रिमझिम फुहारों के बीच जंगलों के रोमांच के लिए ही तो बना है केरल का ये कस्बा

Tripoto
Photo of रिमझिम फुहारों के बीच जंगलों के रोमांच के लिए ही तो बना है केरल का ये कस्बा by Rishabh Dev

अगर आपको शहरी भागदौड़ पसंद नहीं है और उस नरक वाली जिंदगी से कुछ दिनों के लिए बाहर आना चाहते हैं। जहां चारों तरफ प्रकृति की छंटा बिखरी हो, शांति हो और उस गोद में आप हों। ऐसा ही खूबसूरत और शांत कस्बा है केरल का तेकड़ी। केरल तो वैसे भी खूबसूरत पहाड़ों, नदियों और जंगलों के लिए फेमस है। कुदरत के ऐसे ही संगम को लेकर बैठा है केरल के इडुक्की जिले का ये खूबसूरत कस्बा। चलिए आज खूबसूरत तेकड़ी कस्बे के सफर पर चलते हैं।

Photo of रिमझिम फुहारों के बीच जंगलों के रोमांच के लिए ही तो बना है केरल का ये कस्बा 1/1 by Rishabh Dev

तेकड़ी केरल के इडुक्की जिले का एक छोटा-सा कस्बा है। तेकड़ी एक मलयाली शब्द है, जो ‘तेक’ शब्द से आया है। मलयालम में सागवान के पेड़ को तेक कहते हैं। यहां के जंगलों में सागवान के वृक्ष बहुत हैं, इसी वजह से इस जगह का नाम तेकड़ी रखा गया। हिंदी भाषी लोग इसका गलत उच्चारण करते हैं। वे तेकड़ी की जगह इसको थेकड्डी या थेक्कड़ी कहते हैं। ऐसा इसकी स्पेलिंग की वजह से होता है। तेकड़ी इतना खूबसूरत कस्बा है कि इसको देखते ही आप इसको अपना दिल दे बैठेंगे।

इस छोटे-से कस्बे को आपको पैदल चलते हुए देखना चाहिए। अगर आप घूमने वाले व्यक्ति हैं तो आपको यहां प्रकृति को निहारना बेहद अच्छा लगेगा। यहां के जंगलों में आप हाथियों को देख सकते हैं, रास्ते में पक्षियों की चहचहाहट सुनकर आप उछल पड़ेंगे। इसके अलावा आपको ऐसे पेड़-पौधे और जानवर देख पाओगे, जो और कहीं नहीं दिखते। यहां दूर-दूर तक फैली सुंदरता है और पहाड़ का रोमांच भी है। सुंदरता से भरपूर पेरियार घाटी में स्थित तेकड़ी कस्बा समुद्र तल से 1700 मीटर की उंचाई पर स्थित है। इस जगह का जादू आप यहां आकर ही महसूस कर पायेंगे। यहां की बारिश की हो, फिर चाहे चाय-काॅफी के बागान या इलायची के खेत। ये सब मन को बांधने वाले नजारे होते हैं। यहां के जंगल जैवविविधता के लिए देश भर में फेमस है। यहां की खूबसूरत घाटियां, झरने और कलकल करते पानी के सोते मन मोह लेते हैं।

चेलारकोविल वाॅटरफाॅल

श्रेयः केरल ट्रेवलपल।

Photo of केरल, India by Rishabh Dev

तेकड़ी से 15 किलोमीटर उत्तर में चेलारकोविल वाॅटरफाॅल है। जो तेकड़ी की खूबसूरती का नायाब नगीना है। यदि आप तेकड़ी के जंगल की सैर कर चुके हैं और कुछ नया देखना चाहते हो तो ये वाॅटरफाॅल सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है। केरल सरकार के पर्यटन विभाग ने यहां के पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए और स्थानीय लोगों की भूमिका को बढ़ाने के लिए एक अच्छा काम किया है। तेकड़ी के आसपास वाॅटरफाॅल के पास रह रहे लोगों को इसके पर्यटन की जिम्मेदारी दे रखी है। केरल की उंचाई से तमिलनाडु के खेतों की ओर बहता ये झरना अपने आप में अलग अनुभव देता है। यहां दो अलग-अलग दो राज्यों की भौगोलिक स्थिति और सुंदरता हमारा ध्यान खींच लेती है। ये खूबसूरती आपको रूकने के लिए मजबूर कर देती है। झरने का दूध जैसा सफेद गिरता पानी आकर्षणीय है।

तेकड़ी का अनूठा जंगल

रोमांच के शौकीन टूरिस्टों के लिए तेकड़ी एक नायाब तोहफा है। यहां रात के समय टेकिंग करने के लिए दो टोलियां जंगल के घने हिस्से में जाते हैं। इस समय जंगली जानवर सबसे ज्यादा देखने को मिलते हैं। 5 से 8 लोगों की दो टोलियां गाइड और सुरक्षाकर्मियों के साथ जंगल जाते हैं। इसे ही जंगल नाइट पेटोल के नाम से भी जाना जाता है। इस घने जंगल में बड़े जंगली जानवर रात के अंधेरे में शिकार करते देखे जा सकते हैं। यह टेकिंग रात के अंधेरे और जानवरों की वजह से रोमांचक तो होती ही है।

साथ में इसकी एक और खासियत इसे रोमांचक बनाती है। इस जंगल के गाइड्स को यहां के चप्पे-चप्पे के बारे में पता है। वे जानवरों के व्यवहारों को बखूबी समझते हैं। जंगल के गाइड वे लोग हैं जो जंगलों में पहले तस्कर थे। उन्हें पुर्नवास और रोजगार देने के साथ-साथ उन्हें जीवन की मुख्यधारा में लौटाने के लिए सरकार की तरफ से सराहनीय काम किया है। इन गाइड्स के पास बहुत सारे रोचक किस्से हैं। अगर आप इन जंगलों की सैर करना चाहते हैं तो केरल पर्यटन विकास निगम की वेबसाइट पर जाकर हर रात जाने वाली इन दो टोलियों में अपना नाम रिजर्व करा सकते हैं।

बागानों में सैर

तेकड़ी केवल अपने जंगल के लिए ही नहीं, बल्कि बागानी की खेती के लिए भी फेमस है। यहां इलायची, काली मिर्च, चाय-काॅफी और दूसरे मसालों की खेती होती है। जो टूरिस्ट बागानी की बारीकियों को समझना चाहते हैं और उनको उगते हुए देखना चाहते हैं। तो यहां गाइडेड टूर भी होते हैं। इसके साथ यहां कुमली में जिला पर्यटन कार्यालय द्वारा बागानों की यात्रा करवाई जाती है। वहां से टिकट लेकर बागानों के सफर का आनंद ले सकते हैं। यह उन लोगों के लिए भी मुफीद है, जो कठिन ट्रेकिंग नहीं कर सकते। उन्हें यहां केरल की असल पहचान से मिलने का अवसर मिलता है। यहां मसालों की उस दुनिया को करीब से देख सकते हैं, जिसने कभी यूरोपीय और अरब के लोगों को आकर्षित किया। ये बागान हमें इतिहास से जोड़ देते हैं। केरल से जानी वाली फेमस काली मिर्च का मूल स्थान यही है।

मूल निवासियों से मुलाकात

ये जगह अपने हरे-भरे जीवन के लिए जाना जाता है। लेकिन यहां के मूल निवासियों से मिलकर लगता है कि जितनी हरियाली बाहर है, उतनी ही उनके मन के भीतर। प्रकृति से सामंजस्य बनाना कोई इनसे सीखे। तेकड़ी के मूल निवासी मुथुवान, एजवा जैसी कुछ आदिवासी हैं। जंगलों के बीचोंबीच बसी उनकी बस्तियां उनके जीवन के रोमांच को दिखाने के लिए काफी है। ये लोग तेकड़ी की सुंदरता में खासा योगदान रखते हैं। आप यहां ठहरकर उनके बीच जा सकते हैं और सदियों पुरानी उनकी जिंदगी और संस्कृति से रूबरू हो सकते हैं। केरल के कलारीपयट्टू को विश्व का सबसे पुराना मार्शल आर्ट माना जाता है। इसको अगर आप देखना चाहते हैं तो आपको तेकड़ी जरूर आना चाहिए। अक्सर यहां भीड़ के कारण यहां टिकट नहीं मिल पाता इसलिए कलारीपयट्टू शो के लिए टिकट बुक करा लेना चाहिए।

ट्रेकिंग का शानदार अनुभव

तेकड़ी के आसपास घूमने-फिरने और टेकिंग के रोमांच को जी सकने वाली जगहों की भरमार है। इनमें प्रमुख हैं- रामक्कलमेड़, परिंदुपारा, कलावरी माउंट आदि। इसके साथ-साथ आप एलापारा जा सकते हैं। इस गांव का नाम इलायची यानी एला के नाम पर पड़ा। इसके साथ टूरिस्ट यहां गवी के सफर पर भी जा सकते हैं, जहां का लैंडस्केप बहुत खूबसूरत है। तेकड़ी से गवी के लिए जीप सफारी उपलब्ध रहती है। इस तरह यह दोहरे आनंद की जगह बन जाती है।

बाॅडी राफ्टिंग यानी कि बांस की नाव। बांस की मोटी-मोटी बल्लियों को एक साथ रखकर बनाई गई यह नाव लकड़ी या प्लास्टिक कर नावों से अलग होती है। यह पानी की सतह पर जैसे तैरती है, वह यात्री खुद को पानी पर फिसलने जैसा अनुभव देती है। सुबह से शाम तक चलने वाली ये यात्रा जीवन भर के लिए यादगार रह जाती है। इसमें आपको दस-दस यात्रियों के दल में लोकल लोगों के साथ जाते हैं। टूरिस्टों को घने जंगल के रास्ते ट्रेकिंग करवाते हुए ले जाया जाता है। इसी ट्रेक में पश्चिमी घाट की पहाड़ियों का विहंगम दृश्य देखने को मिलता है और जंगली जानवरों को देखने को मिलता है। इसके बाद बांस की नावों की तीन घंटे की लंबी यात्रा होती है, जो जंगलों को इतने करीब से देखने में बहुत अच्छा लगता है।

पेरियार टाइगर रिजर्व

तेकड़ी आने पर सबसे प्रमुख आकर्षण है- पेरियार नेशनल पार्क। इस अभ्यारण्य में प्रकृति अपने मूल रूप में अलसाई-सी दिखाई देती है। ये पार्क तेकड़ी से महज ढाई किमी. दूर है। कभी त्रावणकोर के राजाओं की शिकार की ये जगह भारत सरकार के अधीन है। 1978 में इसका नाम बदलकर पेरियार टाइगर रिजर्व रखा गया। ये जगह जानवरों के लिए भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में सबसे सुरक्षित जगहों में से एक है। ये जंगल पेड़ों की हरियाली से भरा हुआ है। पेरियार टाइगर रिजर्व तकरीबन 305 वर्ग किमी. में फैला हुआ है। इसके भीतर से होकर पेरियार और पंबा नदियां बहती हैं। पेरियार नदी को केरल की जीवनदायिनी कहलाती है। पेरियार टाइगर रिजर्व में रहने के लिए केटीडीसी की वेबसाइट पर बुकिंग कराई जा सकती है।

कब और कैसे जाएं?

तेकड़ी देश के उन गिने-चुने जगहों में से एक है, जहां साल भर जाया जा सकता है। लेकिन मानसून और इसके तुरंत बाद इस जगह की खूबसूरती कमाल की होती है। तेकड़ी तक जाने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट कोच्चि में है और सबसे करीब रेलवे स्टेशन है, आलुवा। यहां से बस और टैक्सी से तेकड़ी तक जाया जा सकता है। सरकारी और प्राइवेट दोनों ही की बसें यहां चलती हैं। यहां ठहरने के लिए पर्यटन विभाग के अलावा सभी तरह के होटल और लाॅज भी उपलब्ध हैं।

Be the first one to comment