गोवा से दूधसागर फॉल्स की ओर एक दिन की यात्रा का कार्यक्रम

Tripoto

गोवा

गोवा से 3 घंटे दूर गोवा कर्नाटक सीमा पर कुदरत का एक नायाब करिश्मा है जिसे दूधसागर फॉल्स या "चेन्नई एक्सप्रेस फॉल्स" के नाम से भी जाना जाता है | यहाँ गोवा और कर्नाटक दोनों जगहों से जाया जा सकता है | यहाँ का पानी दूध जैसा सफेद दिखता है और सुंदरता ऐसी कि शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता | ये उन लोगों के लिए है जो गोवा के उन्हीं घिसे पीते स्थानों पर जा कर ऊब चुके हैं और कुछ हटकर खोज रहे हैं |

पिछले मानसून में खुशकिस्मती से मैं यहाँ घूमने गया | हम वास्को से ट्रेन में बैठ गये क्यूंकी इस समय दूधसागर तार जाने वाली सड़क जाने लायक नहीं थी | यहाँ से एक ट्रेन 7 बजे चलती है और वही ट्रेन उसी दिन शाम 5 बजे कुलेम (दूधसागर का नज़दीकी स्टेशन) से चलकर वास्को वापिस आ जाती है | 2 घंटे बाद हम कुलेम उतर गये | वहाँ से हमने 12 किमी लंबे ट्रेक पर चलना शुरू किया | एक गाइड लेना सही रहता है क्यूंकी वे जंगल के रास्ते अच्छी तरह जानते हैं | आप चाहें तो दूधसागर स्टेशन पर उतर कर एक बाइक भी ले सकते हैं जिसका राइडर आपको दूधसागर फॉल्स के पास छोड़ कर आ जाएगा | वहाँ से आपकी यात्रा का सबसे रोमांचक पड़ाव शुरू होगा जिसमें आप कई बार नदी पार करेंगे और आपका आधा शरीर नदी में डूबा हुआ होगा| हमारी बात करें तो हमने रेलवे पटरियों के साहारे सहारे चलना शुरू करके जंगल का रास्ता पकड़ लिया था | रास्ता ऊबड़ खाबड़ था और बारिश की वजह से चलना और मुश्किल हो गया था | लगभग 4 घंटे बाद हम झरने की तलहटी तक पहुँच गये | नैसर्गिक सुंदरता मेरे इतने करीब थी और मैं मंत्रमुग्ध सा इसे बस निहारे जा रहा था | एक दो घंटे रुकने के बाद हम वापस वापिस लौट चले क्यूंकी हमें शाम की 5 बजे वाली ट्रेन पकड़नी थी | थकान की वजह से हमने एक बाइक वाले से हमें स्टेशन तक छोड़ने की प्रार्थना की | खूब मिन्नतें करने के बाद एक बाइक वाला हमें आधे रास्ते तक छोड़ने को तैयार हो गया | हम लपक कर बाइक पर बैठ गये, मगर पीछे बैठ कर बिताए वो 20 मिनट हमारी ज़िंदगी के सबसे डरावने पल थे | वो बाइक एक तरह से चला रहा था जैसे कोई रेस लगा रहा हो | बारिश के कारण सड़कों पर कीचड़ भरा था मगर उसे इस बात से कोई मतलब नहीं था | मैं पीछे बैठी हुई सकुशल पहुँचने की मन ही मन प्रार्थना कर रही थी | 2 मीटर चौड़े रास्ते के पास ही 100 फीट गहरी नदी थी | जब तक उसने मुझे उतार नहीं दिया तब तक मुझे चैन की साँस नहीं आई | हमने उसे पैसे दिए और फिर से उसी रेलवे पटरियों के सहारे चलने लगे | 2 घंटे लगातार चलने के हम पसीने से तरबतर कुलेम पहुँच गये और 5 बजे वाली ट्रेन पकड़ ली, मगर जाने का मान तो नहीं हो रहा था | मैं अपनी सीट पर आराम से बैठ गयी और देखते ही देखते पता ही नहीं चला कि कब गोवा आ गया |

सलाह :

1. अपने साथ पानी की बोतल और खाने के लिए कुछ ज़रूर रखें |

2. अगर मानसून में जा रहे हैं तो अपने साथ एक रेनकोट रखना ना भूलें | वैसे भी मानसून में जाना ही सबसे बढ़िया अनुभव होगा |

3. अगर आप पहली बार जा रहे हैं तो अपने साथ एक गाइड ले लें |

4. अगर आप ट्रेन से एक ही दिन में जेया कर वापस भी आना चाहते हैं तो समय का प्रबंध आपको अच्छे से करना होगा |

5. अपने साथ एक टॉर्च और प्राथमिक उपचार का डब्बा ज़रूर ले लें |

6. अपने दोस्तों और परिवार को अच्छे से बता कर जाएँ क्यूंकी इस इलाक़े और आसपास में सिग्नल नहीं आता |

Photo of गोवा से दूधसागर फॉल्स की ओर एक दिन की यात्रा का कार्यक्रम 1/2 by लफंगा परिंदा
Photo of गोवा से दूधसागर फॉल्स की ओर एक दिन की यात्रा का कार्यक्रम 2/2 by लफंगा परिंदा

यह आर्टिकल अनुवादित है | ओरिजिनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Be the first one to comment