हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम

Tripoto
18th Jun 2021
Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin
Day 1

हिमाचल प्रदेश की हिमाच्छादित धौलाधार पर्वत श्रृंखला के प्रांगण में स्थित है भव्य प्राचीन शिव मंदिर बैजनाथ। वर्ष भर यहां आने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। माघ कृष्ण चतुर्दशी को यहां विशाल मेला लगता है जिसे तारा रात्रि के नाम से जाना जाता है। इसके अतिरिक्त महाशिवरात्रि और वर्षा ऋतु में मंदिर में शिवभक्तों की भीड देखते ही बनती है।

शिव मन्दिर बैजनाथ धाम का बाहर का दृश्य

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

शिव मन्दिर बैजनाथ मन्दिर मे हुई नक्काशी

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

शिवरात्री में सजा शिव मन्दिर बैजनाथ धाम

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

श्रद्धालुओं की मन्नतें पूरी करने वाला नंदी बैल

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

मन्दिर का इतिहास

बैजनाथ मंदिर की पौराणिक कथा कुछ इस प्रकार है कि त्रेता युग में रावण ने हिमाचल के कैलाश पर्वत पर शिवजी के निमित्त तपस्या की। कोई फल न मिलने पर उसने घोर तपस्या प्रारंभ की। अंत में उसने अपना एक-एक सिर काटकर हवन कुंड में आहुति देकर शिव को अर्पित करना शुरू किया। दसवां और अंतिम सिर कट जाने से पहले शिवजी ने प्रसन्न हो प्रकट होकर रावण का हाथ पकड लिया। उसके सभी सिरों को पुनस्र्थापित कर शिवजी ने रावण को वर मांगने को कहा। रावण ने कहा मैं आपके शिवलिंग स्वरूप को लंका में स्थापित करना चाहता हूं। आप दो भागों में अपना स्वरूप दें और मुझे अत्यंत बलशाली बना दें। 

शिवजी ने तथास्तु कहा और लुप्त हो गए। लुप्त होने से पहले शिवजी ने अपने शिवलिंग स्वरूप दो चिह्न रावण को देने से पहले कहा कि इन्हें जमीन पर न रखना। अब रावण लंका को चला और रास्ते में गौकर्ण क्षेत्र (बैजनाथ क्षेत्र) में पहुंचा तो रावण को लघुशंका लगी। 

उसने बैजु नाम के ग्वाले को सब बात समझाकर शिवलिंग पकडा दिए और शंका निवारण के लिए चला गया। शिवजी की माया के कारण बैजु उन शिवलिंगों के वजन को ज्यादा देर न सह सका और उन्हें धरती पर रख कर अपने पशु चराने चला गया। इस तरह दोनों शिवलिंग वहीं स्थापित हो गए। जिस मंजूषा में रावण ने दोनों शिवलिंग रखे थे उस मंजूषा के सामने जो शिवलिंग था वह चन्द्रभाल के नाम से प्रसिद्ध हुआ और जो पीठ की ओर था वह बैजनाथ के नाम से जाना गया। मंदिर के प्रांगण में कुछ छोटे मंदिर हैं और नंदी बैल की मूर्ति है। नंदी के कान में भक्तगण अपनी मन्नत मांगते है।

शिव मन्दिर बैजनाथ धाम के भीतर रावन द्बारा रखे शिवलिंग का खूबसूरत दृश्य

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

मन्दिर में बनीं देवी देवताओं की प्रतिमाएं

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

मन्दिर में बनीं देवी देवताओं की प्रतिमाएं

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

बैजनाथ मन्दिर के बाहर से लिया गया एक छायाचित्र

Photo of हिमाचल की सोंदर्य से परिपूर्ण पहाड़ियों में है शिव भक्त रावन की तपौ भूमि। बैजनाथ शिव धाम by Walia Sachin

मन्दिर को नुकसान

महमूद गजनवी ने भारत के अन्य मंदिरों के साथ बैजनाथ मंदिर को भी लूटा और क्षति पहुंचाई। सन 1540 ई. में शेरशाह सूरी की सेना ने मंदिर को तोडा। क्षतिग्रस्त बैजनाथ मंदिर का फिर से जीर्णोद्धार 1783-86 ई. में महाराजा संसार चंद द्वितीय ने करवाया था।वर्ष 1905 में आए कांगडा के विनाशकारी भूकंप ने फिर से इस पूजा स्थल को क्षति पहुंचाई थी जिसे पुरातत्व विभाग ने समय रहते संभालकर मरम्मत करा दी थी। 

इस मंदिर के कई अवशेष आज भी धरती में धंसे हुए हैं। मंदिर में स्थित 8वीं शताब्दी के शिलालेखों से प्रमाणित होता है कि तब से दो हजार वर्ष पहले भी यहां मंदिर था। यह भी पता चलता है कि पांडव युग के इस शिव मंदिर का किसी प्राकृतिक आपदा के कारण 2500-3000 वर्ष पूर्व विनाश हो गया था। बैजनाथ का क्षेत्र भारत वर्ष में ही नहीं अपितु विश्व भर में हैंग ग्लाइडिंग के लिए सबसे उत्तम स्थान माना जाता है।

यहांँ आयें कैसे

बैजनाथ पहुंचने के लिए दिल्ली से पठानकोट या चण्डीगढ-ऊना होते हुए रेलमार्ग, बस या निजी वाहन व टैक्सी से पहुंचा जा सकता है। दिल्ली से पठानकोट और कांगडा जिले में गग्गल तक हवाई सेवा भी उपलब्ध है।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।