मिलिए पर्वतारोहियों के साथ 23000 फीट की उँचाई नापने वाले इस नेपाली कुत्ते से

Tripoto
Photo of मिलिए पर्वतारोहियों के साथ 23000 फीट की उँचाई नापने वाले इस नेपाली कुत्ते से 1/3 by लफंगा परिंदा

हड्डियाँ जमाने वाली ठंड से मुठभेड़ करके आगे बढ़ने वाले पर्वतारोहियों की दास्तानें लोगों को प्रेरित कर देती हैं | रिकॉर्ड कायम करने के लिए देश के कोने-कोने से लोग आकर पहाड़ों की चोटियाँ नापते हैं | लेकिन एक कुत्ता भी चोटियाँ नापने के मिशन में पीछे नहीं हैं, ये जानकर आपको कैसा लगेगा |

एक नेपाली कुत्ते ने एक अभियान दल के साथ दोस्ती कर ली और पीछे-पीछे 23,000 फीट तक हिमालय की ऊँचाई पर चढ़ गया | 23,389 फीट की ऊँचाई पर माउंट एवरेस्ट के दक्षिण में स्थित नेपाल के हिमालय की बारुन्से शिखर को नापने वाला ये पहला कुत्ता भी है और अपने आप में पहले कारनामा भी |

सिएटल के एक माउंटेन गाइड, डॉन वार्गॉस्की, काठमांडू के एक समिट क्लब का नेतृत्व कर रहे थे | मेरा पीक से लौटते समय उनकी टीम की मुलाकात इस कुत्ते से हुई |

Photo of मिलिए पर्वतारोहियों के साथ 23000 फीट की उँचाई नापने वाले इस नेपाली कुत्ते से 2/3 by लफंगा परिंदा

कुत्ता तिब्बती मास्टिफ और हिमालयन शीपडॉग का मिश्रण है जो मिस्टर वारगॉस्क के साथ काफ़ी घुल मिल गया था | बाद में इस कुत्ते ने तीन सप्ताह तक यात्रा में टीम के पीछे चला और 9 नवंबर, 2018 को टीम के साथ बारुन्से शिखर सम्मेलन में पहुँच गया |

हिमालयन डेटाबेस, एक संगठन जो नेपाल में चढ़ाइयों का ब्यौरा दर्ज करते हैं, के बिली बीर्लिंग ने आउटसाइड मैगज़ीन को बयान दिया " नेपाल में किसी पर्वत की चोटी को फ़तह करने वालों में पहले कभी किसी कुत्ते का ज़िक्र नहीं सुना | मैं बस उम्मीद करता हूँ कि बिना परमिट के बारुन्से चढ़ने के लिए ये कुत्ता मुसीबत में ना पड़ जाए।

Photo of मिलिए पर्वतारोहियों के साथ 23000 फीट की उँचाई नापने वाले इस नेपाली कुत्ते से 3/3 by लफंगा परिंदा

शेरपाओं ने भी इस कुत्ते की चाड़ने की काबिलियत को सराहा है | मौत के कई बार करीब होने के बावजूद ये कुत्ता चढ़ाई करने से पीछे नहीं हटा |

इंसानों की ही तरह कुत्ते भी पर्वतों की ऊँचाई पर थकान, सिरदर्द और उल्टी जैसी तकलीफ़ों से ग्रसित हो जाते हैं | सौभाग्य से, इस नेपाली कुत्ते की बनावट ऊँचाई पर चढ़ने के लिए सही थी |

अभियान के बेस-कैंप मैनेजर काजी शेरपा ने इस कुत्ते को गोद ले लिया है और बारुन्से चोटी के बाद इसका नाम बारू रखा है।

हमसे रोज़ यात्रा करने की प्रेरणा लें | 9599147110 नंबर को सेव करके व्हाट्स एप पर मेसेज करें |

यह आर्टिकल अनुवादित है | ओरिजिनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Be the first one to comment