 कि..मी है जिसे तय करने में आपको डेढ़ घंटे का समय लगेगा।

ट्रेन मार्ग- पुरी स्टेशन (PURI) से भुवनेश्वर स्टेशन (BBS) के लिए आपको सीधी ट्रेन मिल जाएगी जो करीब दो घंटे में आपको मंज़िल पहुँचा देगी।

हवाई मार्ग- पुरी के सबसे नज़दीक हवाई अड्डा भुवनेश्वर का बीजू पटनायक हवाई अड्डा है जो पुरी से करीब 60 कि.मी. दूर है।

2. अस्तरंग समुद्रतट

श्रेय : फ़्लिकर

Photo of अस्तरंग, Odisha, India by Manglam Bhaarat

बंगाल की खाड़ी में सटे हुए अस्तरंगा समुद्रतट की शामें जवान करने वाली होती हैं। इसीलिए इसका नाम अस्तरंग समुद्रतट रखा गया है। यहाँ पर डूबता हुआ सूरज देखना वाक़ई दिल चुरा लेने वाला होता है। जैसे किसी ने दूर क्षितिज पर केसर का पानी घोल कर रख दिया हो।

फ़ोटोग्राफ़ी का शौक़ रखते हैं तो ज़रूर यहाँ दस्तक दीजिए। ख़ूब लाइक मिलेंगे आपकी तस्वीरों को।

कहाँ रुकें?

अस्तरंग बीच के नज़दीक सन प्लाज़ा लॉज, श्री लॉज, सूर्या इन, लाबन्या लॉज और सन टेम्पल होटल में रुकने के लिए आपको पर्याप्त जगह मिल जाएगी।

कैसे पहुँचें?

सड़क मार्ग- भुवनेश्वर से अस्तरंग समुद्रतट करीब 80 कि.मी. दूर है जहाँ पहुँचने में ढाई घंटे का समय लगेगा।

ट्रेन मार्ग- सबसे नज़दीक का रेलवे स्टेशन गोरखनाथ रेलवे स्टेशन (GRKN) है जहाँ पर भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन (BBS) से लगभग 3 घंटे में पहुँच सकते हैं।

हवाई मार्ग- सबसे नज़दीक हवाई अड्डा भुवनेश्वर का बीजू पटनायक हवाई अड्डा है।

3. गोपालपुर समुद्रतट

श्रेय : सौरभ चटर्जी

Photo of गोपालपुर, Odisha, India by Manglam Bhaarat

बंगाल की खाड़ी से सटे 5 सबसे प्रसिद्ध समुद्रतटों में नाम आता है गोपालपुर बीच का। इस बीच की तस्वीरें देखेंगे आप तो लाइक किए बिना नहीं रह पाएँगे। पानी के खेलों के लिए ये जगह एकदम फ़िट है। आपको यहाँ पर स्कूबा डाइव से लेकर विंड सर्फ़िंग, पैडल बोटिंग और कई सारे पानी वाले स्पोर्ट्स मिल जाएँगे।

कहाँ रुकें?

आप गोपालपुर बीच के नज़दीक होटल रोहिणी, स्वोस्ति पाम रेसॉर्ट, होटल सागर श्री, द कंट्रीसाइड रेसॉर्ट में रुकने की जगह देख सकते हैं ।

कैसे पहुँचें?

ट्रेन मार्ग : उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर (BBS) से गोपालपुर बीच के नज़दीक ब्रह्मपुर रेलवे स्टेशन (BAM) के लिए ट्रेन जाती है जो आपको लगभग 2:30 घंटे में मंज़िल तक पहुँचा देगी।

सड़क मार्ग: भुवनेश्वर से ब्रह्मपुर की दूरी 180 कि.मी. है और बस का न्यूनतम किराया ₹250 है।

हवाई मार्ग: ब्रह्मपुर के सबसे नज़दीक हवाई अड्डा भुवनेश्वर का है।

4. चन्द्रभंगा समुद्रतट

श्रेय : विकिमीडिया

Photo of चंद्रभागा कोणार्क सी बीच, Puri, Odisha, India by Manglam Bhaarat

कोणार्क के सूर्य मंदिर से तक़रीबन 3 कि.मी. दूर यहाँ पर से ही चन्द्रभंगा नदी बंगाल की खाड़ी में समाती है। देश के सबसे प्रदूषण मुक्त समुद्रतट की झलकियाँ आपको इसका फ़ैन बना लेंगी। सुनहरी रेत और बड़े बड़े नारियल के पेड़, नज़ारा सोचकर ही आनंद ना आ जाए तो पैसे वापस।

दिसम्बर का टाइम इस बीच का बेस्ट टाइम है क्योंकि इसी वक़्त यहाँ पर होता है सैंड आर्ट फेस्टिवल जिसमें देश विदेश के प्रतिभागी रेत पर कलाकारियाँ करते हैं।

कहाँ रुकें?

चन्द्रभंगा समुद्रतट के ही पास होटल सूर्या इन, पगोरा इन, शुभम बीच, सूर्या बीच, होटल मोनिहार में ठहरने के लिए कम दाम में कमरे मिल जाएँगे।

कैसे पहुँचें?

ट्रेन मार्ग : पुरी स्टेशन (PURI) चन्द्रभंगा समुद्रतट का सबसे नज़दीकी स्टेशन है जहाँ पर भुवनेश्वर स्टेशन (BBS) से आप दो घंटे में पहुँच जाएँगे।

सड़क मार्ग: भुवनेश्वर से चंद्रभंगा समुद्रतट के बीच की 61 कि.मी. की दूरी करीब डेढ़ घंटे में तय हो जाएगी।

हवाई मार्ग: सबसे नज़दीक का हवाई अड्डा भुवनेश्वर का बीजू पटनायक हवाई अड्डा है।

5. चाँदीपुर बीच

Photo of चांदीपुर, उड़ीसा, India by Manglam Bhaarat

बालेश्वर ज़िले में बना ये बीच एक अनोखी घटना का उदाहरण है। समुद्री ज्वार के कारण पानी कई किलोमीटिर दूर तक रिसता है और अन्त में जाकर ग़ायब हो जाता है। ये नज़ारा जिसने भी देखा, दंग हो गया।

अगर आप सचमुच में प्रकृति प्रेमी हैं तो घोड़े की नाल केकड़ों के लिए प्रसिद्ध यह निवास स्थान चाँदीपुर सिर्फ़ आपके लिए ही है। अक्टूबर से मार्च का समय इस बीच पर वक्त गुज़ारने का बेस्ट वक्त होगा।

कहाँ रुकें?

यात्री निवास, होटल चाँदीपुर, होटल शुभम, आशानिवास में कम दाम में आपको ठहरने के लिए अच्छे व सस्ते कमरे मिल जाएँगे।

कैसे पहुँचें?

ट्रेन मार्ग : उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर (BBS) से चाँदीपुर के नज़दीकी बालासोर रेलवे स्टेशन (BLS) के लिए ट्रेन जाती है जो आपको लगभग 4:00 घंटे में मंज़िल तक पहुँचा देगी।

सड़क मार्ग : भुवनेश्वर से बालासोर की दूरी 200 कि.मी. है और बस न्यूनतम किराए ₹200 में आपको मंज़िल तक पहुँचा देगी।

हवाई मार्ग : बालासोर के सबसे नज़दीक हवाई अड्डा भुवनेश्वर का है।

6. रामचाँदी समुद्रतट

श्रेय : विकिमीडिया

Photo of गोवा से भी सुंदर और साफ बीच, वो भी बजट में! चलों करें उड़ीसा के इन 6 समुद्रतटों का सफर by Manglam Bhaarat

भुवनेश्वर से तक़रीबन 65 कि.मी. की दूरी पर ये समुद्रतट उड़ीसा की विशाल तटीय रेखा में एक और चाँद जोड़ते हैं। यहाँ पर से क़रीब 7 कि.मी. दूर है कोणार्क मंदिर। इसलिए आपको रहने के लिए जगह ढूँढ़ने में कोई समस्या नहीं होगी। प्यार मोहब्बत करने वाले युवा जोड़े, कॉलेज के बच्चे और पिकनिक मनाने वाले परिवार मिल जाएँगे। इस बीच की ख़ासियत है कि इसका शोषण उन समुद्रतटों की तरह नहीं किया गया है जो पैसा बनाने के चक्कर में अन्दर से खोखले हो जाते हैं।

कहाँ रुकें?

यात्री निवास, होटल चाँदीपुर, होटल शुभम, आशानिवास में कम दाम में आपको ठहरने के लिए अच्छे व सस्ते कमरे मिल जाएँगे।

कैसे पहुँचें?

ट्रेन मार्ग : उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर (BBS) से रामचंडी बीच के नज़दीकी पुरी रेलवे स्टेशन (PURI) के लिए ट्रेन जाती है जो लगभग दो घंटे में आपको मंज़िल तक पहुँचा देगी।

सड़क मार्ग : भुवनेश्वर से रामचाँदी बीच करीब 85 कि.मी. दूर है जिसे पूरा करने में आपको दो घंटे तक लगेंगे।

हवाई मार्ग : रामचाँदी बीच के सबसे नज़दीक हवाई अड्डा भुवनेश्वर का है।

तो अब अगर गोवा का सपना पूरा नहीं हो पा रहा तो इन बीच की इस नई लिस्ट को दोस्तों के साथ बाँटों और निकल पड़ो एक नए सफर पर!

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

अगर आपको अपने सफर से जुड़ी कोई जानकारी चाहिए तो Tripoto फोरम पर सवाल पूछें।

Be the first one to comment