भारत के सबसे रंगीन शहर की सैर, जहाँ आकर दिल और आत्मा दोनों खुश हो जाती हैं!

Tripoto
Photo of भारत के सबसे रंगीन शहर की सैर, जहाँ आकर दिल और आत्मा दोनों खुश हो जाती हैं! by Rishabh Dev

विविधता से भरे इस देश का हर कोना अपनी खूबसूरती और उसका महत्व लिए बैठा है। हर जगह का अपना एहसास है और उनके कुछ भाव हैं। लेकिन जब हम किसी जगह की रंगीन जगहों की बात करते हैं तो ज़हन में एक ही नाम आता है, ‘राजस्थान’ और इसकी वजहें भी कई हैं। राजस्थान जिसे ‘राजाओं की भूमि’ भी कहा जाता है जो आज भी अपनी विरासत को लेकर चल रहा है। जहाँ के स्मारक ही रंगीन नहीं हैं, यहाँ के लोग और गलियाँ भी रंगों से सरोबार हैं। अपनी प्राचीनता और शौर्यता के लिए तो राजस्थान फेमस है ही यहाँ के कुछ शहर तो रंगो के नाम से जाने जाते हैं। जैसे कि राजधानी जयपुर पिंक सिटी के नाम से, जोधपुर ब्लू सिटी, व्हाइट सिटी उदयपुर और जैसलमेर गोल्डन सिटी

जयपुर, जोधपुर, उदयपुर और जैसलमेर राजस्थान के फेमस शहर हैं जहां सबसे ज्यादा टूरिस्ट आते हैं। यहां की वैभवता और भव्यता देखते ही बनती है, आज रंगों से भरे राजस्थान के तीन कलरफुर शहरों के सफर पर चलते हैं।

पिंक सिटी जयपुर

जयपुर राजस्थान का सबसे बड़ा शहर है और ये शहर आपको राजस्थान के राजशाही का अनुभव कराता है। यहाँ के मार्केट, यहाँ के किले और स्मारक आपके लिए बहुत कुछ नया अनुभव होगा। आमेर किला, जयगढ़ किला और नाहरगढ़ किला शहर से दूर हैं, जहाँ आप पहाड़ों के बीच इन किलों की खासियत देखेंगे और उनके महत्व को समझेंगे। ये विशालकाय किले एक से बढ़कर एक हैं कोई राजा का महल है तो कोई सैन्य बंकर। इन किलों की बनावट, शैली सब आपको अचंभे में डालेगी और आपके मन में बस यही चलेगा कि इन किलों का कोई रंग छूट ना जाए। ये तो शहर के बाहर की बात है शहर में भी भव्यता का नगीना पसरा हुआ है। ये किले लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर से बने हुए हैं जो देखने में बहुत खूबसूरत लगते हैं।

यहाँ आप हवा महल के सबसे उपरी तल पर जाकर इस शहर को निहार सकते हैं और यहाँ की ठंडी हवा का लुत्फ उठाया जा सकता है। हवा महल से ही सटा हुआ सिटी पैलेस है जो अब पूरी तरह से म्यूजियम में बदल चुका है, जहाँ राजपुताना शान-बान को देख सकते हैं म्यूजियम के अलावा यहाँ एक बड़ा से भवन है जहाँ राज दरबार लगता था। झूमरों और झालरों से चमकता-दमकता ये भवन वैसा ही है जैसा हम फिल्मों में राजाओं का दरबार देखा करते हैं। शहर की स्मारक की भव्यता देख चुके हैं तो शहर की हलचल में खो जाइए और दुनिया की कुछ बेहतरीन आभूषणों की दुकानों पर जा सकते हैं। यहाँ हाथ से बनाये हुए कालीन, मसाले और फलों का अनूठा गुच्छा इस पिंक शहर में चार चांद लगा देता है। अगर आप इस शहर को सर्दियों में देखते हैं तो ये शहर आपको अपने फाहे में खोने नहीं देगा और गर्मियों में तो शाम के वक्त आसमां लालिमा से भरा होता है और आप इस शहर के रंग में खोने लगते हैं।

ब्लू सिटी-जोधपुर

जरा सोचिए आप एक शहर को सबसे ऊँची जगह से देख रहे हैं और दूर-दूर तक आपको पूरा शहर एक ही रंग में मंजा हुआ नज़र आ रहा है। वो नज़ारा ही इतना खूबसूरत होता है कि आप उस दृश्य से ओझल नहीं होना चाहते। बस ऐसा ही खूबसूरत शहर है, जोधपुरमेहरानगढ़ के किले से जब पूरा जोधपुर नीला-नीला दिखता है तो फिर लगता है, ब्लू सिटी जैसी जगह कोई और नहीं।

चाहे इस शहर को पैदल नाप लो या ज़मीन से आसमां का रास्ता ले लो। ये शहर इतना खूबसूरत है कि आप जहाँ जायेंगे, वहाँ काफी समय तक रहना चाहेंगे। आपका मन करेगा कि इस जगह से जाए भी ना और दूसरी जगहें छूटें भी ना। इस शहर के घरों को नीले रंग से पेंट करने की पुरानी परंपरा है, घरों को नीला करने की वजह है गर्मी। गर्मी के दिनों में जब तापमान सिर चढ़ रहा होता है तब ये ब्लू कलर ही ठंडक देता है। बारिश में जब आसमां भी नीला होता है और जोधपुर भी नीला। तब वो नीला रंग सब कुछ खूबसूरत बना देता है मौसम भी, दृश्य भी और तापमान भी। वो दृश्य एक सुंदर पेंटिंग की तरह लगता है जिसे किसी बहुत अच्छे कलाकार ने अभी-अभी बनाया हो।

जोधपुर, अपने पड़ोसी शहर जयपुर की तुलना में काफी शांत हैं। यहाँ उतना शोर नहीं है, यहाँ के बाजार आज भी मेवाड़ के दिनों की याद दिला सकते हैं। उस समय का प्राचीन बाजार आज भी क्लाॅक टाॅवर के ईर्द-गिर्द आज भी जीवंत है। 

शहर की सबसे फेमस जगह है, मेहरानगढ़ का किला।मेहरानगढ़ का किला जो शहर के बाहरी हिस्से में पहाड़ी पर स्थित है। शहर से ही किले को देखा जा सकता है। ये किला महलों से भरा हुआ है क्योंकि ये राजा के परिवार का निवास स्थल हुआ करता था। इस किले की नक्काशी आपको बहुत पसंद आयेगी, चमकीले रंग की खिड़कियाँ। मेहरानगढ़ किले से तो जोधपुर की सुंदरता अविश्वसनीय है बस इतना ही कहा जा सकता है ये शहर नहीं रंगों का संसार है। मेहरानगढ़ फोर्ट के अलावा आप इस शहर में उम्मेद भवन जा सकते हैं, जसवंत थाड़ा, सिटी पैलेस और कल्याण लेक भी बहुत खूबसूरत जगहों में से एक हैं।

गोल्डन सिटी- जैसलमेर

जैसलमेर राजस्थान के सभी रंगीन शहरों में सबसे छोटा है। इसके बावजूद ये शहर खूबसूरती के मामले में बाकी शहरों से कम नहीं हैं। ये शहर हमें रेत की दुनिया में ले जाता है। रात में खुले आसमान के नीचे ठंडी हवाओं के बीच रेगिस्तानी दुनिया का हिस्सा और कोई शहर नहीं बना सकता। ये सिर्फ गोल्डन सिटी जैसलमेर ही कर सकता है, इस छोटे-से शहर में बहुत सारे मंदिर और संकरी गलियाँ है। इस शहर में घूमते हुए लगता है कि किसी अरब देश के शहर में है। इस छोटे-से शहर में गजब का आकर्षण है।

ये आकर्षण तब और बढ़ जाता है जब सूरज इस शहर पर पड़ता है और इस शहर की पीली ईमारतें सोने की तरह चमकने लगती हैं। सूरज डूबता है तब भी रात में ये शहर गोल्ड ही लगता है। शहर के बींचो-बीच जैसलमेर फोर्ट पैलेस है। इसके अलावा इस शहर में पटवों की हवेली है, जो बनावट में कुछ-कुछ हवा महल की तरह है। इसके अलावा रेगिस्तान, गडिसार झील, बाबा बाग और नाथमल की हवेली देखने लायक जगह हैं।

जैसेलमेर में ज्यादातर लोग यहाँ रात को रेत का आनंद लेने आते हैं। यहाँ वे ऊँट की सवारी करते हैं, यहाँ के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का हिस्सा बनते हैं और शिविर में रात गुज़ारते हैं। रेत में कई प्रकार के फेस्टिवल होते हैं जो आपको राजस्थान की संस्कृति से रूबरू कराते हैं और मज़ा भी बहुत आता है। ये शहर ही गोल्ड नहीं है यहाँ के लोग भी गोल्ड हैं बस इस शहर को देखने तो आओ।

व्हाइट सिटी- उदयपुर

उदयपुर को कलरफुल शहर ब्लू, पिंक और गोल्डन ना होने की वजह से अनदेखा किया जाता है। लेकिन वो लोग शायद भूल जाते हैं कि सबसे रोमांटिक मौसम होता है, बारिश का मौसम। इस मौसम में भारत की सबसे खूबसूरज जगहों में से एक है, उदयपुर। मॉनसून आते ही इस शहर की सफेदी बढ़ने लगती है। उदयपुर झील में तैरता हुआ वो शहर है जहाँ जो ना आये वो पछताये।

इस शहर की सबसे सुंदर जगह है सिटी पैलेसपिछोला झील के बीचों-बीच संगमरमर का बना पैलेस बहुत खूबसूरत है। देखने पर ऐसा लगता है कि ये नीले रंग की झील में तैर रहा है। इस महल को 16वीं शताब्दी में राजा ने गर्मियों में समय बिताने के लिए बनवाया था और आज वो महल एक शानदार होटल है। जहाँ सिर्फ नाव से ही पहुँचा जा सकता है। नाव से उस महल तक पहुँचने का सफर भी किसी जादू की तरह होता है। रात में ये शहर अपनी रोशनी में जगमगाता रहता है।

रात की छंटा में सफेद इमारतें चमकने लगती हैं। इस शहर को अगर आप सही मायने में देखना चाहते हैं तो फिर टूरिस्ट की तरह नहीं, ट्रैवलर की तरह चलना होगा। गाड़ियों से कम, अपने पैरों इस शहर को ज्यादा नापें, तब आप इस शहर की खूबसूरती को पहचान पायेंगे। रंगों से भरे इन शहरों का अपना ऐतहासिक महत्व है, उसी इतिहास ने इन शहरों को खूबसूरत बनाया है। अगर आप इन शहरों में घूमने जा रहे हैं तो इस शहर को देखने से ज्यादा समझने की कोशिश कीजिए। आपको ये शहर भी रंगों से भरे लगने लगेंगे और अपनी जिंदगी भी।

आपके लिए रंगीन राजस्थान की नगरी में सबसे पसंदीदा शहर कौन-सा है? हमें कॉमेंट्स में लिखकर बताएँ या यहाँ क्लिक कर अपना अनुभव Tripoto समुदाय के साथ बाँटें।

Be the first one to comment