मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर।

Tripoto
Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin
Day 1

मालशेज़ घाट महाराष्ट्र के पुणे जिले के पश्चिमी घाटों की श्रेणी में स्थित एक प्रसिद्द घाट है। मालशेज़ घाट समुद्र सतह से लगभग 700 मीटर की ऊँचाई पर स्थित एक शानदार पर्यटन स्थल और हिल स्टेशन है जो स्वास्थ्यवर्धक और सुखद जलवायु से परिपूर्ण है। यह स्थान अपनी अनगिनत झीलों, चट्टानी पर्वतों के लिए प्रसिद्द है और यह प्रकृति प्रेमियों, सुख की खोज करने वालों, साहसिकों और ट्रेकर्स के बीच भी प्रसिद्द है।

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

जंगलों से भरे हुए इस स्थान में कई नदियाँ हैं जो यहाँ से बहती हैं, अनेक ऐतिहासिक किले हैं जो हमारे प्राचीन सांस्कृतिक इतिहास की झलक दिखाते हैं, व्यापक जलप्रपात है जो मानसून में अपनी ओर आकर्षित करते हैं और अनेक तरह के जीव जंतु और वनस्पतियाँ हैं जो यहाँ के अभ्यारण्य में पाए जाते हैं।

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

मालशेज़ घाट - यहाँ के प्रमुख आकर्षण

मानसून के दौरान छुट्टी मनाने के लिए मालशेज़ घाट सबसे उपयुक्त स्थान है। यहाँ के रास्तों से चलने पर आपको बादलों में चलने के स्वर्गीय सुख का एहसास होगा। इस ऊँचाई पर इतने घने बादल होते हैं कि आप बादलों में से चलने के अनुभव का आनंद उठा सकेंगे। चमकती हुई नदी और जंगल की पृष्ठभूमि में स्थित पिंपलगाँव जोग बाँध में पाए जाने वाले प्रवासी पक्षियों को देखना पक्षी और प्रकृति प्रेमियों के लिए आनंददायक हो सकता है। वास्तुकला के प्रति उत्साही लोग अजोबा हिल फोर्ट (पहाड़ी किला), जीवधन चावंड किला और प्रतिष्ठित हरिश्चंद्रगढ़ किला देख सकते हैं। इस क्षेत्र का प्रमुख आकर्षण शिवनेरी किला है जो महान मराठा शासक – शिवाजी महाराज का जन्म स्थल है।

यह भी पढ़ेंः ये है भारत की 5 बेहतरीन जगह जहाँ मॉनसून का मज़ा हो जाता है दुगना!

ट्रेकिंग

ट्रेकिंग या पैदल लंबी यात्रा अन्य गतिविधियाँ हैं जो आप यहाँ कर सकते हैं। मालशेज़ घाट में कई आकर्षण और गतिविधियाँ हैं जो हर साल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। इन आकर्षणों पर विश्वास करने के लिए आपको यहाँ आने की आवश्यकता है।

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

सौजन्य देवेन्द्र कुमार पंत

Photo of मानसून स्पेशल: अब हिमाचल जैसी ट्रेकिंग का अनुभव लीजिए महाराष्ट्र के मालशेज़ घाट पर। by Walia Sachin

मालशेज़ घाट का मौसम

मालशेज़ घाट की वास्तविक सुंदरता का आनंद उठाने के लिए मानसून का मौसम सबसे अच्छा है। यह मौसम दिसंबर से फरवरी तक होता है और यहाँ औसत से सामान्य वर्षा होती है। इस समय यहाँ की वनस्पति और जीवजन्तु सर्वश्रेष्ठ और सुंदर होते हैं। सर्दी मालशेज़ में ठंड का मौसम दिसंबर से फरवरी तक होता है – इस समय यह स्थान एक स्वर्ग बन जाता है।

कैसे पहुँचे मालशेज़ घाट

मालशेज़ घाट महाराष्ट्र के सभी प्रमुख शहरों और कस्बों से राज्य परिवहन की बसों और निजी टूर बस द्वारा जुड़ा हुआ है। ये बसें मालशेज़ घाट और विभिन्न शहरों मुंबई, पुणे कल्याण के बीच नियमित आवागमन करती हैं।

दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा कमेन्ट बॉक्स में बताएँ।

जय भारत

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।