मॉनसून का असली मज़ा तो राजस्थान के इन 4 शहरों में ही है!

Tripoto
Photo of मॉनसून का असली मज़ा तो राजस्थान के इन 4 शहरों में ही है! 1/1 by लफंगा परिंदा

गर्मियों में जो लोग पहाड़ों की ओर चले गए थे, वही लोग अब बारिश में नीचे आ जाएँगे | ज़रूरी भी है, क्योंकि पहाड़ों की बारिश जानलेवा हो सकती है | गिरती चट्टानें, टूटती सड़कें और बाढ़ का ख़तरा छोटा-मोटा नहीं होता |

तो अब बारिश में कहाँ घूमने जाया जाए ? चलो राजस्थान चलते हैं, जहाँ बारिश कम आती है मगर मौसम ठंडा रहता है |

इस मॉनसून राजस्थान के इन शहरों में घूम आइए :

1. माउंट आबू

Photo of माउंट आबू, Rajasthan, India by लफंगा परिंदा

माउंट आबू का पुराना नाम 'अर्बुदारन्य' है जिसका मतलब है - 'अर्बु के जंगल' | अरावली की पहाड़ियों से घिरा ये शहर बारिश में हरा-भरा हो जाता है |

यहाँ ज़रूर घूमिए

गुरु शिखर: ये राजस्थान की ही नहीं, बल्कि अरावली पर्वतों की सबसे ऊँची चोटी है | शिखर पर भगवान दत्तात्रेय को समर्पित सफेद मंदिर भी है |

आबू रोड : मॉनसून में बनास नदी के पास आबू रोड की खूबसूरती देखते ही बनती है |

घूमने लायक और जगहें

अचलगढ़ का किला, ट्रेवर टैंक, क्रोकोडाइल पार्क, गौमुख मंदिर

सबसे नज़दीक एयरपोर्ट : 185 कि.मी. दूर उदयपुर के डबोक में माउंट आबू से सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है |

सबसे नज़दीक रेलवे स्टेशन : माउंट आबू से 40 कि.मी. दूर सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन आबू रोड है |

2. पुष्कर

Photo of पुष्‍कर, Rajasthan, India by लफंगा परिंदा

शुरुआती बारिश में ही पुष्कर के चारों ओर अरावली की पहाड़ियाँ लहलहा जाती है | बारिश का पानी पहाड़ों से रिस्ता हुआ आकर पुष्कर के मशहूर कुंड में जमा होता है | लोग ऐसा मानते हैं कि इस पानी में नहाने से ना सिर्फ़ पाप धुलते हैं, बल्कि शरीर की कई बीमारियाँ भी ठीक हो जाती है |

यहाँ ज़रूर घूमिए

ब्रह्मा मंदिर : भारत में कुल 6 बृह्मा मंदिर हैं, जिनमें से सबसे जाने-माने मंदिरों में से एक पुष्कर में है |

सावित्री मंदिर : कहते हैं कि ब्रह्मा की पत्नी सावित्री, ब्रह्मा से नाराज़ होकर पहाड़ की छोटी पर जाकर बस गयी | आज वहाँ एक मंदिर बना है, जहाँ तक सीढ़ियों से या केबल कार से जा सकते हैं |

देखने लायक और जगहें

रंगजी का मंदिर (जहाँ विदेशी नहीं घुस सकते), कैमल सफारी, सनसेट पॉइंट

सबसे नज़दीक एयरपोर्ट : पुष्कर से सबसे नज़दीक एयरपोर्ट 146 कि.मी. दूर जयपुर इंटरनैशनल एयरपोर्ट के नाम से है |

सबसे नज़दीक रेलवे स्टेशन : पुष्कर से 11 कि.मी दूर अजमेर में सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है |

3. उदयपुर

Photo of उदयपुर, Rajasthan, India by लफंगा परिंदा

बारिश में झीलों की नगरी उदयपुर के चारों ओर बनी 7 झीलें लबालब भर जाती हैं और आने वाले टूरिस्ट इनमें बोटिंग करने का भरपूर मज़ा लेते हैं | यहाँ की ख़ास राजपूती शैली की सभ्यता और आव-भगत को राजस्थान में काफ़ी माना जाता है |

यहाँ ज़रूर घूमिए

सिटी पैलेस : पिचोला झील से लग कर ही उदयपुर शहर का महल खड़ा है जो अपनी राजपूती वास्तुकला के कारण खूब जाना जाता है |

लेक पैलेस : पिचोला झील के एक ओर तो सिटी पैलेस है, मगर झील में पानी के बीचों-बीच लेक पैलेस भी बना है, जिसमें उदयपुर का शाही परिवार गर्मियों में रहा करता था | ये महल सफेद संगमरमर से बना है और अब यहाँ ताज होटल कंपनी एक बेहद शानदार पाँच सितारा होटल चलाती है |

देखने लायक और जगहें

जगदीश मंदिर, फ़तेह सागर झील, सहेलियों की बाड़ी, सुखाड़िया सर्कल

सबसे नज़दीक एयरपोर्ट : उदयपुर में शहर से 22 कि.मी दूर अपना खुद का एयरपोर्ट है |

सबसे नज़दीक रेलवे स्टेशन : शहर में ही अपना रेलवे स्टेशन भी है |

4. अलवर

Photo of अलवर, Rajasthan, India by लफंगा परिंदा

अलवर से 40 कि.मी. दूर सरिस्का टाइगर रिज़र्व है और केवलादेव नैशनल पार्क 10 कि.मी. दूर है | बारिश के बाद दोनों ही जगह बाहर की प्रजातियों के पक्षी आ जाते हैं | सुहाने मौसम के साथ जंगली जीवन भी खिल उठता है |

यहाँ ज़रूर घूमिए

भानगढ़ का किला : भारत के सबसे भूतहा किलों में से एक है, जहाँ रात को रुकने से भारत का पुरातत्व विभाग भी सख़्त मना करता है | मगर दिन की रोशनी में टूरिस्ट दिनभर यहाँ पिकनिक मनाते दिख जाते हैं |

देखने लायक और जगहें

अलवर किला, सिलीसेट झील

सबसे नज़दीक एयरपोर्ट : अलवर से 162 कि.मी. दूर सांगानेर में सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है |

सबसे नज़दीक रेलवे स्टेशन : अलवर शहर में ही अपना रेलवे स्टेशन भी है जो राज्य की राजधानी जयपुर से अच्छी तरह से जुड़ा है |

तो इस बार बारिश में छाते नहीं, कैमरे निकालिए और राजस्थान की खूबसूरती को जीने निकल जाइए | अपनी मॉनसून यात्रा के किस्से Tripoto पर बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

अपने सफरनामों को हमारे फेसबुक पेज पर देखने के लिए हमसे फेसबुक पर जुड़ें।

Be the first one to comment

Further Reads