दुनियाभर के पर्यटकों द्वारा पसंद किए जाने वाले मुंबई शहर के 20 प्रमुख पर्यटन स्थल

Tripoto
Photo of दुनियाभर के पर्यटकों द्वारा पसंद किए जाने वाले मुंबई शहर के 20 प्रमुख पर्यटन स्थल by रोशन सास्तिक

मुंबई शहर में सालाना 60 लाख लोग घूमने आते हैं। बात करें भारतीयों की तो मुंबई शहर घूमना तो यहां हर दूसरे इंसान का सपना है। लेकिन मुंबई सिर्फ देशी ही नहीं तो विदेशी पर्यटकों को भी बड़े पैमाने पर अपनी तरफ आकर्षित करती है। यही कारण है कि मुंबई शहर दुनियाभर के पर्यटकों द्वारा सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले दुनिया के 30 सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थलों में से एक है। पर्यटकों द्वारा सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थलों की सूची में वैश्विक स्तर पर मुंबई का स्थान 27वां है। अब जब किसी शहर को दुनियाभर के लोगों द्वारा इतना पसंद किया जा रहा है, तो शहर में जरूर कुछ न कुछ ऐसा खास होगा ही जो बाकियों में नहीं है। तो चलिए आज हम आप सभी को मुंबई के उन खास जगहों से रूबरू कराते हैं, जो मुंबई को सपनों का शहर बनाती हैं।

1) मुंबा देवी:

मुंबई के प्रमुख पर्यटन स्थलों की सूची की शुरुआत में मुंबा मंदिर का नाम इसलिए प्रथम है, क्योंकि हमने सोचा मुंबई शहर घूमने की शुरुआत शुरू से शुरू की जाए। यानी उस स्थान से जहां से मुंबई शहर को अपना नाम मिला। मराठी में माता को आई कहा जाता है। इस वजह से मुंबा माता(आई) के नाम पर शहर का नाम मुंबई पड़ा। करीब 400 साल पुराने इस मंदिर की स्थापना 1737 में बोरी बंदर(अब सीएसएमटी) में की गई। लेकिन जब मुंबई अंग्रेजों के कब्जे में आई, तब उन्होंने मुंबा माता के मंदिर को बोरी बंदर से दक्षिण मुंबई के झवेरी बाजार में स्थापित कर दिया। मुंबई शहर की ऐतिहासिकता को अपने में समेटे मुंबा देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए आप सेंट्रल लाइन में मस्जिद बंदर या वेस्टर्न लाइन में मरीन लाइंस स्टेशन उतर सकते हैं।

Add:- Mumba Devi Marg, Mumbadevi Area, Zaveri Bazar, Mumbai, Maharashtra 400002

2) जुहू बीच:

दादर बस स्टैंड से महज १५ किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह बीच काफी आकर्षक है। मुंबई के पश्चिमी उपनगर में स्थित यह बीच फिल्म शूटिंग और जानी-मानी हस्तियों के निवास स्थान के लिए प्रसिद्ध है। विले-पार्ले में स्थित यह बीच लोगों को आसानी से अपनी तरफ आकर्षित कर लेता है। यहाँ भारी तादाद में पर्यटक आते हैं। यह बीच अपने स्वादिष्ट स्ट्रीट फूड के लिए प्रसिद्ध है। बीच के दक्षिणी किनारे पर घर और होटल मौजूद हैं। यहाँ सूर्यास्त का नजारा कुछ अलग ही होता है। इस नजारे को देखने के लिए लोग सुबह से शाम होने का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं। ढलता हुआ सूरज अपनी लालिमा से लोगों को मंत्रमुग्ध कर देता है। इसके उत्तरी किनारे पर गांधी ग्राम मौजूद है, जहां बच्चे गर्मी की छुट्टियों में बास्केटबाल, क्रिकेट और फूटबाल खेलते हैं। यहां मिलने वाली ‘पानी-पुरी’, ‘भेलपुरी’ और पाव-भाजी पर्यटकों के लिए सबसे खास व्यंजन है। यहां अक्टूबर से फरवरी तक का महीना पर्यटन के लिए अच्छा माना जाता है। मानसून सीजन में यहां आना खतरे से खाली नहीं होता क्योंकि यह वही समय होता है जब समुद्र की लहरें अपने उफान पर होती हैं।

Add:- Juhu Beach, Juhu Tara Road, Juhu, Mumbai, Maharashtra 400049,

3) गेटवे ऑफ इंडिया:-

अरब सागर के किनारे खड़ी इमारत- गेटवे ऑफ इंडिया दुनिया के लिए मुंबई का प्रवेश द्वार है। गेटवे ऑफ इंडिया की अहमियत और लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सामान्यतः मुंबई घूमने आने वाले पर्यटक शहर में सबसे पहले गेटवे ऑफ इंडिया देखने ही जाते हैं। 1924 में बनकर तैयार हुए 26 मीटर ऊंचे गेटवे ऑफ इंडिया को 2 दिसंबर 1911में पंचम किंग जार्ज और महारानी मेरी के मुंबई आगमन की याद को यादगार बनाने के उद्देश्य से बनाया गया था। जार्ज विटेट द्वारा बनाई गई इस ख़ूबसूरत इमारत को अगर आप अपनी आंखों से निहारना चाहते हैं कि आपको सबसे पहले सीएसटीएम स्टेशन उतरना होगा और फिर बेस्ट की बस आपकों स्टेशन से उठाकर गेटवे ऑफ इंडिया के गेट पर छोड़ देगी।

Add:- Apollo Bandar, Colaba, Mumbai, Maharashtra 400001

4) मरीन ड्राइव:-

मरीन ड्राइव वो 'चार चांद' है, जो मुंबई की खूबसूरती में लगते हैं। इसकी खूबसूरती के कारण ही इसे क्वीन्स नैकलेस के उपनाम से भी पुकारा जाता है। अरब सागर के किनारे नरीमन पॉइंट से गिरगांव चौपाटी होते हुए मालाबार हिल तक फैला हुआ मरीन ड्राइव अपनी नायाब खूबसूरती से पहली नजर में सभी पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देता है। अंग्रेजी के अक्षर 'C' के आकार में बने 6 लेन वाले मरीन ड्राइव का निर्माण 1920 में हुआ। वैसे तो यह जगह 24/7 दिलकश नजर आती है, लेकिन रात के वक्त जब सूरज डूब जाता है और सड़कों पर स्ट्रीट लाइटें जगमगाने लगती हैं। तब मरीन ड्राइव दुनिया की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक हो जाती है। मरीन ड्राइव जाने के लिए आप चर्नी रॉड या फिर मरीन लाइंस इन दोनों में से किसी एक स्टेशन पर उतर सकते हैं।

Add:- Netaji Subhash Chandra Bose Road, Chowpatty, Mumbai, Maharashtra 400007

5) गिरगांव चौपाटी-

मुंबई शहर के सबसे प्रमुख समुद्री किनारों में से एक है गिरगांव चौपाटी। मरीन ड्राइव से सटकर मौजूद गिरगांव चौपाटी की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दिन के हर पहर इसके किनारे ओर लोगों का हुजूम होता है। गिरगांव चौपाटी घूमने आए लोगों को चौपाटी पर पैरों को छूती समुद्री लहरें ही नहीं तो चौपाटी पर मिलने वाले चटपटे खाद्य पदार्थ भी बहुत ज्यादा आकर्षित करते हैं। चर्नी रोड़ रेलवे स्टेशन से चंद कदमों की दूरी पर स्थित गिरगांव चौपाटी पर सूरज को ढलते देखना इतना मनमोहक है कि आदमी अपने दिनभर की थकान भूल जाए। वैसे गणेशोत्सव के दौरान कब यहां गणेश जी की मूर्तियों का विसर्जन होता है, तब इसके किनारे एक साथ हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ती है।

Add:- Marine Drive, Girgaon, Mumbai, Maharashtra 400007

6) हाजी अली दरगाह:-

अरब सागर के बीच में मौजूद हाजी अली दरगाह मुंबई के मशहूर दर्शनीय स्थलों में से एक है। करीब 600 साल पुरानी यह दरगाह समुद्र के किनारे से 500 यार्ड अंदर स्थित है। समुद्र के बीच मौजूद होने के बावजूद मुस्लिम संत पीर हाजी अली शाह बुखारी की दरगाह कभी समुद्र में नहीं डूबती। ज्वार-भाटा के दौरान दरगाह तक पहुंचने का रास्ता भले समुद्र के पानी में डूब जाता है। लेकिन, दावा है कि बाबा के दरबार के अंदर कभी पानी ने प्रवेश नहीं किया। वर्ली की खाड़ी में मौजूद हाजी अली की दरगाह तक पहुंचने के लिए आप महालक्ष्मी, भायखला या फिर मुंबई सेंट्रल इन तीनों में से किसी भी एक स्टेशन पर उतर सकते हैं। वहां से बस या ऑटो आपको हाजी अली दरगाह छोड़ देगा।

Add:- Dargarh Road, Lala Lajpat Rai Marg, Mumbai, Maharashtra 400026

7) एलिफेंटा की गुफाएं:-

आधुनिक शहर में प्राचीन गुफाएं देखने का मजा ही कुछ और है। बीच समुंदर में स्थित एक छोटे से द्वीप पर मौजूद एलिफेंटा की गुफाओं तक पहुंचने के लिए आपकों पहले गेटवे ऑफ इंडिया जाना होगा। वहां से नाव पर बैठकर आप एक घंटे का समुद्री सफर तय कर एलिफेंटा की गुफाओं तक पहुंच सकते हैं। यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरीटेज साइट का दर्जा प्राप्त एलिफेंटा की गुफाएं भगवान शिव को समर्पित है। गुफा के अंदर पत्थरों को तराश कर भगवान शिव की मूर्तियां बनाई गई है। जिस हाथी की मूर्ति की वजह से इन गुफाओं का नाम एलिफेंटा पड़ा,उसे भायखला स्थित जिजामाता उद्यान में रखा गया है।

Add:- Raigad, Gharapuri, Mumbai, Maharashtra 400094

8) बांद्रा-वर्ली सी लिंक

बांद्रा-वर्ली सी लिंक ने शहर की खूबसूरती में 4 चांद लगाने का काम तो किया ही, साथ ही समुंद्र पर बना यह आधुनिक ब्रिज बनने के बाद से ही मुंबई की पहचान भी बन गया। बांद्रा को वर्ली से जोड़ने वाले करीब 5.6 किलोमीटर लंबे इस ब्रिज का अधिकारिक नाम 'राजीव गांधी सेतु' है। इस ब्रिज ने शहर की सिर्फ खूबसूरती ही नहीं बढ़ाई बल्कि ट्रैफिक को कम करने में भी इसने अहम रोल अदा किया। इस ब्रिज की वजह से बांद्रा से वर्ली तक के सफर के लिए लगने वाला 45 मिनट घटकर महज 6 मिनट हो गया। लगभग 1600 करोड़ रूपए की लागत और अंदाजन 3 हजार कामगारों की दिन-रात की मेहनत से बनकर तैयार हुआ बांद्रा-वर्ली सी लिंक पहले दिन से ही पर्यटकों की पहली पसंद बन गया। मुंबई में रहने वाला हर बाशिंदा इस ब्रिज से होकर गुजरने की इच्छा को गाहे-बगाहे पूरा करता रहता है। और इसके बाद भी उसकी यहां से गुजरने की इच्छा बनी रहती है। रात के वक्त को रोशनी में नहाए इस ब्रिज की खूबसूरती देखते ही बनती है। प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत नहीं होती। इसलिए आप भी बांद्रा-वर्ली सी लिंक गूगल पर मौजूद अनगिनत तस्वीरों को देखकर जान सकते हैं कि क्यों यहां से गुजरने वाला हर शख्स आंखों से नजर आने वाले नजारों को अपने जेहन में हमेशा-हमेशा के लिए कैद कर लेता है।

Add:- Kesarinath Buva Bhaye Marg, Koliwada, Worli, Mumbai, Maharashtra 400030

9) सिद्धिविनायक मंदिर:-

किसी भी शहर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों की सूची में वहां के किसी आध्यात्मिक जगह का होना लाजमी है। मुंबई शहर में स्थित सिद्धिविनायक का मंदिर शहर के सबसे ज्यादा प्रसिद्ध और लोकप्रिय मंदिरों में से एक है। सरकारी दस्तावेजों के मुताबिक मुंबई एक इस मशहूर मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में हुआ था। शुरुआत में गणपति बप्पा का यह मंदिर काफी छोटा था। लेकिन इस मंदिर की प्राचीनता और लोगों का इस मंदिर के प्रति अपार प्रेम देखकर महाराष्ट्र सरकार ने 1991 में मंदिर के भव्य निर्माण के लिए 20 हजार वर्गफीट की जमीन प्रदान की थी। मुंबई दर्शन के दौरान अगर आप भी सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन करना चाहे, तो आपकों दादर रेलवे स्टेशन उतरना होगा।

Add:- SK Bole Marg, Prabhadevi, Mumbai, Maharashtra 400028

10) गोराई बीच:-

मुंबई शहर के उत्तरी उपनगर में शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर स्थित गोराई बीच शहर के अन्य तमाम बीच की तुलना के कहीं ज्यादा साफ-सुथरा और शांत है। गोराई बीच तक पहुंचने के लिए आपको भायंदर स्टेशन उतरना होगा। वहां से सड़क मार्ग के जरिए आप भायंदर क्रीक पर मौजूद गोराई बीच तक जा सकते है। साफ और सुथरा और सबसे शांत होने के कारण मुंबई शहर के लोग इस बीच की तरफ खींचे चले आते है। इतना ही नहीं तो शाम के समय गोराई बीच ओर सूर्य को ढलते देखना साक्षात स्वर्ग की अनुभूति करने जैसा है। इसके अलावा यहां आने वाले पर्यटक अपने जोड़ीदार या फिर परिवार के साथ वाटर स्पोर्ट्स, नाव की सवारी, ऊंट की सवारी का भी लुफ्त उठा सजते है। कुल मिलाकर यह एक बेहतर पिकनिक स्पॉट है।

Add:- Gorai Beach Road, Koliwada, Gorai, Mumbai, Maharashtra 400092

11) संजय गांधी नेशनल पार्क:-

मुंबई शहर के उपनगर बोरीवली में स्थित संजय गांधी नेशनल पार्क शहरवासियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। 104 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला संजय गांधी नेशनल पार्क भारत के अन्य भागों में स्थित राष्ट्रीय उद्यानों से भले ही बेहद छोटा हो, लेकिन यहां जिस तरह जानवरों की देखभाल और उनका संरक्षण किया जाता है, वह काबिलेतारीफ है। आजादी से पहले इस उद्यान को कृष्णागिरी नेशनल पार्क से जाना जाता था। आजादी के बाद 1981 तक लोग इसे बोरीवली नेशनल पार्क कहने लगे। इसके बाद इस पार्क का नाम बदलकर संजय गांधी नेशनल पार्क रख दिया गया। नेशनल पार्क की खूबसूरती में चार चांद लगाने के लिए उद्यान के अंदर विहार झील और तुलसी झील है। इतना ही नहीं तो उद्यान में 800 तरह के फूल, 284 प्रजाति की पक्षियां, 5000 से ज्यादा प्रकार के जीव-जंतु, 36 प्रकार के स्तनधारी जीव, 50 प्रकार के सरीसृप और 150 प्रकार की तितलियां इसे स्वर्ग कहने का प्रमुख कारण है।

Add:- Sanjay Gandhi National Park, Borivali East. Mumbai, Maharashtra 400066

12) मार्वे बीच:

पहाड़ों से घिरा यह समुद्री किनारा बड़ा ही खूबसूरसत है। यहाँ सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा देखते ही बनता है। एक प्राचीन पुर्तगाली चर्च और काजू का बगीचा इसकी खूबसूरती में चार चाँद लगा देता है। जिंदगी की व्यस्तता से ऊब चुके लोग अपने दिल को बहलाने के लिए इस मनोरम स्थल पर आकर सुकून पाते हैं। यह किनारा एस्सेल वर्ल्ड और मध द्वीप को मुंबई से जोड़ने का काम करता है। इसके अपने दो सम्बन्धी हैं गोराई बीच और मनोरी बीच। नौकायन का लुत्फ़ उठाने का मौका भी मिलता है । अक्सर लोग पिकनिक के लिए इस जगह का चयन करते हैं । यहाँ किसी भी तरह का प्रवेश शुल्क नहीं लगता। यहाँ पार्किंग की सुविधा उपलब्ध है। खाने पीने की चीजें भी उयलब्ध हैं। इस जगह पर पर्यटकों की संख्या कम देखी जाती है जिसकी वजह से यहाँ गन्दगी कम पायी जाती है। इसे ‘मिनी गोवा; के नाम से भी जाना जाता है। मुंबई के उत्तरी छोर पर ४० किलोमीटर की दूरी पर बसे इस समुद्री किनारे पर चांदनी रात में फैली छटा निहारने लायक होती है।

Add:- Marve Beach, Malad West, Mumbai, Maharasthra 400095

13) फ़िल्म सिटी:-

अगर भारत और दुनियाभर के लोग मुंबई के लिए इतने दीवाने है, तो एक बहुत बड़ा कारण मुंबई में बॉलीवुड का होना भी है। इसलिए अगर आप मुंबई आए तो फ़िल्म सिटी घूमना भूलकर भी मत भूलना। मुंबई शहर के पश्चिमी उपनगरीय इलाके गोरेगांव में स्थित फ़िल्म सिटी घूमने का एक अलग ही रोमांच है। यहां आप सीरियल या फिर फ़िल्म की शूटिंग देख सकते है। पर्दे पर फ़िल्म देखना और उसे आंखों से सामने बनते देखना दोनों एक दम अलग अनुभव है। 26 सितंबर 1977 को गोरेग फ़िल्म सिटी की स्थापना हुई। भारत में फ़िल्म उद्योग से जुड़ा 30 प्रतिशत काम अकेले मुंबई के गोरेगांव फ़िल्म सिटी में होता है।

Add:- Film City Rd, Film City Complex, Aarey Colony, Goregaon East, Mumbai, Maharashtra 400065

14) अर्नाला बीच:

विरार रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह बीच वसई तालुका का प्रसिद्ध बीच है। यह विरार के पश्चिमी हिस्से में आता है। आप विरार पश्चिम रेलवे स्टेशन के पास से रिक्शा, और लोकल बस से भी जा सकते हैं। आखिरी बस स्टॉप से कुछ दूर पैदल चलने के बाद आपको लम्बे लम्बे नारियल के वृक्षों से ढका अर्नाला बीच दिखने लगेगा। भेलपुरी और गोला यहाँ लोग बड़े चाव से खाते हैं। आनंद रिसोर्ट, सागर रिसोर्ट, सी बीच रिसोर्ट , एल डी रिसोर्ट, अर्नाला सी लार्ड रिसोर्ट और अन्य रिसोर्ट इस बीच की खूबियाँ हैं जो आपको अपने तरफ आकर्षित करेंगी। दूर से देखने में तो इस बीच की जलधाराएं अच्छी दिखती हैं मगर ये अक्सर जानलेवा साबित होती हैं। इसलिए थोड़ी सी सावधानी से आप अपने पर्यटन के इस मजे को दोगुना कर सकते हैं।

Add:- Arnala, Virar West, Virar, Maharashtra 401302

15) छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस:-

यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरीटेज साइट का दर्जा प्राप्त छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस मध्य रेलवे का हेडक्वार्टर होने के साथ ही मुंबई शहर की आत्मा भी है। 1887-1888 में जब इस ऐतिहासिक इमारत को प्रसिद्ध वास्तुकार फ्रेडरिक विलियम स्टीवन्स बनाया गया, तब इसका नाम विक्टोरिया टर्मिनस था और लोग उसे विटी स्टेशन के नाम से पहचानते थे। लेकिन 1996 में राज्य में शिवसेना के सत्ता में आने के बाद उसने इस इमारत का नाम शूरवीर मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर रख दिया। मुंबई को भारत भर से और भारत को मुंबई से जोड़ने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस को 2 जुलाई 2004 को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घोषित कर दिया।

Add:- Chhatrapati Shivaji Terminus Area, Fort, Mumbai, Maharashtra 400001

16) एस्सल वर्ल्ड:-

मुंबई स्थित एस्सल वर्ल्ड मनोरंजन एंव जल पार्क मुंबई सहित पूरे भारत भर में प्रसिद्ध है। 1989 में शुरू हुआ यह पार्क 64 एकड़ भूभाग में फैला हुआ है। इसकी यही विशालता इसके नाम का शुमार भारत के सबसे बड़े मनोरंजन पार्क में करती है। पैन इंडिया पर्यटन प्राइवेट लिमिटेड के स्वामित्व वाले एस्सल वर्ल्ड में अनगिनत प्रकार के झूले है। जिनकी सवारी इतनी रोमांचल होती है कि एक बार यहां आने वाला दोबारा घर जाने का नाम ही नहीं लेता। 3400 वर्ग फुट में फैले एस्सल वर्ल्ड में आप जमीन से आसमान की तरफ जाते झूले की सवारी से लेकर बेहद ऊंचाई से पानी के तालाब में गिरने तक का मजा ले सकते है। हर साल करीब 18 से 20 लाख लोग एस्सल वर्ल्ड का लुफ्त उठाने आते हैं।

Add:- Gorai Island, Borivali (West) Mumbai - 400 091

17) माउंट मेरी चर्च:-

मुंबई में जितना हिंदुओं के लिए सिद्धिविनायक मंदिर, मुस्लिमों के लिए हाजी अली की दरगाह महत्व रखती है, उतना ही धार्मिक महत्व क्रिस्चन लोगों के लिए माउंट मेरी चर्च का है। मुंबई के बांद्रा इलाके में स्थित माउंट मेरी चर्च की स्थापना 1760 में की गई थी। वैसे तो मुंबई में ढेर सारे चर्च मौजूद है, लेकिन बांद्रा स्थित माउंट मेरी चर्च उन सबमें सबसे ज्यादा विशिष्ट और चर्चित है। इसकी इसी खासियत की वजह से यहां सिर्फ ईसाई समुदाय के लोग ही नहीं बल्कि हर धर्म के लोग इस रोमन कैथोलिक चर्च की खूबसूरती को निहारने आते हैं। यहां हर वर्ष आठ सितंबर के बाद अगले एक सप्ताह तक कुंवारी माउंट मेरी जन्मोत्सव मनाया जाता है।

Add:- Mt Mary Rd, Mount Mary, Bandra West, Mumbai, Maharashtra 400050

18) हैंगिंग गार्डन:-

मुंबई के प्रमुख पर्यटन स्थलों की सूची में शीर्ष में शुमार होने वाले हैंगिंग गार्डन की सबसे खास बात यह है कि यह तीन जलाशयों के ऊपर बनाया गया है। मालाबार पहाड़ी पर स्थित हैंगिंग गार्डन को फिरोजशाह मेहता गार्डन भी कहा जाता है। 1881 में बनाए गए इस गार्डन से सूर्यास्त होते देखने का अनुभव शब्दों में बयान नहीं किज सकता। हैंगिंग गार्डन में जानवर नुमा आकार में कटी झाड़ियां गार्डन की खूबसूरती में चार चांद लगा देती है। वैसे हैंगिंग गार्डन का प्रमुख आकर्षण केंद्र यहां स्थित 'ओल्ड लेडी शु' है। यह गार्डन अकेले, किसी खास या फिर अपने परिवार के साथ सुकून के पल बिताने की दृष्टि से बेहद उम्दा स्थल है।

Add:- Ridge Rd, Simla Nagar, Malabar Hill, Mumbai, Maharashtra 400006

19) धोबी घाट:-

महालक्ष्मी स्टेशन के करीब स्थित घोबी घाट दुनिया की सबसे बड़ी ऐसी जगह है जहां खुले आसमान में इतने बड़े पैमाने पर कपड़े धोएं जाते है। 1890 में शुरू हुआ धोबी घाट धीरे-धीरे समय के साथ इतना बढ़ता गया कि आज की तारीख में धोबी घाट का सालाना टर्नओवर 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का है। एक रिपोर्ट के मुताबिक हर दिन 18 से 20 घंटे 7000 से अधिक लोग इस घाट पर खुले आसमान के नीचे कपड़े धोते है। इस तरह दिनभर में यहां 1 लाख से भी ज्यादा कपड़े धूल दिए जाते है। यहां पर कपड़ों की सिर्फ धुलाई ही नहीं बल्कि डाई और ब्लीच के साथ-साथ उन्हें सुखाने के काम भी होता है। मुंबई आने वाले विदेशी पर्यटकों के सबसे पसंदीदा स्थल धोबी घाट का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स तक मे दर्ज हैं।

Add:- Dr. E. Moses Road, Near Mahalakshmi Station, Mumbai, Maharashtra, 400011

20) जीजामाता उद्यान:-

मुंबई के भायखला स्टेशन से कुछ दूरी पर स्थित जीजामाता उद्यान का पुराना नाम रानीबाग था। करीब 53 एकड़ भू-भाग में फैला यह उद्यान भारत के सबसे पुराने चिड़िया घरों में से एक है। यहां 26 प्रजातियों के 200 जानवर, 8 मगरमच्छ और करीब 450 पक्षियां है। यहां अफ्रीकी शेर, जेबरा, तेंदुआ, पैंगोलिन, माउस हिरण, हाथी, हिप्पो पोटेमस आदि जानवर मौजूद है। बाकी इस उद्यान का प्रमुख आकषर्ण दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल से लाई गईं 8 हंबोल्ट पेंगुइन है। जीजामाता उद्यान के प्रवेश द्वार पर ही ग्रेको-रोमन शैली में एक शानदार सम्मारक भी बनाया गया है। यहां उस हाथी की मूर्ति भी रखी गई है, जो मूलरूप से एलिफेंटा में स्थित था और उस हाथी की खूबसूरत मूर्ति के नाम पर ही द्वीप का नाम एलिफेंटा पड़ा।

Add:- 91A, Lalbaug Flyover, Near Railway Station, Byculla East, Mazgaon, Mumbai, Maharashtra 400027

-रोशन सास्तिक

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।