देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस"

Tripoto
23rd Nov 2018
Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

यार तीन दिन की छुट्टीयां हैं,

कहीं घूमने चलोगे,

या ऐसे ही कानपुर में पड़े रहोगे,

यार बनारस में होने वाली देव दीपावली के बारे में काफी सुना है वहीं का प्रोग्राम बनाते हैं,

तीन दिन में हो भी जायेगा

हम दो दोस्तों ने अपने इसी वर्तालाप के बाद बनारस में बहुत ही धूम धाम से मनाये जाने वाले देव दीपावली के पर्व को देखने का मन बनाया व जाने के लिये ट्रेन टिकट चेक करने पर हम लोगों को पता चला कि टिकट उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए हम लोगों ने कानपुर से वाराणसी बस से जाने का निर्णय किया, कानपुर से वाराणसी के लिये बसें आसानी से मिल जाती है ।

निकटतम रेलवे स्टेशन- वाराणसी कैंट, भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

निकटतम हवाई अड्डा- लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डा बाबतपुर, वाराणसी, भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

Day 1

गंगा घाटों का भ्रमण के साथ देव दीपावली का आनंद

वाराणसी के सभी एन्ट्री प्वाइंट्स लोगों कि अधिकता के कारण जाम थे, जिस कारण हाई-वे पर जाम मिला, हम लोग किसी तरह दोपहर दोपहर 2 बजे वाराणसी पहुंचे पाये, मेरे रिश्तेदार बनारस में ही रहतें है इसलिए हमें होटल नहीं लेना पड़ा, लेकिन अगर आप देव दिपावली देखने के लिए आना चाहते हैं, तो होटल को पहले से बुक कर लें, क्योंकि देव दिवाली पर यहां देश के अन्य हिस्सों से लोग व विदेशी मेहमान भी काफी संख्या में पहुंचते हैं व इस त्योहार को काफी हर्षोल्लास से मनाते हैं । हमने जल्दी ही अपना सामान रखा और घाट जाने के लिए तैयार होकर निकल गये।

दशाश्वमेध घाट

Photo of Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, इस दिन लोग गंगा में एक पवित्र डुबकी लगाने के लिये आते हैं, इस दिन गंगा स्नान करने में लोगों की काफी आस्था है। शाम को विभिन्न संगठनों द्वारा बनारस के प्रत्येक घाट को मिट्टी के दीपकों से घाटों को जगमग कर दिया जाता है व "गंगा आरती" का आयोजन किया जाता है जिसका नजारा बहुत ही भव्य होता है, गंगा के तट पर सभी घाटों की सीढ़ियाँ के साथ-साथ बनारस के सभी मंदिर लाखों मिट्टी के दीपक से जगमग हो जाते हैं।

घाटों पर दीये

Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

घाटों पर दियों की सजावट

Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

लोगों द्वारा दीप दान

Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

घाटों पर सजावट

Photo of Dashashwamegh ghat, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

यहां गंगा में नाव बुक कर सभी घाटों को घूम सकते हैं और इस अद्भुत दृश्य का आनंद ले सकते हैं। इन जगमग घाटों को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे सभी देवता वाराणसी की भूमि पर उतर आये हैं। आप शेयरिंग नौकाओं पर गंगा में 100 से 200 रुपये खर्चकर घूमने के साथ ही इस पर्व की भव्यता का आनंद ले सकते हैं। इस दिन फुल बुक नौका की कीमत बहुत अधिक होती है, घूमते वक्त यहां के मणिकर्णिक घाट को देखना ना भूले क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यहां पर अंत्येष्टि करने से मनुष्य को मुक्ति मिल जाती है, इसलिए यहां अंत्येष्टि कराने के लिए लोग बाहर से भी आते हैं, इसी कारण यहां चितांए 24 घंटे जलती रहती हैं, जबकि देश के अन्य हिस्सों मे सूर्यास्त के बाद अंत्येष्टि नहीं की जाती है।

नौका विहार

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

विदेशी टूरिस्ट

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

देव दीपावली की रात्रि

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

शेयरिंग बोट

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

घाटों पर विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं

सांस्कृतिक प्रोग्राम

Photo of Assi ghat, Shivala, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

सांस्कृतिक प्रोग्राम

Photo of Assi ghat, Shivala, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

गंगा सेवा निधि द्वारा आयोजित प्रोग्राम

Photo of Assi ghat, Shivala, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Photo of Assi ghat, Shivala, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

बनारस के घाटों का विहंगम दृश्य

Photo of Assi ghat, Shivala, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Day 2

नाव से वाराणसी सुबह का आनंद और काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन

"सुबह-ए-बनारस", हम सुबह सूर्योदय से पहले ही गंगा घाट की ओर निकल गये और बनारस की सुबह का आनंद लेने के लिए बोट ले ली । "सुबह-ए-बनारस" को समझने के लिए, आपको बनारस (वाराणसी) आना ही होगा, सुबह के नजारे का वर्णन नहीं किया जा सकता।

सुबह-ए-बनारस

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

हर-हर गंगे

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

यहां साइबेरियाई पक्षी सर्दियों में आते हैं, ये बहुत ही खूबसूरत होतें हैं

साइबेरियन पंछी

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

साइबेरियन पंछी

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

इसके बाद हम काशी विश्वनाथ मंदिर गये व दर्शन किये, मंदिर में काफी भीड़ थी, यहां दर्शन करने के लिये काफी समय ले लेकर आना चाहिए क्योंकि लाइन काफी ज्यादा लम्बी होती है, लेकिन आप यहां वी0आई0पी पर्ची लेकर भी दर्शन कर सकते हैं जिसकी कीमत 300 रुपये है। दर्शन कर शाम को हम लोगों ने फिर से भव्य गंगा आरती का आनंद लिया ।

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar
Day 3

बीएचयू भ्रमण और संकट मोचन हनुमान मंदिर दर्शन

सुबह सबसे पहले हम बनारस हिंदू विश्वविद्यालय गए और वहां न्यू काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन किये।

Photo of New Vishwanath Temple, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

न्यू काशी विश्वनाथ मंदिर

Photo of New Vishwanath Temple, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar
Photo of New Vishwanath Temple, Varanasi, Uttar Pradesh, India by krishna kumar

इसके बाद हम बनारस में स्थित बाटी चोखा रेस्तरां गए, जो कि अपने आप में अलग है क्योंकि इसे पूरी तरह से गांव की थीम पर बनाया गया है, यहां हमने स्पेशल थाली का ऑर्डर किया, जिसमें 195 रुपये में 2 बाटी, दाल, चावल, सॉस, सलाद और खीर शामिल थी। बनारस में आप विभिन्न दक्षिण भारतीय व्यंजनों का भी आनंद ले सकते हैं।

बाटी-चोखा

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar
Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

बाटी-चोखा रेस्टोरेंट

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

दक्षिण भारतीय व्यंजन बनारस में

Photo of देव दीपावली- श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण "बनारस" by krishna kumar

दोपहर का भोजन करने के बाद हम एक और प्रसिद्ध संकट मोचन हनुमान मंदिर गये व दर्शन कर वापस लौट आये, इसी के साथ श्रद्धा व भक्ति से परिपूर्ण हमारी यह यात्रा का समाप्त हूई। सच में बनारस आपको भारतीय संस्कृति के काफी करीब ले जाता है।

Be the first one to comment