भारत के वो अजीब व्यंजन जिन्हें खाने के लिए भूख नहीं, हिम्मत चाहिए

Tripoto
Photo of भारत के वो अजीब व्यंजन जिन्हें खाने के लिए भूख नहीं, हिम्मत चाहिए 1/1 by Swati Pal

भारत में संस्कृति और परंपराओं की जिनती विभिन्नता है, उतना ही वेरिायटी यहाँ के स्वादिष्ट खाने में भी झलकती है। भारतीय खाना अलग-अलग जगह की संस्कृति और रहन-सहन का खूबसूरत मिश्रण हैं। लेकिन देश की तरह ही हमारे खाने में भी कई अनूठे और अनोखे पहलू हैं जिन्हें जान कर आप हैरान हो जाएँगे।  हो सकता है आपको थाली को हाथ लगाने से पहले ही 2 बार सोचना पड़े। तो चलिए कुछ ऐसी डिशेज़ के बारे में बताते हैं जिन्हें चखने के लिए आपको थोड़ा निडर होना पड़ेगा।

1. लाल चींटी की चटनी – छत्तीसगढ़ी

Photo of छत्तीसगढ़, India by Swati Pal

स्वादिष्ट भारतीय चटनी हर क खाने में जान डाल देती है। लेकिन छत्तीसगढ़ के बत्सर क्षेत्र के जंगलों की लाल चींटियों और उनकी अंडो से बनी यह तिखी लाल चटनी जिसे "चापड़ा" भी कहा जाता है, ये चटनी, खाने से पहले आपको सोचने पर मजबूर कर देगी। पहले इन चींटियों को सुखाया जाता है और फिर नमक और दुसरे मसालों के साथ कुटा जाता है| इन चींटियों में फोरमिक एसिड होता है और यह भी माना जाता है कि इनमें औषधीय गुण होते हैं | यहाँ के स्थानीय धुरुवा आदिवासी इसे र्सिफ एक खाना नहीं मानते, बल्कि हिम्मत वाला काम मानते है|

2. घोंघे का स्टू और स्टीम्ड हॉर्नेट- नागालैंड

Photo of कोहिमा, Nagaland, India by Swati Pal

नागालैंड में खाना खाने से पहले आपको अपने अंदर के निडर आदमी को बाहर लाना होगा। घोंघे का स्टू और स्टीम्ड हॉर्नेट लार्वा यहॉं का सबसे मशहूर और स्वादिष्ट खाना है। यह अधिकतर गलियों में बेचा जाता है और लोगों का  मानना  है कि ये बेहद स्वादिष्ट होता है।

3. मेंढक के पैर – सिक्किम और गोवा

Photo of Sikkim, India by Swati Pal

यह फ्रांसीसी खाना सालों से स्वाद के दीवानों को खुश कर रहा है। सिक्किम के लेप्चा समुदाय का इस खाने में मौजूद औषधीय गुणों पर बहुत विश्वास है, वे मानते है कि यह पेट से जुड़ी परेशानियों का इलाज करता है। गोवा में इसे 'जंपिंग चिकन' के नाम से जाना जाता है। हालाँकि, भारत सरकार द्वारा इसे लुप्तप्राय प्रजाति घोषित किया गया है, फिर भी आपको इसे खिलाने वाले कुछ रेस्तरां मिल जाएंगे।

4. इरी पोलू – असम

Photo of असम, India by Swati Pal

ये आसाम का बहुत ही मशहूर खाना है। इसे रेशम के कीड़े से बनाया जाता है। इरी और रेशम का कीड़ा, इस खाने की मुख्य सामग्री है, जिसे ककून से निकलने के बाद इस्तेमाल किया जाता है। इरी पोलु को आमतौर पर खोरिसा के साथ परोसा जाता है। खोरिसा असम का एक और स्वादिष्ट खाना है जो की फेर्मेंटेड बॉंस से बनाई जाती है।

5. दोह-खलीह – मेघालय

Photo of मेघालय, India by Swati Pal

यह खाना सबसे अव्वल दरजे के खाने में से है।ये डिश सूअर के मांस और प्याज़ की सलाद है जिसमें सूअर के स्टीम्ड दिमाग से गार्निश किया जाता है। माना जाता है कि यह स्वास्थ के लिए बिल्कुल बढि़या है और चटकारे लेकर खाने वाला व्यंजन है।

आप इनमें से कौन-सा खाना खाने की हिम्मत करेंगे?

अगर आपने भी ऐसी कोई अनोखी डिश चखी है तो अपना अनुभव Tripoto पर लिखकर यात्रियों के समुदाय के साथ बाँटें।

Be the first one to comment