जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर

Tripoto
15th Apr 2023
Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

भारत का दिल कहे जाने वाला राज्य मध्य प्रदेश अपनी संस्कृति,विरासत और प्राकृतिक भंडार के लिए जाना जाता है।इसके अलावा एक और चीज है जिसके लिए यह राज्य जाना जाता है और वो है यहां के धार्मिक स्थान।यह भारत का ऐसा राज्य है जहां भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2 ज्योतिर्लिंग स्थापित है।इसके अलावा भी आपको यहां और भी कई भगवान शिव को समर्पित मंदिर और गुफाएं मिल जाएंगी जिनका महत्व और उल्लेख आपको पुराणों में भी मिल जायेगा।उन्ही में से एक है जटाशंकर गुफाएं जिसका जिक्र शिव पुराण में भी किया गया है और जिसे भगवान शिव का धरती पर दूसरा घर माना जाता है तो आइए जानते है इस गुफा के कुछ रहस्य।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

जटा शंकर गुफाएं

जटाशंकर गुफाएं मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले के पंचमढ़ी क्षेत्र में स्थित एक प्राकृतिक गुफा है।यह गुफा एक गहरी घाटी में स्थित है जिसके ऊपर एक विशाल शिलाखंड है।जैसा की इसके नाम से पता चलता है जटा जिसका अर्थ है बाल और शंकर यानि शिव।ये गुफा शिव जी के जटाओं के तरह दिखाई देता है।इसके इसी विशिष्ट आकृति के कारण इसका नाम जटाशंकर पड़ा।इस गुफा में जो शिवलिंग है वो प्राकृतिक रूप से स्टैलेग्माइट्स से बना हुआ है। इसके अलावा भी इस गुफा में 108 शिवलिंग है जो प्राकृतिक रूप से ही बने हैं।इस गुफा में किसी अज्ञात बिंदु से जल बहता है ।यह पानी की धारा कहा से निकलती है आज तक कोई भी नही जान सका।इस जल धारा को गुप्त गंगा के नाम से जाना जाता है।इस इलाके में झरने के पास 2 तालाब भी है जिसे गर्म तथा ठंडे पानी के कुंड के नाम से जाना जाता है।ऐसी मान्यता है कि इसमें स्नान करने से सभी प्रकार की बीमारियां दूर हो जाती है।जटाशंकर मार्ग पर एक हनुमान मंदिर है, जहां हनुमान की मूर्ति एक शिलाखंड पर उकेरी गई है। गुफ़ा के नजदीक ही हारपर्स गुफ़ा है। इस गुफ़ा में वीणा बजाते हुए एक व्यक्ति का चित्र है।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

पौराणिक मान्यता

इस गुफा की पौराणिक मान्यता है कहा जाता है की जब भगवान शिव का वरदान पाकर भस्मासुर अहंकार से चूर हो गया और वरदान देने वाले भगवान शिव को ही भस्म करने के लिए उनके पीछे भागने लगा तो भगवान भोले नाथ ने अपनी रक्षा हेतु स्वयं को इसी गुफा में छुपा लिया और कई वर्षो तक थी छुपे रहे ।इसी कारण इस गुफा को भगवान शिव का दूसरा घर कहा जाता है।बाद में भगवान विष्णु ने मोहानी रूप धारण कर के भस्मासुर का संहार किया और भोले नाथ को इस गुफा से मुक्त किया। तभी से यह स्थान श्रद्धालुओं के बीच काफी लोकप्रिय हो गया खास कर शिव भक्तों के लिए।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

शिवरात्रि पर लगता है मेला

इस गुफा में स्थित शिवलिंग जो की एक प्राकृतिक शिवलिंग है ऐसा माना जाता है की शिवरात्रि के दिन इस पर जलाभिषेक करने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।इस दिन यहां काफी संख्या में श्रद्धालु एकत्र होते है और यहां लगने वाले मेले का भी आनंद लेते है।इसके अलावा नागमंचमी के दिन भी यहां मेले का आयोजन किया जाता है।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

दरबार तक ऐसे पहुंचते हैं श्रद्धालुगण

इस गुफा तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग का सहारा लेना पड़ेगा क्योंकि यह गुफा घने जंगल के बीच एक पहाड़ी पर स्थित है।दरबार में पहुंचने के लिए आपको सोनहरी मुख्य मार्ग से दस किलोमीटर भीतर घने जंगलों में कच्ची सड़क से होकर जाना होता है।उसके बाद चपलीपानी से होकर 730 सीढिय़ों से उतरकर आप जटाशंकर धाम तक पहुंच सकते है और भगवान के दर्शन कर सकते है।करीब चालीस साल से लोग जटाशंकर धाम में पूजा-अर्चना करने आ रहे हैं। बताया जाता है कि पहले यहां ऋषि मुनि रहा करते थे। वर्तमान में महंत शिवदास भोलेनाथ की सेवा कर रहे है। पहाड़ी की गुफा ऐसी है कि कितनी भी बारिश हो, पानी गुफा के भीतर प्रवेश नहीं करता है।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

कैसे पहुंचे?

यहां तक पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा भोपाल है जोकि 221 किमी और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन पिपरिया रेलवे स्टेशन से 51.7 किमी दूर पर स्थित है। यहां से आप ट्रैकिंग के द्वारा दर्शन के लिए जा सकते है।

Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav
Photo of जटा शंकर गुफाएँ: जिसे कहा जाता है भगवान भोलेनाथ का दूसरा घर by Priya Yadav

क्या आपने हाल में कोई की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।