जून की गर्मी में ठंड का एहसास लेना है तो चले आइए जिभी के मैजिकल फेस्टिवल में

Tripoto
Photo of जून की गर्मी में ठंड का एहसास लेना है तो चले आइए जिभी के मैजिकल फेस्टिवल में by Rishabh Dev

जब हम काम करते-करते थक जाते हैं, बोर होने लगते हैं, लगता है जिंदगी कहीं ठहर सी गई है। तब जिंदगी में कुछ नयापन लाने के लिए, खूबसूरत पलों के लिए और सबसे बड़ी बात ताजगी पाने के लिए हम पहाड़ों की ओर रूख करते हैं। पहाड़ों में न जाने कैसा जादू है? वहां अकेले होने पर भी लगता है कि कोई साथ चल रहा है और बड़े शहरों में लाखों लोग होने के बाद भी अकेलापन घेरता है। अगर आप भी जिंदगी में ताजगी लाने के लिए पहाड़ों की ओर जाने की सोच रहे हैं। इस बार की गर्मियों में पहाड़ों में आपको कहां जाना चाहिए उसके लिए हम आपके लिए एक शानदार जगह खोज कर लाए हैं।

हिमाचल में एक जगह है जिभी। घुमक्कड़ लोगों को इस खूबसूरत जगह के बारे में अच्छी तरह से पता है। जीभी तीन दिनों के एक फेस्टिवल आयोजित कर रहा है। जिसका नाम है, शून्य फेस्टिवल। अगर आप इस बार की छुट्टियों में घूमने के साथ-साथ कुछ बेहतरीन करना चाहते हैं तो शून्य फेस्टिवल आपके लिए परफेक्ट डेस्टिनेशन है।

और भी जान लो

शून्य फेस्टिवल या यू कहें कुछ भी नहीं। ये बस अपने आपको जानने की, अपने को खोजने की एक जगह है। जो आपको, अपने-आप से मिलाने का रास्ता बताता है। इस फेस्टिवल को कुछ नौजवान, युवा प्रतिभाशालियों का एक समूह आयोजित करता है। शून्य महोत्सव में आप अनोखी कार्यशालाओं, दिलचस्प अनुभवों और बेहतरीन परफोरमेंस का हिस्सा बनेंगे। ये फेस्टिवल आपको इतना अच्छा लगेगा कि आप अपनी सभी परेशानियों को भूलकर इस जादू में खो जाएंगे।

यहां आपके अध्यात्मिक और क्रिएटिविटी से पहचान कराने में सहायता की जाती है। इन सबके अलावा ये फेस्टिवल नये लोगों से मिलने, एक-दूसरे के जीवन के अनुभव साझा करने और उन एक्टिविटियों में शामिल होने का पूरा मौका मिलता है। जो आपने पहले कभी नहीं किया है ओर जिसे करने का बस सोचा हो।

यह कब हो रहा है?

शून्य फेस्टिवल 21 जून 2019 से 23 जून 2019 (शुक्रवार-रविवार)।

आप पूरे दिन क्या-क्या करेंगे?

शून्य फेस्टिवल में आप 20 से अधिक गतिविधियों का हिस्सा बनेंगे और उनका अनुभव लेंगे। कहानी सुनाना, कीचड़ में खेलना, प्रकृति के बीच चलना, कविता पाठ, ब्लॉक प्रिंटिंग, ईडीएम, नेचर वॉक, ड्रम सर्कल, योग, ध्यान और जुम्बा जैसी कुछ नाम हैं। जिनमें आप प्रतिभाग करेंगे और भरपूर आनंद लेंगे।

शून्य फेस्टिवल आपके लिए एक अवसर है जां आप शांति के बीच कुछ दिन बिता सकते हैं, जहां आप ध्यान करके बहुत कुछ पा सकते हैं। इसलिए यदि आप एक ऐसी जगह पर आना चाहते हैं, जहां शांति हो, अपने को पहचानने का मार्ग हो, जहां आकर आपका जीवन ही नहीं आपमें ही बदलाव आ जाए तो शून्य फेस्टिवल ही वो जगह है। अगर आप यहां आये तो इसमें कोई संदेह नही है कि कि आप यहां से एक नए उत्साह और उमंग को लेकर जाएंगे।

कहां हो रहा है?

ई लिविंग प्रोजेक्ट, जिसे ज्यादातर लोग जिभी में बने एक मडहाउस एक्सपेरिएंटल हॉस्टल के रूप में जानते है। यहीं पर शून्य फेस्टिवल दूसरी बार आयोजित किया जा रहा है। पहाड़ों के बीच चुपचाप अपनी ही खूबसूरती में खोया हुआ जिभी, शांत और हरा-भरा पर्यावरण और आपको मोहित कर देगी।

इसकी लागत कितनी है?

पांच प्रकार के पास है जिन्हें आप अपनी सुविधा के अनुसार चुन सकते हैंः

1. फेस्टिवल पासः प्रति व्यक्ति 3,499 रुपये (सभी गतिविधियां/कार्यशालाएं शामिल हैं)

2. क्वेशुआ कैंप पासः प्रति व्यक्ति 4,999 रुपये ( कैंप में दो रातों के लिए एक व्यक्ति की रहने की व्यवस्था, डबल/ट्रिपल शेयरिंग+ फेस्टिवल पास)

3. मडहाउस डॉर्म पासः प्रति व्यक्ति 5,799 रुपये (फेस्टिवल पास में डॉर्म में 2 रातों के लिए 1 व्यक्ति के लिए आवास शामिल है)

4. जिभी अल्पाइन कैंप पासः 5,999 प्रति व्यक्ति (डबल/ट्रिपल शेयरिंग, फेस्टिवल पास पर जिभी कैंप में 2 रातों के लिए 1 व्यक्ति के लिए आवास शामिल है)

5. मडहाउस डीलक्स रूम 2 लोगों के लिए पासः 14,999 प्रति व्यक्ति (एक कमरे में 2 रातों के लिए 2 लोगों के लिए आवास शामिल है)

आप और क्या कर सकते हैं?

शून्य फेस्टिवल में शामिल होने के अलावा, आप जिभी के आसपास भी बहुत कुछ देख सकते हैं। जिभी नदी में ट्राउट के लिए मछली पकड़ने जा सकते हैं या जालोरी दर्रा, सेरोलसर झील और रघुपुर किले तक जाया जा सकता है। जिभी के वातावरण और शांति का आनंद लेने के साथ-साथ, रात को आसमान में तारों को देख सकते हैं। अगर आप किस्मत वाले होंगे आपको रात में आसमान में दूधिया रास्ता दिखाई देगा।

अब किस का इंतजार कर रहे हैं?

बड़े शहरों में गर्मी की तपन है और काम का बोझ है जो दिमाग और शरीर को तनाव ही देता है। ऐसे में इस गर्मी में कुछ बस के सफर और ठंडी का एहसास लेने से मत चूकिए। फिर देर किस बात की एक अच्छे अनुभव के लिए जिभी के इस शून्य फेस्टिवल में आ जाइए, मेरा दावा है कि इसे आप कभी भूल नहीं पाएंगे। सार्थक अनुभव का चयन करें और इसे एक ऐसी यात्रा बनाएं जिसे आप कभी नहीं भूल पाएंगे।

Be the first one to comment