बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़

Tripoto
Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta
Day 1

आज जो हम हर बात में प्रजातंत्र और लोकतंत्र की बात करते हैं उसे सबसे पहले दुनिया को बिहार ने दिया था। बिहार के वैशाली को दुनिया में पहला गणराज्य माना जाता है। वैशाली का लिच्छवी गणराज्य विश्व का प्रथम गणतंत्र माना जाता है। यह आठ छोटे-छोटे राज्यों का संघ था और यहां सारे बड़े फैसले सामूहिक रूप से लिए जाते थे। ईसा पूर्व 6-7 सौ साल पहले वैशाली लिच्छवी गणराज्य की राजधानी थी।

Photo of वैशाली, Bihar, India by Hitendra Gupta

वैशाली में हुई खुदाई से कई ऐतिहासिक भग्नावशेष बाहर निकले हैं। एक भग्नावशेष लिच्छवी गणराज्य के राजा विशाल का है। प्राचीन काल में महाभारत के समय ईक्ष्वाकु वंश के राजा विशाल के नाम पर इस इस जगह का नाम वैशाली पड़ा था। राजा विशाल ने इस जगह पर एक किला बनवाया था, जो अब खंडहर हो चुका है। 81 एकड़ में फैले इस किले को राजा विशाल का गढ़ कहा जाता है। इसे प्राचीन संसद भवन का अवशेष माना जाता है।

Photo of Fort of King Vishal, Basarh, Bihar, India by Hitendra Gupta
Photo of Fort of King Vishal, Basarh, Bihar, India by Hitendra Gupta

अशोक स्तंभ के पास का यह स्थल एक टीलानुमा है। इसकी परिधि एक किलोमीटर है। इसके चारों तरफ दो मीटर ऊंची दीवार है और इसके चारों ओर 43 मीटर चौड़ी खाई है। बताया जाता है कि पहले इसका आकार 480 मीटर लंबा और 230 मीटर चौड़ा हुआ करता था। यहां एक विशाल और भव्य भवन था। यहां इस राजा विशाल के गढ़ यानी संसद भवन में 7707 संघीय सदस्‍य यानी सांसद या गण हुआ करते थे। समय-समय ये सभी 7707 सदस्य एकसाथ एकत्र होकर राज्य के विभिन्न विषयों पर चर्चा या बहस किया करते थे।

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

राजा विशाल का गढ़ के पास करीब ढाई हजार साल पुराना एक कोरोनेशन टैंक यानी एक सरोवर है-अभिषेक पुष्करणी। बताया जाता है कि इस गणराज्य में जब भी कोई नया शासक या प्रतिनिधि चुना जाता था तो इसी सरोवर के पानी से अभिषेक कराया जाता था। इसके साथ ही राजा विशाल इस अभिषेक पुष्करणी के जल को हाथ में लेकर प्रतिनिधियों को आशीर्वाद दिया किया करते थे।

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta
Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

यह स्थल अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के संरक्षण में है। एएसआई ने यहां राजा विशाल के गढ़ की खुदाई स्थल के पास एक पार्क का निर्माण कराया है। यहां रोज सैकड़ों पर्यटक आते हैं। पार्क के चारों ओर सड़क का निर्माण भी कराया गया है, लेकिन पर्यटकों की सुविधा की यहां काफी कमी है। अगर यहां सुविधा और संपर्क पर ध्यान दिया जाए तो पर्यटकों की संख्या काफी बढ़ सकती है।

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

देश-दुनिया के पर्यटकों के लिए अब भी यह स्थल अनछुआ- अनजान सा बना हुआ है, जबकि भगवान महावीर की जन्मस्थली होने के कारण यह जैन धर्म के लोगों के लिए एक पवित्र स्थल है। इतना ही नहीं भगवान बुद्ध के कारण यह बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए भी प्रमुख तीर्थ स्थल है। भगवान बुद्ध ने यहां काफी समय बिताया था और अपना आखिरी उपदेश दिया था।

यह भी पढ़ेंः वो जगह जहाँ भगवान बुद्ध को मिला ज्ञान: सफर बोध गया का

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta
Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

दर्शनीय स्थल

राजा विशाल का गढ़ के पास अन्य दर्शनीय स्थलों मे अशोक स्तंभ, विश्व शांति स्तूप, बौद्ध स्तूप, अभिषेक पुष्करणी, बावन पोखर और कुंडलपुर है।

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

कैसे पहुंचे

यह स्थल सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यहां आप पटना, हाजीपुर और मुजफ्फरपुर से आसानी से बस या टैक्सी से आ सकते हैं। ट्रेन के आने के लिए आपको 30 किलोमीटर दूर मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन या फिर 41 किलोमीटर दूर हाजीपुर जंक्शन आना होगा। नजदीकी हवाई अड्डा पटना करीब 65 किलोमीटर दूर है।

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

सभी फोटो बिहार टूरिज्म

Photo of बिहार के वैशाली में है दुनिया की सबसे पुरानी संसद: राजा विशाल का गढ़ by Hitendra Gupta

कब पहुंचे

वैसे बिहार में सर्दी और गर्मी दोनों काफी ज्यादा पड़ती है। इसलिए यहां फरवरी से मार्च और सितंबर से नवंबर के बीच आना सही रहता है। बरसात में कोल्हुआ के आसपास बाढ़ का पानी आ जाता है। इसलिए बारिश में आने से बचना चाहिए।

-हितेन्द्र गुप्ता

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।

Also read: gandhi maidan patna, sonepur mela, patna museum