तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं

Tripoto
Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं by Musafir Rishabh

कई जगहें ऐसी होती हैं जो बाहर से देखने पर फीकी लगती है लेकिन उनके अंदर खूबसूरती का संसार होता है। ऐसी जगहों के बारे में लोगों को सही-सही पता नहीं होता है इसलिए वहाँ जाने का ख्याल भी नहीं आता है। ऐसा ही खूबसूरत शहर है असम का तेजपुर। ब्रह्मपुत्र नदी के उत्तरी किनारे पर बसा तेजपुर अपने अंदर कई खूबसूरत और ऐतहासिक जगहों को समेटे हुए है। शांत पहाड़ी और हरियाली से घिरा ये शांत शहर आपकी पसंदीदा जगहों में से एक बन सकता है।

Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं 1/1 by Musafir Rishabh

तेजपुर वो जगह है जहाँ आप भीड़ से प्रकृति के नजारों का आनंद ले सकते हैं। तेजपुर को असम की सांस्कृतिक राजधानी कहा जाता है। तेजपुर असम का पांचवाँ बड़ा शहर है फिर भी यहाँ दूसरे शहरों की तरह भागदौड़ नहीं दिखाई देती है। तेजपुर का अर्थ है, रक्त का शहर। इसके पीछे एक पौराणिक कहानी है। ये जगह पहले बाणासुर की राजधानी हुआ करता था। बाणासुर की एक बेटी थी, उषा। उषा को अनिरुद्ध से प्यार हो गया जो कृष्ण का पोता था। दोनों ने किसी को बिना बताए शादी कर ली। जब बाणासुर को ये पता चला तो उसने अनिरुद्ध को बंदी बना लिया। कृष्ण ने बाणासुर की राजधानी पर हमला कर दिया तो बाणासुर ने मदद के लिए भगवान शिव से मदद माँगी। उसके बाद दो भगवानों के बीच भयंकर युद्ध हुआ। ये जगह खून से रंग गई और तभी से ये तेजपुर कहलाने लगी।

क्या देखें?

इस छोटे-से शहर में देखने को बहुत कुछ है। यहां इतिहास से जुड़ी जगहें भी हैं और कुदरत से जुड़ी हुई। आपको यहाँ किन जगहों पर जाना चाहिए, ये हम बता देते हैं।

1- अग्निगढ़

तेजपुर की सबसे फेमस जगहों में से एक है अग्निगढ़ किला। पहाड़ की चोटी पर बसे इस किले से खूबसूरत नजारा दिखाई देता है। इस किले का नाम अग्निगढ़ इसलिए है क्योंकि बाणासुर अपनी बेटी उषा की सुरक्षा के लिए किला हमेशा आग से घिरा रहता था। यहीं वो जगह है जहाँ बाणासुर ने अनिरुद्ध को बंदी बनाकर रखा था। यहाँ से ब्रह्मपुत्र नदी का नजारा आपका मन मोह लेगा। यहाँ से आप सिर्फ ब्रह्मपुत्र का नजारा नहीं बल्कि तेजपुर शहर को भी निहार पाएँगे। ये किला एक पहाड़ी पर स्थित है इसलिए यहाँ तक पहुँचने के लिए घुमावदार रास्तों से जाना पड़ता है।

2- बामुनी हिल्स

Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं by Musafir Rishabh

तेजपुर में एक ऐसी पहाड़ी है जहाँ 9वीं और 10वीं शताब्दी के कुछ अवशेष और स्मारक रखे हुए हैं। यहाँ रखीं सभी मूर्तियाँ और अवशेष गुप्त शैली के हैं। यहां आपको 10वीं शताब्दी की विष्णु की मूर्ति भी रखी हुई है। शहर की ये जगह प्राचीन आर्किटेक्चर का शानदार नमूना है। आप तेजपुर आएँ तो इस जगह पर जरूर जाएँ। इसके अलावा आप बामुनी हिल्स के पास भैरवी और महाभैरव मंदिर को भी देखने जा सकते हैं। महाभैरव मंदिर में दुनिया का सबसे पुराना और सबसे बड़ा शिवलिंग है।

3- नामेरी नेशनल पार्क

हरा-भरा नजारा हर किसी का मन खुश कर देता है। नामेरी नेशनल पार्क की खूबसूरती हर किसी का मन मोह लेती है। 200 वर्ग किमी. में फैला ये नेशनल पार्क कई दुर्लभ पेड़-पौधों और जानवरों का घर है। तेजपुर से 35 किमी. दूर इस नेशनल पार्क में आपको बाघ, शेर, हिरण, भेड़िया और जंगली बिल्ली भी देखने को मिलेगी। इस नेशनल पार्क से बहती नदी में आप स्विमिंग कर सकते हैं और रिवर राफ्टिंग कर सकते हैं। यहाँ के खूबसूरती देखकर आपका और कहीं जाने का जी ही नहीं करेगा। इसलिए तेजपुर जाएँ तो इस नेशनल पार्क में जरूर जाएँ।

4- बुरा-चपोरी वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी

श्रेय: इंडियन सैंक्चुरीज।

Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं by Musafir Rishabh

तेजपुर से 30 किमी. दूर ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित बुरा-चपोरी वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी है। इस सैंक्चुरी में वनस्पतियों का ऐसा जाल है जो हर किसी को देखना चाहिए। 44 वर्ग किमी. में फैली ये वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी में कई जानवर, पेड़-पौधें और पक्षियों का घर है। नामेरी नेशनल पार्क की तरह ये जगह भी प्रकृति के खूबसूरत नजारों को खुद में समेटे हुए है। यहाँ आप जंगल में घूम सकते हैं और जंगल की दिनचर्या को समझ सकते हैं। इस वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी को आप सफारी से भी देख सकते हैं।

5- पदुम पोखरी लेक

Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं by Musafir Rishabh

तेजपुर में एक झील भी है जिसको आपको जरूर देखना चाहिए। पदुम पोखरी नाम की इस झीन पर एक छोटा-सा द्वीप भी है। आप तेजपुर में इस द्वीप की भी सैर कर सकते हैं। ये द्वीप टूरिस्टों के लिए एक पार्क की तरह है, जहाँ वे अपना कुछ समय शांति से बिताते हैं। पदुम पोखरी झील को कमल तालाब के नाम से भी जाना जाता है। पदुम का अर्थ कमल और पोखरी का मतलब तालाब है। इस तालाब के अलावा यहाँ एक बोर पोखरी नाम का दूसरा तालाब भी है। यहाँ के स्थानीय लोग बताते हैं कि दोनों तालाब बाणासुर और उनकी बेटी उषा के स्मृति-चिह्न हैं। इस लेक पर आप म्यूजिकल फाउंटेन, टॉय ट्रेन और प्राकृतिक खूबसूरती का आनंद ले सकते हैं।

6- दा परबतिया

Photo of तेजपुरः असम की वो खिड़की जिसको बहुत कम लोग खोलते हैं by Musafir Rishabh

यदि आपको पुरानी चीजें, स्मारक और अवशेष को देखना पसंद करते हैं तो आपको तेजपुर के दा परबतिया जगह पर जाना चाहिए। दा परबतिया एक छोटा-सा गाँव है जो तेजपुर से 6 किमी. है। यहाँ कई पुराने-पुराने मंदिर हैं 6वीं शताब्दी के बने हुए हैं। ये मंदिर अब खंडहर की तरह दिखाई देते हैं। जिनमें से एक में भगवान शिव की मूर्ति दिखाई देती है। दा परबतिया मंदिर में बनीं मूर्तियाँ गुप्त शैली से मिलती-जुलती है। ये जगह अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन है। तेजपुर में आपको इस जगह पर जरूर आना चाहिए।

ये कुछ जगहें हैं जिनको आप तेजपुर में देख सकते हैं। इनके अलावा भी तेजपुर में और भी चीजें देखने लायक है। आप यहाँ औगिरी हिल, चित्रलेखा पार्क और कोलिया भोमोरा सेतु भी देख सकते हैं। तेजपुर में ही असम का पहला सिनेमाघर जोनाकी है।

कहाँ ठहरें?

तेजपुर सिर्फ घूमने के लिहाज से ही नहीं कई और मायनों में महत्वपूर्ण है। तेजपुर अरुणाचल प्रदेश का एंट्री प्वाइंट है। यहां आपको ठहरने में कोई दिक्कत नहीं होगी। तेजपुर में आपको होटल, हाॅस्टल और होमस्टे भी मिल जाएँगे। आप यहाँ अपने बजट के हिसाब से जगह चुन सकते हैं। वैसे तो तेजपुर कभी भी जा सकते हैं लेकिन सर्दियों में ये जगह बेहद खूबसूरत लगती है। मेरा सुझाव तो यही है कि आप सर्दियों में तेजपुर देखें।

कैसे पहुँचे?

गुवाहटी से 175 किमी. दूर तेजपुर हवाई, सड़क और रेल मार्ग से अच्छी से कनेक्टेड है। अगर आप फ्लाइट से तेजपुर जाना चाहते हैं तो सबसे नजदीकी सलोनी एयरपोर्ट है। सलोनी एयरपोर्ट सोनितपुर में है जहाँ से तेजपुर 15 किमी. है। सलोनी एयरपोर्ट पहुँचकर आप टैक्सी बुक करके तेजपुर पहुँच सकते हैं। अगर आप सड़क मार्ग से तेजपुर जाना चाहते हैं तो गुवाहटी, सिलीगुड़ी से बसें जाती हैं। जिनसे आप तेजपुर पहुँच सकते हैं। अगर आप ट्रेन से तेजपुर जाना चाहते हैं तो सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन रंगापारा है। रंगापारा से तेजपुर लगभग 25 किमी. है, आप यहाँ से टैक्सी बुक करके तेजपुर पहुँच सकते हैं।

क्या आपने कभी असम के छोटे-से शहर तेजपुर की यात्रा की है? अपने सफर का अनुभव यहाँ लिखें।

रोज़ाना वॉट्सऐप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें।