ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना!

Tripoto
Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 1/6 by लफंगा परिंदा

ट्रेकिंग पर जाने की वैसे तो कोई उम्र नहीं होती, लेकिन जवान होते ही कुछ रोमांचक करने का जुनून भी पहाड़ों की तरफ भेज देता है |

कारण कोई भी हो, हम आपके ट्रेकिंग करने के खिलाफ नहीं है | बस चाहते हैं कि आप अपनी खुद की सहूलियत के लिए ट्रेकिंग पर जाने से पहले कॉमन सेंस के साथ ये पढ़ लें :

1. नए जूते पहन कर चढ़ाई ना करें

Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 2/6 by लफंगा परिंदा

साल 2017 में मैं उत्तराखंड में हर की दून ट्रेक करने गया था | जयपुर से सांकरी जाने के सफ़र में मैंने लगातार जूते पहने हुए थे तो बस में सीट पर बैठे मैंने अपने ट्रेकिंग शूज़ खोल दिए | बस में से जूते कौन पार करके लेके गया, ये तो पता नहीं मगर मुझे सांकरी से नए जूते खरीदने पड़े |

नए जूते नयए होते हैं तो एक बार पहनते ही आराम देते हैं, मगर लंबी दूर चलने पर ही पता चलता है कि जूता काट कहाँ से रहा है | नया जूता पहनकर कुछ दूर चलने के बाद मुझे पैर में बड़ा दर्द होने लगा | जूता खोल कर देखा तो पैरों की अलग-अलग उंगलियों पर मोटे-मोटे छाले हो गये थे | छाले एक-दो घंटे में ठीक नहीं होते | इन्हें ठीक होने में पूरे 2 से 3 दिन का समय लगता है | नए जूते पहन कर ट्रेकिंग करने में मैंने अपनी हालत तो खराब की ही, साथ ही ट्रिप भी खराब कर ली | अगर आपके ट्रेकिंग वाले पुराने जूते ना मिलें तो नए जूते पहन कर ट्रेकिंग ना करें|

2. चढ़ाई से पहले पेट-भर कर ना खाएँ

Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 3/6 by लफंगा परिंदा

साल 2016 में खीरगंगा की चढ़ाई से पहले भुंतर आता है जहाँ से आगे बस नहीं जाती | भुंतर उतर कर मुझे बहुत तेज़ भूख लगी थी तो सोचा क्यों ना किसी ढाबे पे हल्का-फूलका नाश्ता किया जाए |

जैसे ही ढाबे की कुर्सी पर बैठा, कि लज़ीज़ पहाड़ी खाना बनते हुए आती खुश्बू से दिमाग़ खराब हो गया | नाश्ता करने का प्लान बदल गया | एक के बाद एक डिशेज़ मँगवाने लगा | थुक्पा, मोमोज़, अंडा मैगी और भी ना जाने क्या-क्या | मगर अब जब इन सबसे पेट भर गया था तो रकसैक उठा कर बाहर जाने का मन नहीं कर रहा था | यूँ लग रहा था कि बस अभी तकिया लगा कर सो जाऊँ | मगर सोने का मतलब था रात को भुंतर में ही रुकना | इसके लिए मैं तैयार नहीं था | तो मैनें भरे पेट के साथ ही भारी- भरकम रकसैक उठा कर ट्रेक पर चलना शुरू किया |

कुछ सौ मीटर ही चला था कि शरीर ने जवाब दे दिया | पेट में इतना दर्द हो रहा था जैसे किसी ने शॉटगन से गोली मार दी हो | कुछ घंटे बस्ता छोड़ कर ट्रेक पर ही बैठ गया | जब खाना पचने के बाद पेट थोड़ा हल्का महसूस हुआ तो फिर बैग उठा कर धीरे-धीरे चलना शुरू किया | जो ट्रेक 5 घंटे में आसानी से किया जा सकता था उसे पूरा करने में मुझे 8 घंटे लग गये | और शारीरिक तकलीफ़ हुई वो अलग |

3. हो सके तो अकेले ना चढ़े

Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 4/6 by लफंगा परिंदा

सोलो ट्रैवेलिंग करना अब एक 'फ़ैड' बन गया है | यानी अब लोग अकेले घूमने जाने से कतराते नहीं हैं | मगर ट्रेकिंग एक ऐसी इकलौती एक्टिविटी है जिसे दोस्तों के साथ किया जाए तो  मज़ा और भी ज़्यादा तो आता ही है, साथ ही हिफ़ाज़त भी रहती है | जब भी आप इंसानों की बस्ती से दूर जंगलों में जाएँगे, तो ख़तरा तो सिर पर मंडराएगा ही | आपमें से कई सोच रहे होंगे कि हम तो अकेले ट्रेकिंग करते हैं, इसमें क्या दिक्कत है ? अगर आप अकेले ट्रेकिंग करके वापिस लौटे हैं तो मैं आपको लकी मानूँगा | क्योंकि  जंगलों में ट्रेकिंग के दौरान कई ट्रेकर लापता भी हुए हैं | अब चाहे उन पर जंगली जानवर का हमला हुआ हो, या असामाजिक तत्वों का, नुकसान उन्हीं का हुआ है | अकेले ट्रेकिंग करने जा कर आप इस तरह का ख़तरा ना लें | अगर अकेले घूमने निकलें ही हैं तो ट्रेकिंग की ट्रेल पर आगे जाने से पहले किसी ग्रुप के पीछे या साथ हो लें | नए लोगों से दोस्ती भी हो जाएगी और आप महफूज़ भी रह पाएँगे |

4. कार्ड/ ई-वॉलेट के भरोसे ना रहें

Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 5/6 by लफंगा परिंदा

पहाड़ों में फ़ोन सिग्नल तो आते नहीं है, ऐसे में ई-वॉलेट कैसे काम करेंगे, ज़रा सोचिए | अगर आप ए.टी.एम. के भरोसे भी रहते हैं तो कई जगह मात खा जाएँगे |

एक बार केदारकंठ पीक की ओर जाते हुए मेरे सारे पैसे ख़त् हो गए | मगर मेरे पास एटीएम में पैसा पड़ा तो है, सोच कर मैं आगे बढ़ता रहा | रास्ते में जो कुछ भी एटीएम आए, उनमें से कई में पैसे नहीं थे, तो कई "आउट ऑफ सर्विस" थे | जेब में एक भी पैसा नहीं, अब रात को सोने का, खाने पीने का जुगाड़ करूँ तो करूँ कैसे ?

शुक्र है पहाड़ी लोगों की ज़िंदादिली और खुशमिजाज़ी का | रात को सोने के लिए जिस सज्जन की धर्मशाला में गया, उन्होंने मुझे अपना अकाउंट नंबर दे कर कहा कि नीचे उतरो और वक़्त मिले तो पैसे डलवा देना |

नीचे उतर कर मैंने पहली फुरसत में उन सज्जन के पैसे बैंक में डलवाए जिन्होनें मुझ पर विश्वास करके रात को सोने को छत और खाने को खाना दिया | मगर किसी से उधार लेना बड़ा अजीब लगता है | मनमर्ज़ी की कोई चीज़ खरीद भी नहीं पाते | इसलिए पहाड़ों में घूमने जाते वक़्त अपने साथ रोकडा हमेशा रखें |

5. बैग में ज़रूरी फर्स्ट-एड का सामान रख लें

Photo of ट्रेकिंग के लिए निकल रहे हैं? साथ में कॉमन सेंस ले जाना मत भूलना! 6/6 by लफंगा परिंदा

ट्रेकिंग करने जाते वक्त शायद आपको ऐसा लगे कि बैग जितना हल्का रहे उतना अच्छा है | मगर ट्रेकिंग गैर ज़िम्मेदार लोगों के लिए नहीं है | हो सकता है आपको बीहड़ जंगल में डायरिया हो जाए | इंसान को भूख उतना जल्दी नहीं मारती जितना जल्दी पानी और इलेक्ट्रोलाइट की कमी मार देती है | आपके बैग में ओ.आर.एस के पैकेट होने चाहिए |

ट्रेकिंग करते हुए पैरों में छाले पड़ सकते हैं | बैग में ब्लिस्टर प्लास्टर होना चाहिए | अगर बैग में बेयर स्प्रे रख सकें तो खुदको और महफूज़ महसूस करेंगे | निहायती निहत्थे इंसान में आत्म-विश्वास भी कम होता है|

तो बस इन बातों का ध्यान रखें और निकल पड़ें अपने अगले सफर पर!

जब आप ट्रेकिंग पर जाते हैं तो  किन बातों का ख्याल रखते हैं?  अपने अनुभव और सुझाव बाकी यात्रियों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

Be the first one to comment