दूधसागर फॉल्स: अगर गोवा ट्रिप पर ये नहीं देखा, तो कुछ नहीं देखा!

Tripoto

गोवा से 3 घंटे दूर गोवा कर्नाटक सीमा पर कुदरत का एक नायाब करिश्मा है जिसे दूधसागर फॉल्स या "चेन्नई एक्सप्रेस फॉल्स" के नाम से भी जाना जाता है | यहाँ गोवा और कर्नाटक दोनों जगहों से जाया जा सकता है | यहाँ का पानी दूध जैसा सफेद दिखता है और सुंदरता ऐसी कि शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता | ये उन लोगों के लिए है जो गोवा के उन्हीं घिसी पीटी जगहों पर जा कर ऊब चुके हैं और कुछ हटकर खोज रहे हैं |

Photo of दूधसागर फॉल्स: अगर गोवा ट्रिप पर ये नहीं देखा, तो कुछ नहीं देखा! 1/1 by सिद्धार्थ सोनी Siddharth Soni

पिछले मॉनसून में खुशकिस्मती से मैं यहाँ घूमने गया | हम वास्को से ट्रेन में बैठ गये क्योंकि इस समय दूधसागर तक जाने वाली सड़क जाने लायक नहीं थी | यहाँ से एक ट्रेन 7 बजे चलती है और वही ट्रेन उसी दिन शाम 5 बजे कुलेम (दूधसागर का नज़दीकी स्टेशन) से चलकर वास्को वापिस आ जाती है | 2 घंटे बाद हम कुलेम उतर गए | वहाँ से हमने 12 कि.मी. लंबे ट्रेक पर चलना शुरू किया | एक गाइड लेना सही रहता है क्योंकि वे जंगल के रास्ते अच्छी तरह जानते हैं | आप चाहें तो दूधसागर स्टेशन पर उतर कर एक बाइक भी ले सकते हैं जिसका राइडर आपको दूधसागर फॉल्स के पास छोड़ कर आ जाएगा | वहाँ से आपकी यात्रा का सबसे रोमांचक पड़ाव शुरू होगा जिसमें आप कई बार नदी पार करेंगे और आपका आधा शरीर नदी में डूबा हुआ होगा| हमारी बात करें तो हमने रेलवे पटरियों के साहारे सहारे चलना शुरू करके जंगल का रास्ता पकड़ लिया था | रास्ता ऊबड़ खाबड़ था और बारिश की वजह से चलना और मुश्किल हो गया था |

लगभग 4 घंटे बाद हम झरने की तलहटी तक पहुँच गए | नैसर्गिक सुंदरता मेरे इतने करीब थी और मैं मंत्रमुग्ध-सा, इसे बस निहारे जा रहा था | एक दो घंटे रुकने के बाद हम वापस वापिस लौट चले क्योंकि हमें शाम की 5 बजे वाली ट्रेन पकड़नी थी | थकान की वजह से हमने एक बाइक वाले से हमें स्टेशन तक छोड़ने की प्रार्थना की | खूब मिन्नतें करने के बाद एक बाइक वाला हमें आधे रास्ते तक छोड़ने को तैयार हो गया | हम लपक कर बाइक पर बैठ गए, मगर पीछे बैठ कर बिताए वो 20 मिनट हमारी ज़िंदगी के सबसे डरावने पल थे | वो बाइक एक तरह से चला रहा था जैसे कोई रेस लगा रहा हो | बारिश के कारण सड़कों पर कीचड़ भरा था मगर उसे इस बात से कोई मतलब नहीं था | मैं पीछे बैठी हुई सकुशल पहुँचने की मन ही मन प्रार्थना कर रहा था | 2 मीटर चौड़े रास्ते के पास ही 100 फीट गहरी नदी थी | जब तक उसने मुझे उतार नहीं दिया तब तक मुझे चैन की साँस नहीं आई | हमने उसे पैसे दिए और फिर से उसी रेलवे पटरियों के सहारे चलने लगे | 2 घंटे लगातार चलने के हम पसीने से तरबतर कुलेम पहुँच गएऔर 5 बजे वाली ट्रेन पकड़ ली, मगर जाने का मान तो नहीं हो रहा था | मैं अपनी सीट पर आराम से बैठ गया और देखते ही देखते पता ही नहीं चला कि कब गोवा आ गया |

गोवा टूर पैकेज बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

यात्रा के लिए सलाह :

1. अपने साथ पानी की बोतल और खाने के लिए कुछ ज़रूर रखें |

2. अगर मॉनसून में जा रहे हैं तो अपने साथ एक रेनकोट रखना ना भूलें | वैसे भी मॉनसून में जाना ही सबसे बढ़िया अनुभव होगा |

3. अगर आप पहली बार जा रहे हैं तो अपने साथ एक गाइड ले लें |

4. अगर आप ट्रेन से एक ही दिन में जा कर वापस भी आना चाहते हैं तो समय का प्रबंध आपको अच्छे से करना होगा |

5. अपने साथ एक टॉर्च और फर्स्ट एड का डब्बा ज़रूर ले लें |

6. अपने दोस्तों और परिवार को अच्छे से बता कर जाएँ क्योंकि इस इलाक़े और आसपास में सिग्नल नहीं आता |

Photo of दुधसागर फॉल्स, Sonaulim, Goa, India by सिद्धार्थ सोनी Siddharth Soni
Photo of दुधसागर फॉल्स, Sonaulim, Goa, India by सिद्धार्थ सोनी Siddharth Soni

आप भी अपनी यात्रा के किस्से Tripoto पर बाँटें। सफरनामा लिखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

रोज़ाना वॉट्सऐप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें।

यह आर्टिकल अनुवादित है | ओरिजिनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें |