नैनीताल जाने से पहले ये जानकारी है जरूरी

Tripoto
23rd Oct 2018
Photo of नैनीताल जाने से पहले ये जानकारी है जरूरी by Shareef
Day 1

दोस्तों के साथ घूमने-फिरने का छोटा सा प्लान बनाना हो या हनीमून का, सबसे पहले नैनीताल का नाम ही जेहन में आता है. जहां गर्मियों में नैनीताल की खूबसूरती और ठंडा मौसम सैलानियों को अपनी ओर जैसे खींच लाते हैं. वहीं सर्दियों में बर्फबारी और विंटर स्पोर्ट्स के दीवानों के लिए नैनीताल स्वर्ग बन जाता है. कहा जाता है कि एक समय में नैनीताल जिले में 60 से ज्यादा झीलें हुआ करती थीं. यहां चारों ओर खूबसूरती बिखरी है. सैर-सपाटे के लिए दर्जनों जगहें हैं, जहां जाकर पर्यटक मंत्र-मुग्ध हो जाते हैं. लेकिन नैनीताल जाने पर समय और जानकारी के आभाव में दो-चार खूबसूरत नजारे देखने के बाद पर्यटक खुश हो जाते हैं और उनकी यादें अपने मन में बसाकर सालों तक नैनीताल का गुणगान करते रहते हैं.

अगली बार नैनीताल जाना हो तो पूरी जानकारी के साथ जाएं, ताकि कोई टूरिस्ट गाइड 'नो उल्लू बनाविंग'. जानकारी कहां मिलेगी? यहां और कहां...

एनएच 87 नैनीताल को पूरे देश से जोड़ता है. नैनीताल में रेल और हवाई सेवाएं नहीं हैं, लेकिन यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन यहां से सिर्फ 34 किमी दूर काठगोदाम में है. काठगोदाम से नैनीताल के लिए राज्य परिवहन की गाड़ियां दिन में हर समय उपलब्ध रहती हैं. इसके अलावा शेयर टैक्सी 100 रुपये प्रति व्यक्ति और बुक करने पर 500 रुपये में यहां रेलवे स्टेशन के बाहर ही मिल जाती हैं. अगर आप हवाई मार्ग से नैनीताल जाना चाहते हैं तो यहां का नजदीकी पंतनगर एयरपोर्ट करीब 55 किमी दूर है.

देश के कुछ प्रमुख स्थानों से नैनीताल की दूरी 
दिल्ली: 320 किमी 
अल्मोड़ा: 68 किमी 
हल्द्वानी: 38 किमी 
जिम कॉर्बेट पार्क: 68 किमी 
बरेली: 190 किमी 
लखनऊ: 445 किमी 
हरिद्वार: 234 किमी 
मेरठ: 275 किमी

नैनीताल का इतिहास भी है ख़ास

नैनीताल की खोज सन 1841 में एक अंग्रेज चीनी (शुगर) व्यापारी ने की. बाद में अंग्रेजों ने इसे अपनी आरामगाह और स्वास्थ्य लाभ लेने की जगह के रूप में विकसित किया. नैनीताल तीन ओर से घने पेड़ों की छाया में ऊंचे-ऊंचे पर्वतों के बीच समुद्रतल से 1938 मीटर की ऊंचाई पर बसा है. यहां के ताल की लंबाई करीब 1358 मीटर और चौड़ाई करीब 458 मी‍टर है. ताल की गहराई 15 से 156 मीटर तक आंकी गई है, हालांकि इसकी सही-सही जानकारी अब तक किसी को नहीं है. ताल का पानी बेहद साफ है और इसमें तीनों ओर के पहाड़ों और पेड़ों की परछाई साफ दिखती है. आसमान में छाए बादलों को भी ताल के पानी में साफ देखा जा सकता है. रात में नैनीताल के पहाड़ों पर बने मकानों की रोशनी ताल को भी ऐसे रोशन कर देती है, जैसे ताल के अंदर हजारों बल्ब जल रहे हों.

ताल में बत्तखों के झुंड, रंग-बिरंगी नावें और ऊपर से बहती ठंडी हवा यहां एक अदभुत नजारा पेश करते हैं. ताल का पानी गर्मियों में हरा, बरसात में मटमैला और सर्दियों में हल्का नीला दिखाई देता है.

नैनीताल झील का सुन्दर दृश्य

Photo of Nainital, Uttarakhand, India by Shareef
Be the first one to comment