मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, सरकार के इस फैसले से आपका सफर होगा सुहाना

Tripoto
Photo of मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, सरकार के इस फैसले से आपका सफर होगा सुहाना by Hitendra Gupta

पहाडों की रानी मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए एक अच्छी खबर है। केंद्र सरकार ने मसूरी में माल रोड से लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी के बीच 2.74 किलोमीटर लंबी दो लेन की सुरंग को मंजूरी दे दी है। इस सुरंग को बनाने पर करीब 700 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इसकी जानकारी देके हुए कहा कि एनएच 707ए पर मसूरी के माल रोड से लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी तक 2.74 किलोमीटर लंबी सुरंग के निर्माण के लिए 700 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत कर दी गई है।

मसूरी गाइडः सबके पसंदीदा हिल स्टेशन की सारी जानकारी

Photo of मसूरी, Uttarakhand, India by Hitendra Gupta

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसके लिए आभार जताते हुए कहा कि सुरंग बनने से इस पहाड़ी शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार और सुविधा होगी। उत्तराखंड सरकार ने केंद्र सरकार से सुरंग बनाने की मांग की थी। केंद्र सरकार ने इसके डीपीआर के लिए कंसल्टेंट कंपनी भी तय कर दी है।

Photo of मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, सरकार के इस फैसले से आपका सफर होगा सुहाना by Hitendra Gupta

इस सुरंग का निर्माण माल रोड से लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी के बीच हाथी पांव के लिए निकलने वाली सड़क के जंक्शन से करीब एक किलोमीटर आगे से होगा। यहां से यह सीधे मसूरी इंटरनेशनल स्कूल के पास निकलेगी। इससे लोगों को शहर के जाम वाले इलाकों में घुसने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Photo of मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, सरकार के इस फैसले से आपका सफर होगा सुहाना by Hitendra Gupta
Photo of मसूरी जाने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, सरकार के इस फैसले से आपका सफर होगा सुहाना by Hitendra Gupta

गर्मी के दौरान जब यहां काफी संख्या में पर्यटक आते हैं तो यहां उन्हें काफी परेशानी झेलनी पड़ती है। दो साल पहले तो यहां कई किलोमीटर लंबी जाम लगने से लोगों को काफी परेशाली झेलनी पड़ी थी। अब इस सुरंग के बन जाने से मसूरी आने वाले पर्यटकों को जाम से राहत मिलेगी। इस सुरंग के बनने से सिर्फ मसूरी के लोगों को ही नहीं, बल्कि घनोल्टी, टिहरी और उत्तरकाशी की ओर जाने वाले पर्यटकों को भी आसानी होगी।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।