सावन में क्यों मानी जाती है,बाबा काशी विश्वनाथ के 11 प्रमुख शिव मंदिरों की मान्यता

Tripoto
30th Jun 2022
Photo of सावन में क्यों मानी जाती है,बाबा काशी विश्वनाथ के 11 प्रमुख शिव मंदिरों की मान्यता by Smita Yadav
Day 1

दोस्तों, वैसे तो बाबा काशी विश्‍वनाथ की नगरी में अनगिनत शिवालय हैं। मगर उनमें से भी कुछ शिवालय ऐसे भी हैं जिनकी पौराणिक और आध्‍यात्मिक मान्‍यता बहुत ज्यादा है। दूर दूर से लोग सिर्फ काशी विश्‍वनाथ मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं। वैसे तो पूरे साल यहाँ श्रद्धालुओं का ताता लगा रहता हैं। लेकिन सावन में वाराणसी के प्रमुख शिवालयों की मान्‍यता और आध्यात्मिकता और भी ज्यादा होती हैं। ऐसे भी मान्यता है कि बाबा विश्‍वनाथ सावन माह भर बाबा दरबार को छोड़कर अपने साले सारंगनाथ के यहाँ रहते हैं। तो आप भी सावन माह में अगर आप काशी जा रहे हैं तो यहाँ के अन्‍य प्रमुख शिवालयों के दर्शन ज़रूर करें।

काशी विश्वनाथ के 11 प्रमुख शिव मंदिर:

Photo of सावन में क्यों मानी जाती है,बाबा काशी विश्वनाथ के 11 प्रमुख शिव मंदिरों की मान्यता by Smita Yadav

वाराणसी के ग्‍यारह प्रमुख शिवालयों में पहला काशी विश्‍वनाथ मंदिर, दूसरा काल भैरव मंदिर, तीसरा मारकंडेय महादेव, चौथा तिलभांडेश्‍वर महादेव, पांचवां सारंगनाथ महादेव, छठवां रामेश्‍वर महादेव, सातवां नीलकंठ महादेव, आठवां मृत्‍युंजय महादेव, नौवें मशाननाथ, दसवां नागकूप मंदिर, ग्‍यारहवां नया बीएचयू विश्‍वनाथ मंदिर काशी में है।

पहली बार काशी विश्वनाथ जा रहे हैं तो जाने जरूरी बातें:

सावन के महीने में मंदिर में बहुत ज्यादा भीड़ होती है इसलिए मंदिर से जुड़ी कुछ जरूरी बातों पर गौर करें।

Photo of सावन में क्यों मानी जाती है,बाबा काशी विश्वनाथ के 11 प्रमुख शिव मंदिरों की मान्यता by Smita Yadav

1. यहाँ पर मंदिरों में गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है।

2. मंदिर बनारस में एक संकरी गली के आगे स्थित है।

3. भीड़ से बचना है तो आम दिनों में सुबह 7 बजे से पहले मंदिर पहुंचे। हालांकि सावन के सोमवार में रात से ही मंदिर के बाहर श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो जाती है।

4. मंदिर में बैग, लैपटॉप, कैमरा, माचिस, बेल्ट, अगरबत्ती आदि लेकर जानें की अनुमति नहीं है।

5. मंदिर हर रोज सुबह 2.30 बजे खुल जाता है दिन में पांच बार आरती होती है अंतिम आरती रात 10.30 बजे से 11 बजे तक होती है।

काशी विश्वनाथ मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय:

धार्मिक आस्था से देखा जाए तो काशी विश्वनाथ जाने का सावन सबसे अच्छा महीना है। अगर आप अच्छे से शिवलिंग के दर्शन करना चाहते हैं तो नवंबर से मार्च के दौरान जाएं। इस समय थोड़ी ठंड होती है लेकिन मंदिर में भीड़ नहीं होती।

कैसे पहुंचे काशी विश्वनाथ:

ट्रेन- वाराणसी में तीन रेलवे स्टेशन हैं लेकिन उनमें वाराणसी जंक्शन प्रमुख रेलवे स्टेशन है जहाँ से देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए ट्रेन सेवा उपलब्ध है। वाराणसी जंक्शन शहर के अंदर ही है जबकि अन्य दो रेलवे स्टेशन शहर से 8 किलोमीटर के दूरी में स्थित है। इस प्रकार आप अगर ट्रेन से यहाँ आते हैं तो आपको कोई दिक्कत नहीं होगी।

हवाई मार्ग- वाराणसी एयरपोर्ट का नाम लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा हैं। जो कि शहर से करीब 26 किलोमीटर दूर है। देश के कई बड़े शहरों से वाराणसी के लिए सीधी फ्लाइट उपलब्ध है। इस तरह अगर आप यहाँ फ्लाइट से आते हैं तब भी कोई दिक्कत नहीं होगी।

सड़क मार्ग- नेशनल हाइवे 19 वाराणसी को कई बड़े शहरों से जोड़ता है इसलिए अगर आप यहाँ आने के लिए सड़क मार्ग चुनते हैं तो आपको सफर करने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। इसके अलावा आप खुद ड्राइव करके या फिर कैब किराए पर लेकर भी वाराणसी बहुत आसानी से पहुंच सकते हैं।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।