पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं

Tripoto
28th Dec 2019

एलोरा गुफाएं ( ellora caves)

इतिहास से रूबरू होने की इच्छा लिए इस बार मै पहुंच गया औरंगाबाद , जो कि महाराष्ट्र में स्थित एक शहर है । यह विशेषकर दो  जगहों के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है , और वो है अजंता और ऐलोरा कि गुफाएं ।
यूं तो ये हमारे इतिहास के साथ उस समय की कारीगरी को भी नजदीक से समझने के लिए बहुत अच्छी है ।
यहां पहुंचने के लिए पहले आपको औरंगाबाद बाद जाना होगा , यहां के लिए हर बड़े शहर से ट्रेन और बस मिल जाते । एलोरा की गुफाएं औरंगाबाद से ३० km दूर वेल्लूर नामक जगह पर इस्थित है , यही पर शिव भगवान के १२ ज्योर्तिलिंग में से एक घृश्रेश्वर ज्योर्तिलिंग भी कुछ ५०० मीटर दूर है , आप वहां भी का सकते है ।

एलोरा के 34 मठ और मंदिर  है और यह 2 कि॰मि॰ के क्षेत्र में फैले हैं, इन्हें ऊँची बेसाल्ट की खड़ी चट्टानों की दीवारों को काट कर बनाया गया हैं। दुर्गम पहाड़ियों वाला एलोरा 600 से 1000 ईसवी के काल का है, यह प्राचीन भारतीय सभ्यता का जीवन्त प्रदर्शन करता है। बौद्ध, हिन्दू और जैन धर्म को भी समर्पित पवित्र स्थान एलोरा परिसर न केवल अद्वितीय कलात्मक सृजन और एक तकनीकी उत्कृष्टता है, बल्कि यह प्राचीन भारत के धैर्यवान चरित्र की व्याख्या भी करता है।

Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)
Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)

यही पर प्रसिद्ध कैलाश मंदिर भी को प्रवेश करते ही सामने ही नजर आता है जिसकी कलाकारी देख आप मंत्र मुग्ध हो जाएंगे । इस गुफा  मध्य में एक शिवलिंग भी बना हुआ है । और किनारे किनारे विभिन्न संरचनाएं बनी है जो देखते ही बनती है ।

Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)
Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)
Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)

अजंता गुफाएं ( ajanta caves)

इसको घूमने लगभग ३ से ४ घंटे लग जाएंगे इसके बाद आप अजंता कि गुफाओं की तरफ रुख कर सकते है को कि व्हा से लगभग १०० km की दूरी पर है । या आप औरंगाबाद बाद आकर यहां एक दिन विश्राम कर अगले दिन के लिए अजंता का प्लान कर सकते है ।

गुफाएँ एक घने जंगल से घिरी, अश्व नाल आकार घाटी में अजंता गाँव से 3½ कि॰मी॰ दूर बनी है। इस घाटी की तलहटी में पहाड़ी धारा वाघूर बहती है। यहाँ कुल 29 गुफाए  हैं, खुदाई का कार्य कई चरणों में पूर्ण हुए है  तो उनको अलग अलग चरणों में विभाजित किया गया ।
सभी तीस गुफाओं को ‘चैत्री-गृह‘ (स्तूप हॉल) और ‘विहार‘ (आवास हॉल) में विभाजित किया गया है। प्रत्येक गुफा मूल संरचना में संरक्षित हैं। गुफाएं 9, 10, 19, और 29 चैत्य गृह के नाम से जाना जाता है, इसमें भगवान की पूजा की जाती थी। शेष  गुफाएं संघहारस   या  विहारस  हैं जिनका उपयोग अनुयायियों के आवास उद्देश्यों और बौद्ध धर्म के विद्यार्थियों के लिए किया गया था।

Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)
Photo of पाषाण काल यात्रा : अजंता और एलोरा की गुफाएं by Praveen Gupta (pk)

यात्रा के शौक़ीन लोगों के लिए अजंता की गुफाएं एक बहतरीन पर्यटन स्थल है, हेरिटेज प्लेसेस को पसंद करने वाले लोगों को यहाँ एक बार अवश्य आना चाहिए. यहाँ की चित्रकला और शानदार द्रश्य सभी का मन मोह लेती है।

यात्रा खर्च - ४००० मात्र ( सब सम्मिलित), अगर आप  बजट यात्रा का अनुभव उठाना चाहते है जरूर एक बार इसकी तरफ रुख कीजिए ।।